लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Business ›   Business Diary ›   ED Action: The country's biggest seizure action approved, ED's grip on this big company

ED Action: देश की सबसे बड़ी जब्ती कार्रवाई को मंजूरी, इस बड़ी कंपनी पर कसा ईडी का शिकंजा

बिजनेस डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Published by: विवेक दास Updated Fri, 30 Sep 2022 08:52 PM IST
सार

दरअसल, ईडी ने 29 अप्रैल को फेमा कानून के तहत शाओमी की इस बैंक जमा को जब्त करने का आदेश जारी किया था। बाद में इस आदेश को प्राधिकरण की स्वीकृति के लिए भेजा गया था। 
 

प्रवर्तन निदेशालय।
प्रवर्तन निदेशालय। - फोटो : amar ujala
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

विदेशी मुद्रा प्रबंधन कानून (फेमा) के सक्षम प्राधिकारी ने चीन की मोबाइल निर्माता कंपनी शाओमी के 5,551 करोड़ रुपये जब्त करने की कार्रवाई को मंजूरी दे दी। देश के इतिहास में यह सबसे बड़ी जब्ती की कार्रवाई है। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने बैंकों में जमा शाओमी की राशि जब्त करने का आदेश 29 अप्रैल को दिया था। 



बाद में, मंजूरी के लिए इसे सक्षम प्राधिकारी को भेजा गया। कानूनन यह स्वीकृति अनिवार्य है। देश में विदेशी मुद्रा विनियम के उल्लंघन से निबटने के लिए फेमा का इस्तेमाल किया जाता है। शाओमी भारत में एमआई व शाओमी के नाम से मोबाइल फोन का कारोबार करती है, जो चीन के शाओमी समूह के पूर्ण स्वामित्व वाली कंपनी है। 


ईडी के अनुसार, शाओमी ने भारत में 2014 में कारोबार शुरू किया और 2015 से देश से धन बाहर भेजना शुरू किया। कंपनी ने तीन विदेशी इकाइयों को रॉयल्टी के नाम पर 5551 करोड़ से अधिक का भुगतान किया। इसमें एक इकाई शाओमी समूह की खुद की है।

अवैध रूप से विदेश भेजी राशि  प्राधिकारी ने माना, 5551.27 करोड़ रुपये के बराबर मूल्य की विदेशी मुद्रा शाओमी ने गैरकानूनी रूप से विदेश भेजी। रॉयल्टी के नाम पर भुगतान सिर्फ विदेशी मुद्रा भारत से बाहर भेजने का बहाना भर था, जो फेमा का खुला उल्लंघन था।




47.64 लाख रुपये की क्रिप्टो मुद्रा व टीथर ईडी ने किया फ्रीज
ईडी ने मनी लॉन्डि्रग कानून (पीएमएलए) के तहत 47.64 लाख रुपये की आभासी मुद्रा क्रिप्टो और टीथर को फ्रीज किया है। ईडी ने मोबाइल गेमिंग एप्लिकेशन से जुड़ी आमिर खान नामक शख्स की जांच के दौरान कार्रवाई को अंजाम दिया है। एजेंसी ने बताया, कोलकाता की पार्क स्ट्रीट पुलिस की ओर से फेडरल बैंक की शिकायत पर दर्ज प्राथमिकी के आधार पर आमिर खान व अन्य के खिलाफ धन शोधन की जांच शुरू की गई थी।
विज्ञापन

ई-नगेट्स गेमिंग एप से ठगी
खान ने ई-नगेट्स के नाम से लोगों को ठगने के लिए मोबाइल गेमिंग एप बनाया था। इस एप के जरिये शुरू में तो मोबाइल गेम खेलने वालों को पैसे मिलते, लेकिन जब पर्याप्त राशि कंपनी के पास आ जाती, तो अचानक से किसी-न-किसी बहाने से पैसा मिलना बंद हो जाता। बाद में एप के सर्वर से सारा डाटा भी नष्ट कर दिया जाता था। खान के खिलाफ छापे में एजेंसी को 17.32 करोड़ रुपये बरामद हुए थे।

खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय Hindi News वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें कारोबार समाचार और Budget 2022 से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। कारोबार जगत की अन्य खबरें जैसे पर्सनल फाइनेंस, लाइव प्रॉपर्टी न्यूज़, लेटेस्ट बैंकिंग बीमा इन हिंदी, ऑनलाइन मार्केट न्यूज़, लेटेस्ट कॉरपोरेट समाचार और बाज़ार आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00