लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Chandigarh ›   Moosewala murder accused Deepak Tinu escaped from police custody

मूसेवाला हत्याकांड: आरोपी दीपक टीनू पुलिस हिरासत से भागा, पंजाब में अलर्ट, CIA प्रभारी गिरफ्तार

अमर उजाला/संवाद न्यूज एजेंसी, चंडीगढ़/बठिंडा Published by: ajay kumar Updated Sun, 02 Oct 2022 09:35 PM IST
सार

गैंगस्टर की तलाश को लेकर पूरे राज्य में अलर्ट जारी किया गया है। सूत्रों ने कहा कि राजस्थान और हरियाणा समेत पड़ोसी राज्यों की पुलिस को भी सतर्क कर दिया गया है। हरियाणा के सिरसा में संभावित ठिकानों पर छापे मारे गए।

गैंगस्टर दीपक टीनू
गैंगस्टर दीपक टीनू - फोटो : फाइल
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

पंजाबी गायक सिद्धू मूसेवाला की हत्या की साजिश में शामिल गैंगस्टर दीपक टीनू शनिवार रात को मानसा पुलिस की क्राइम इन्वेस्टिगेशन एजेंसी (सीआईए) की गिरफ्त से फरार हो गया। वह कुख्यात अपराधी लॉरेंस बिश्नोई का काफी करीबी है, जो मूसेवाला की हत्या का मुख्य साजिशकर्ता है। दीपक के खिलाफ हत्या व लूट के 32 से ज्यादा मामले कई राज्यों में दर्ज हैं। डीजीपी ने इस लापरवाही पर कड़ा संज्ञान लिया है। सीआईए प्रभारी एसआई प्रितपाल सिंह को बर्खास्त कर उसे गिरफ्तार कर लिया गया है।


 
सूत्रों ने बताया कि टीनू एक साजिश के तहत पुलिस कस्टडी से फरार हुआ है। उसे किसी अन्य केस में पूछताछ के लिए तरनतारन की गोइंदवाल साहिब जेल से वारंट पर लाया गया था। इसमें सीआईए प्रभारी प्रितपाल की मिलीभगत सामने आई है। शनिवार रात सीआईए प्रभारी पूछताछ के बहाने उसे मानसा से 25 किमी दूर प्राइवेट गाड़ी में झुनीर के एक गेस्ट हाउस में ले गया। उस दौरान कोई अन्य पुलिसकर्मी साथ में नहीं था। 


टीनू के पास एक मोबाइल फोन था, जिसकी मदद से उसने अपने साथियों को मानसा के पिक प्वाइंट पर बुलाया। मौका मिलते ही वह फरार हो गया। उसके बाद उसने कनाडा में अपने आका गोल्डी बराड़ से संपर्क साधा था। घटना की सूचना मिलने के बाद एआईजी गुरमीत चौहान के नेतृत्व में एंटी गैंगस्टर टास्क फोर्स की एक टीम मानसा पहुंची। इसके बाद आरोपियों को पकड़ने के लिए तलाशी अभियान शुरू कर दिया गया है। गैंगस्टर की तलाश को लेकर पूरे राज्य में अलर्ट जारी किया गया है। सूत्रों ने कहा कि राजस्थान और हरियाणा समेत पड़ोसी राज्यों की पुलिस को भी सतर्क कर दिया गया है। हरियाणा के सिरसा में संभावित ठिकानों पर छापे मारे गए।

दो हफ्ते पहले फोन बरामद हुआ था
गोइंदवाल साहिब जेल बैरक के अंदर टीनू के कब्जे से दो मोबाइल फोन बरामद हुए थे। यहां वह मूसेवाला हत्याकांड में छह अन्य आरोपियों के साथ बंद था। इस फोन के जरिए वह अपने गिरोह के सदस्यों के संपर्क में था और हो सकता है कि इस दौरान उसने पुलिस हिरासत से भागने की योजना बनाई हो।

लॉरेंस व गोल्डी के बीच की कड़ी है टीनू
मूसेवाला हत्याकांड में जिन 24 लोगों को चार्जशीट किया गया है, उनमें टीनू भी शामिल है। चार्जशीट के मुताबिक उसने शूटरों को कई मदद पहुंचाई थी। टीनू वही शख्स है, जो तिहाड़ जेल में बंद लॉरेंस बिश्नोई को सिद्धू मूसेवाला की हत्या के लिए विदेश में छिपे गोल्डी बराड़ से जोड़ता था। टीनू तिहाड़ जेल में बंद था। उसे चार जुलाई को तिहाड़ से ट्रांजिट रिमांड पर दिल्ली से लाया गया था।

दूसरी बार फरार हुआ
गैंगस्टर दीपक टीनू साल 2017 में भी हरियाणा पुलिस हिरासत से भाग चुका है। भागने के लिए उसने पुलिसकर्मियों की आंखों में मिर्च स्प्रे छिड़का था। बाद में उसे भिवानी पुलिस ने बंगलूरू से गिरफ्तार किया था। 
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय Hindi News वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00