लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Bihar ›   Patna ›   Bihar: Lalu yadav again reminded of Lal krishna Advani arrest, said- we will uproot the rebellious and fascist forces

बिहार: लालू को फिर आई 'बाबरी' मस्जिद और आडवाणी की गिरफ्तारी की याद, कहा- हम फिरकापरस्त ताकतों को उखाड़ फेकेंगे

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, पटना Published by: संजीव कुमार झा Updated Tue, 07 Dec 2021 09:25 AM IST
सार

राजद सु्प्रीमो लालू प्रसाद यादव ने एक बार फिर से बाबरी मस्जिद का राग अलापा है। आरजेडी प्रमुख ने लाल कृष्ण आडवाणी की गिरफ्तारी की भी याद दिलाई।

लालू यादव और लाल कृष्ण आडवाणी
लालू यादव और लाल कृष्ण आडवाणी - फोटो : पीटीआई
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

राष्ट्रीय जनता दल के प्रमुख लालू प्रसाद यादव ने एक बार फिर से बाबरी मस्जिद का मुद्दा उठाया है। इसके अलावा वर्ष 1990 में अपने मुख्यमंत्री कार्यकाल के दौरान भाजपा नेता लाल कृष्ण आडवाणी को गिरफ्तार किए जाने की बात की भी याद दिलाई है।  दरअसल, सोमवार रात राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव ने अपने पुराने दिनों को याद करते हुए ट्वीट किया कि 'राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद के मसले ने देश को एक नाजुक मोड़ पर खड़ा कर दिया था। मैंने आडवाणी को गिरफ्तार कर पूरे विश्व को एक संदेश दिया था कि भारत में आज भी शांतिप्रिय व धर्मनिरपेक्ष ताकतें मजबूत हैं। हममें इतनी शक्ति है कि हम फिरकापरस्त व फासीवादी ताकतों को उखाड़ फेकें।



गौरतलब है कि राष्ट्रीय जनता दल ने 6 दिसंबर यानी सोमवार को बाबरी मस्जिद शहादत दिवस मनाने का फैसला किया था। पार्टी के प्रदेश कार्यालय में बाबरी मस्जिद शहादत दिवस का आयोजन की जानकारी प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह ने की थी।




23 अक्तूबर 1990 को लालू ने किया था आडवाणी को गिरफ्तार
आडवाणी की रथ यात्रा 25 सितंबर 1990 को सोमनाथ से शुरू होकर 30 अक्तूबर को अयोध्या में कारसेवा के साथ खत्म होनी थी। मगर, बिहार पहुंचते-पहुंचते यात्रा को इतना जनसमर्थन मिला कि तत्कालीन सरकारें घबरा गईं। बिहार के तत्कालीन मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव ने 23 अक्तूबर को ही आडवाणी को गिरफ्तार कर लिया।

जातिगत जनगणना को लेकर लालू ने साधा निशाना
लालू प्रसाद यादव ने जातिगत जनगणना को लेकर भाजपा सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा यह सुनिश्चित करने की योजना बना रहे हैं कि जाति आधारित जनगणना न हो। देश में एससी/एसटी की आबादी बढ़ी है इसलिए सरकार को उन्हें नौकरी देनी पड़ रही है। सरकार इनकार कर सकती है, लेकिन हम यह सुनिश्चित करेंगे कि जाति आधारित जनगणना हो।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00