चंडीगढ़ः राज्यमंत्री जयंत सिन्हा और किरण खेर ने युवाओं के मुद्दे छोड़ किया योजनाओं का गुणगान

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, चंडीगढ़ Updated Wed, 26 Sep 2018 05:59 PM IST
राज्यमंत्री जयंत सिन्हा और सांसद किरण खेर
राज्यमंत्री जयंत सिन्हा और सांसद किरण खेर
विज्ञापन
ख़बर सुनें
डीएवी कालेज सेक्टर-10 में मंगलवार को ‘यूथ एंड इवॉल्विंग न्यू इंडिया’ विद नागरिक उड्डयन राज्यमंत्री जयंत सिन्हा और सांसद किरण खेर ने हिस्सा लिया। इस दौरान युवाओं से रू-ब-रू होते हुए सांसद किरण खेर और जयंत सिन्हा युवा और नए भारत के विकास जैसे मुद्दों को छोड़कर प्रधानमंत्री की योजनाओं के गुणगान करते नजर आए। 
विज्ञापन


जयंत सिन्हा ने बताया कि देश में गुड क्वालिटी जॉब सबसे बड़ी समस्या है। सरकार इस पर काम कर रही है। वहीं, सांसद खेर ने 10 मिनट तक अपनी जिंदगी के किस्से सुनाए। उन्होंने युवाओं को खेल से जुड़ने के लिए प्रेरित किया। एक वाकया बताते हुए सांसद ने कहा कि जब वह पांच साल की थीं, तब गणित में 100 में से 98 अंक पाने पर मां ने जमकर फटकार लगाई थी। 


मंच पर आते ही चंडीगढ़ भाजपा अध्यक्ष संजय टंडन ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बाजपेयी की कविता ‘हम पड़ाव को समझे मंजिल, लक्ष्य हुआ आंखों से ओझल। वर्तमान के मायाजाल में, आओ अपना भविष्य न भुलाएं, आओ फिर से दीप जलाएं’ सुनाई। उन्होंने युवाओं को डॉक्यूमेंट बनाने के लिए प्रेरित किया। हालांकि, वे भी विषय से थोड़े भटके नजर आए। हालांकि, 20 मिनट बाद मंच पर कार्यक्रम के विशेष मेहमान जयंत सिन्हा ने ‘यूथ एंड इवॉल्विंग न्यू इंडिया’ पर अपने विचार रखे। 

जयंत सिन्हा ने युवाओं को एक पावर प्वाइंट प्रजेंटेशन के जरिए देश में अच्छी नौकरी और हाई पेड क्वालिटी जॉब की कमी को सबसे बड़ी समस्या बताई। उन्होंने कहा कि देश की यह सबसे बड़ी समस्या है और सरकार इस पर काम कर रही है। हालांकि इस दौरान वे प्राइवेट टैक्सी कंपनियों की तरक्की की तारीफ करते रहे।

छात्रों के सवालों का जवाब

कार्यक्रम में मौजूद छात्र-छात्राएं
कार्यक्रम में मौजूद छात्र-छात्राएं
सवाल : क्या मोदी केयर योजना के लिए पर्याप्त बजट है। इसे देश में कितने समय में लागू किया जाएगा। कब तक देशभर में लागू किया जा सकता है। 
जवाब: प्रधानमंत्री ने आयुष्मान भारत योजना बनाई है। केंद्र की बहुत सारी योजनाएं चल रही हैं, लेकिन आयुष्मान भारत योजना को लेकर लोग सबसे अधिक उत्साहित हैं। यह एक बेहतरीन उदाहरण है। डिजिटलाइजेशन को प्रमोट किया जा रहा है। झारखंड में रह कर आप मुंबई के टाटा अस्पताल में कैंसर का इलाज करवा सकते हैं। केंद्र सरकार इस योजना के तहत इंश्योरेस दे रही है, लेकिन इसमें प्राइवेट सेंटर अधिक भाग ले रहे हैं। 100 साल बाद यह योजना याद रहेगी।  

सवाल : क्या नया भारत देश की ट्रैफिक को कंट्रोल कर सकता है। तकनीक के हिसाब से क्या कदम उठाएं जा रहे हैं। -निष्ठा एमकॉम छात्रा
जवाब: सुरक्षा पहली प्राथमिकता है। इसकी चिंता भी है। मॉनीटर कर रहे हैं। ग्लोबल एंजेंसी से सुरक्षा को मानीटर करवाया जा रहा है। इस सुरक्षा व्यवस्था से संतुष्ट हूं।

सवाल: देश में आइडियल डिजिलाइजेशन और टेक्नोलॉजी के विकास के लिए किस तरह के इंफ्रॉस्ट्रक्चर का विकास किया जा रहा है, क्योंकि अभी हमारे पास इतने पर्याप्त साधन नहीं है। -भावना एमकॉम छात्रा  

नागरिक उड्डयन राज्यमंत्री जयंत सिन्हा
नागरिक उड्डयन राज्यमंत्री जयंत सिन्हा
जवाब: यह बहुत अच्छा सवाल है। लेस इनपुट मोर आउटपुट। आपने आर्थिक इतिहास को पढ़ा है। टेक्नोलॉजी सिर्फ कंप्यूटर नहीं है। ड्रोन सहित तमाम तरह की अन्य टेक्नोलॉजी हैं। सरकार अच्छे कदम उठा रही है। सरकार जल्द 5जी लेकर आ रही है। सिक्किम में ऑपरेशन एयरपोर्ट बनाया है। मोबाइल डेटा की कीमत कम की है। वर्ल्ड में देश सबसे अधिक मोबाइल डाटा प्रयोग कर रहा है। टेक्नोलॉजी के जरिए बैंकिंग में भी विकास हुआ है। 

सवाल:  किसानों को टेक्नोलॉजी से कैसे रू-ब-रू करवाया जा रहा है। उन्हें कैसे जागरूक किया जा रहा है। -शिप्रा, एमकॉम की छात्रा 
जवाब: ओला, उबर ड्राइवर को पढ़ाने की जरूरत नहीं है। वे मैप से समझ जाते हैं। आपको सभी को पढ़ाने की जरूरत नहीं है। पेमेंट ऑटोमेटिक हो रही है। आपमें से कौन-कौन गूगल व अन्य ऐप यूज करते हैं। यह टेक्नोलॉजी है। कंप्यूटर खरीदना बेहद आसान है। लिटरेसी अच्छी है, लेकिन इसे टेक्नोलॉजी की आवश्यकता नहीं है। 

नागरिक उड्डयन राज्यमंत्री जयंत सिन्हा
नागरिक उड्डयन राज्यमंत्री जयंत सिन्हा
सवाल: मेकिंग इंडिया कैंपेन को केंद्र सरकार उस उपलब्धि तक पहुंचा नहीं पाई है, जैसा सोचा था। इसकी वजह क्या है और इसे विकसित करने के लिए क्या किया जा रहा है।  -सन्नी ठाकुर, एमकाम के छात्र
जवाब: स्टूडेंट, लगता है आप मीडिया के बारे में ज्यादा पढ़ने लगे हैं। यह सच नहीं है। छोटी कारों व मोबाइल के निर्माण में भारत नंबर वन पर है।  

सवाल: न्यू डेवलपमेंट ऑफ इंडिया इन यूथ और इसका आर्थिक व्यवस्था पर कितना असर पड़ेगा। -बसीर, एमए इतिहास के छात्र 
जवाब: युवाओं पर पूरी तरह फोकस किया जा रहा है। उनके स्किल और मोटिवेशन पर काम हो रहा है। भारत में अब सबसे अधिक स्टार्टअप बिजनेस तेजी से बढ़ रहा है। युवा जॉब सिकर नहीं क्रिएटर हो गए हैं। मुद्रा प्रोग्राम, स्टार्टअप योजना और प्राइवेट कंपनियों का उदाहरण देखो। इसमें भी उन्होंने प्राइवेट टैक्सी कंपनी का उदाहरण दे डाला।  
जवाब: केंद्र सरकार युवाओं के रोजगार के लिए क्या कदम उठा रही है या उठाने वाली है। -रंजन गोयल, एमकाम के छात्र

जवाब: युवाओं के लिए एजूकेशन और मुद्रा योजना में बड़ा कदम उठाया जा रहा है। भारत को कैसे महान बनाया जाए। यह सिर्फ युवा ही कर सकते हैं। वे ही भारत को महान बनाएंगे। आप अपना स्टार्टअप बनाएं। कदम उठाएं, तब ही भारत विकसित होगा। जॉब ऑफ गवर्नमेंट आपको साधन देगी। एशिया क्रिकेट मैच देख रहे हो आप लोग। सरकार अंपायर है शतक तो आपको मारना है। आप अपने बारे में सोचिए। हम तो समर्थन के लिए आपके साथ खड़े हैं। 
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00