चंडीगढ़ के डीएवी कॉलेज सेक्टर-10 में किस कोर्स के लिए कितनी सीटें और खासियतें, यहां जानिए

रिशु राज सिंह/अमर उजाला, चंडीगढ़ Published by: खुशबू गोयल Updated Tue, 04 Jun 2019 11:20 AM IST
फाइल फोटो
फाइल फोटो
विज्ञापन
ख़बर सुनें
मिशन एडमिशन के तहत चंडीगढ़ के सबसे पुराने कॉलेजों में से एक सेक्टर-10 स्थित डीएवी कॉलेज की खासियतें, कोर्स, हॉस्टल व अन्य सुविधाओं के बारे में जानिए। बोर्ड रिजल्ट आने के बाद अब कॉलेजों में दाखिले की दौड़ शुरू हो गई है। ऐसे में विद्यार्थियों के मन में दाखिले को लेकर कई तरह के प्रश्न होते हैं कि किस कोर्स में दाखिला लें। कहां, कब और कैसे अप्लाई करें। अमर उजाला ‘मिशन एडमिशन’ सीरीज में शहर के हर कॉलेज के बारे में बताया जाएगा कि विद्यार्थियों को इनमें दाखिला क्यों लेना चाहिए।  
विज्ञापन


ये है कॉलेज की खासियत
नेशनल असेसमेंट और एक्रिडेशन काउंसिल (नैक) से ‘ए’ ग्रेड प्राप्त सेक्टर-10 स्थित डीएवी कॉलेज को शहर के बेहतरीन कॉलेजों में गिना जाता है। कॉलेज विद्यार्थियों को कॉमर्स, आर्ट्स और साइंस के विषयों में कई कोर्स ऑफर करता है। शिक्षा से साथ कॉलेज को खेल गतिविधियों के भी जाना जाता है। कॉलेज के खिलाड़ी नेशनल और इंटरनेशनल स्तर पर कॉलेज, शहर व देश का  प्रतिनिधित्व कर चुके हैं। टीम ने कई खिताब भी अपने नाम किए हैं। कॉलेज सांस्कृतिक कार्यक्त्रस्मों में अच्छा प्रदर्शन करता रहा है।


कॉलेज में एक मुख्य ऑडिटोरियम है, जिसकी कैपेसिटी 1200 है, वहीं एक मिनी ऑडोटेरिम है जिसमें करीब 300 लोग बैठ सकते हैं। कॉलेज में 4 रिसर्च लैब हैं। कॉलेज का अपना ऑर्गेनिक वेस्ट मैनेजमेंट प्रोसेसिंग प्लांट भी है, जो खुद अपने कचरे का निपटारा करते हैं। इसके लिए कॉलेज द्वारा बड़े स्तर पर कार्य किया जा रहा है। कॉलेज छात्रों के लिए विभिन्न क्लब भी चलाता है, जहां वे अपनी प्रतिभाओं को नाटकीय क्लब, संगीत क्लब, फोटोग्राफी क्लब और हाइकिंग क्लब जैसे शिक्षाविदों के अलावा प्रदर्शित कर सकते हैं।

कॉलेज में अनुशासन और सजावट को सुनिश्चित करने के लिए एक छात्र केंद्रीय संघ (एससीए) है, जो परिसर में अच्छे वातावरण को बनाए रखने में मदद करता है और कॉलेज में होने वाले विभिन्न कार्यक्त्रस्मों की व्यवस्था करता है। कॉलेज का अपना कॉलेज डिस्पेंसरी है, जहाँ डॉक्टर किसी भी छात्र या स्टाफ को स्वास्थ्य संबंधी समस्या के मामले में ड्यूटी पर होता है।

500 लड़कियों और 250 लड़कों के लिए हॉस्टल सुविधा

कॉलेज में लड़कों और लड़कियों दोनों के लिए हॉस्टल की सुविधा है। इन हॉस्टलों में लड़कियों के लिए 500 और लड़कों के लिए 250 की क्षमता है। हॉस्टल पाने के लिए विद्यार्थियों को दाखिला लेने के बाद अलग से एक फॉर्म भरना पड़ता है। हॉस्टल सीट का आवंटन योग्यता के आधार पर किया जाएगा। छात्रों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए जगह-जगह सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं। इन हॉस्टलों के मेस फुली एयर कंडीशन हैं। कॉमन रूम टीवी सेट, समाचार पत्र और इनडोर खेलों के साथ उपलब्ध हैं।

कॉलेज की लाइब्रेरी भी है खास
डीएवी कॉलेज की लाइब्रेरी काफी एडवांस मानी जाती है। कॉलेज में लाल चंद रिसर्च लाइब्रेरी में रिफ्ट (रेडियो फ्रीक्वेंसी इडिफिकेशन) मशीन उपयोग की जा रही है। 31 मई को हिमाचल प्रदेश के गवर्नर आचार्य देवव्रत ने इसका उद्घाटन किया। लाइब्रेरी में हजारों किताबें रखी गई हैं, जिसमें माइक्रो चिप लगायी गई है। यह मशीन विद्यार्थियों को किताब इश्यू करने काफी सहायक होगी साथ ही लाइब्रेरी में कौन सी किताब कहां है, अगर नहीं है तो किसे इश्यू की गई है। यह जानकारी भी विद्यार्थियों को आसानी से मिल सकेगी। साथ ही एक अन्य मशीन लगाई गई है, जिसे किताब वापिस करने में इस्तेमाल किया जाएगा।

आर्थिक रूप से कमजोर विद्यार्थियों के लिए सहायता
कॉलेज सत्र 2019-20 से आर्थिक रूप से कमजोर विद्यार्थियों के लिए एक योजना शुरूकरने जा रहा है। इसके तहत टॉप मैरिट में आने वाले विद्यार्थियों को शुल्क रियायतें, ट्यूशन शुल्क और लैब शुल्क छूट दी जाएंगी। साथ ही किताबें भी मुफ्त में दी जाएंगी। यह प्रोत्साहन सभी नए पोस्ट ग्रेजुएट छात्रों के शीर्ष 10 प्रतिशत और ग्रेजुएट छात्रों के सभी 5 प्रतिशत को दिया जाएगा।

अंडर ग्रेजुएट कोर्स        सीटों की संख्या
बीए (सामान्य)             1000
बी. कॉम            280
बीसीए            120
बीबीए            120
बीएससी (मेडिकल)        180
बीएससी (नॉन-मेडिकल)/ सीएससी    400
बीएससी (ऑनर्स) बायोटेक्नोलॉजी    25
मेडिकल लैब टेक्नोलॉजी में बी. वोक डिग्री    50
फूड साइंस एंड टेक्नोलॉजी में बी. वोक डिग्री    50
बीए, बी एड (इंटीग्रेटेड)        25
बीएससी, बी.एड (इंटीग्रेटेड)        25

अंडर ग्रेजुएट डिप्लोमा कोर्स        सीटें
कॉस्मेटोलॉजी और ब्यूटी केयर में डिप्लोमा    50
मेडिकल लैब टेक्नोलॉजी में एडवांस डिप्लोमा    50

पोस्ट ग्रेजुएट कोर्स        सीटें
एमकॉम             80
एम कॉम (बिजनेस इकोनॉमिक्स)    40
एमए (अंग्रेजी)            60
एमए (अर्थशास्त्र)        60
एमए (मनोविज्ञान)        40
एमए (पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन)        60
एमए (समाजशास्त्र)        60
एमएससी बायोटेक्नोलॉजी        40
एमएससी कैमिस्ट्री        40
एमएससी मैथ्स            60
एमएससी फिजिक्स        40    
एमएससी जूलॉजी        40

पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा कोर्स        सीटें
पोस्ट ग्रेजुएशन डिप्लोमा इन कंप्यूटर एप्लिकेशन    60
पोस्ट ग्रेजुएशन डिप्लोमा इन मार्केटिंग मैनेजमेंट    60
पोस्ट ग्रेजुएशन डिप्लोमा इन मास कम्यूनिकेशन    60

पीएचडी कोर्स    
कैमेस्ट्री में पीएचडी
फिजिक्स में पीएचडी
जूलॉजी में पीएचडी
बॉयो-टेकभनोलॉजी में पीएचडी

नॉन-सेंट्रलाइज्ड कोर्स
बीए-1, एमए इंगलिश, इकोनॉमिक्स, साइकॉलॉजी, पब्लिक एडमिस्ट्रेशन, एमएससी बॉयो टेक्नोलॉजी, कैमिस्ट्री, मैथ्स, फिजिक्स, जूलॉजी, एमकॉम(बीई) व अन्य कोर्स।

विद्यार्थियों को दिया जाता है पूरा अवसर
डीएवी संस्थान आज भी अपने पुराने मूल्यों पर काम कर रहा है। विद्यार्थियों को यहां अपना टैलेंट दिखाने का पूरा अवसर दिया जाता है। कॉलेज शिक्षा के क्षेत्र में नए प्रयोग कर रहा है। मॉर्डन लैब, स्मार्ट क्लास रूम, लाईब्रेरी आदि की सुविधा दी जा रही है।     
- डॉ. पवन शर्मा, प्रिंसिपल, डीएवी कॉलेज
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00