लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Chandigarh ›   Haryana Former minister Sampat Singh will join Congress today

भाजपा पर कांग्रेस का पलटवार आज: कुलदीप बिश्नोई के धुर विरोधी पूर्व मंत्री संपत सिंह थमेंगे हाथ

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, चंडीगढ़ Published by: ajay kumar Updated Mon, 08 Aug 2022 07:00 AM IST
सार

संपत सिंह ने नलवा से 2009 में पूर्व सीएम भजनलाल की पत्नी जसमा देवी को हराया था। उसके बाद से ही संपत सिंह और भजन लाल परिवार दोनों एक-दूसरे खिलाफ रहे हैं। गौर हो कि पूर्व वित्त एवं गृह मंत्री रहे संपत सिह 1980 से राजनीति में सक्रिय हैं।

पूर्व मंत्री संपत सिंह।
पूर्व मंत्री संपत सिंह। - फोटो : फाइल
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

हरियाणा के पूर्व मंत्री संपत सिंह सोमवार को दोबारा से कांग्रेस का हाथ थामेंगे। पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा और प्रदेशाध्यक्ष उदयभान की अगुवाई में प्रो. संपत सिंह चंडीगढ़ स्थित कांग्रेस मुख्यालय में पार्टी की सदस्यता ग्रहण करेंगे। संभावना जताई जा रही कि प्रो. सिंह को आदमपुर में कुलदीप बिश्नोई के खिलाफ मैदान में उतारा जाएगा। बिश्नोई और प्रो. सिंह दोनों एक-दूसरे के धूर विरोधी हैं। कांग्रेस बिश्नोई को उपचुनाव में उनके घर में घेरने की तैयारी कर रही है। प्रोफेसर संपत सिंह का हिसार समेत आदमपुर में भी प्रभाव है और कांग्रेस इसे ही भूनाने के लिए दोबारा से उनको पार्टी में शामिल कर रही है। 



इससे पहले, सांसद दीपेंद्र सिंह हुड्डा चार अगस्त को दिल्ली में अखिल भारतीय कांग्रेस पार्टी के संगठन महामंत्री केसी वेणुगोपाल के साथ संपत सिंह की मुलाकात करा चुका है। प्रो. संपत सिंह अब तक 13 चुनाव लड़ चुके हैं, इनमें से 6 जीते हैं। वह दो बार पूर्व मुख्यमंत्री भजन लाल से हारे हैं, एक बार आदमपुर विधानसभा से और एक बार हिसार लोकसभा से। 


शुरू से ही प्रो. संपत सिंह कुलदीप बिश्नोई एक-दूसरे विरोधी रहे हैं। वर्ष 2016 में कुलदीप बिश्नोई के दोबारा से कांग्रेस में आने के बाद 2019 में संपत सिंह ने कांग्रेस छोड़कर भाजपा का दामन थाम लिया था। उस समय संपत सिंह ने नलवा से टिकट कटने पर कुलदीप बिश्नोई पर गंभीर आरोप लगाए थे। इसी कारण उन्होंने कांग्रेस छोड़ी थी। अब बिश्नोई कांग्रेस छोड़कर भाजपा में जा चुके हैं ऐसे में आदमपुर में उपचुनाव तय है। 

भाजपा की ओर से आदमपुर से कुलदीप बिश्नोई या उनके बेटा भव्य बिश्नोई चुनाव लड़ेंगे, जबकि कांग्रेस प्रो. सिंह पर दांव खेलने की कोशिश में है। संपत सिंह ने नलवा से 2009 में पूर्व सीएम भजनलाल की पत्नी जसमा देवी को हराया था। उसके बाद से ही संपत सिंह और भजन लाल परिवार दोनों एक-दूसरे खिलाफ रहे हैं। गौर हो कि पूर्व वित्त एवं गृह मंत्री रहे संपत सिह 1980 से राजनीति में सक्रिय हैं। पिछले एक साल से उन्होंने राजनीतिक कार्यक्रमों से दूरी बनाई थी और दोबारा से वह सक्रिय होंगे। 

दो पूर्व विधायकों समेत अन्य के भी कांग्रेस में शामिल होने की संभावना
प्रो. संपत सिंह के साथ-साथ दो पूर्व विधायकों और अन्य नेताओं के भी कांग्रेस में शामिल होने की संभावना है। सांसद दीपेंद्र सिंह हुड्डा इसकी कमान संभाले हुए हैं। वह कांग्रेस छोड़ चुके नेताओं और पूर्व विधायकों से लगातार संपर्क साध रहे हैं और संगठन को मजबूती देने की कोशिश कर रहे हैं। संभावना है कि सोमवार को पूर्व विधायक प्रोफेसर रामभगत और राधेश्याम शर्मा भी शामिल हो सकते हैं। हालांकि, कांग्रेस की तरफ से अभी तक इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं की गई है।
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00