पानीपत में दम घुटने से तीन की मौत: सीवरेज टैंक की सफाई के वक्त हादसा, मजदूर-सिविल इंजीनियर व राहगीर की गई जान

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, पानीपत (हरियाणा) Published by: ajay kumar Updated Fri, 08 Oct 2021 08:30 PM IST

सार

हरियाणा के पानीपत में शुक्रवार को बड़ा हादसा हो गया। सीवरेज टैंक की सफाई करते वक्त दम घुटने से तीन लोगों की मौत हो गई। मृतकों में एक मजदूर, सिविल इंजीनियर और एक राहगीर शामिल है। टीडीआई सिटी में शुक्रवार दोपहर ढाई बजे हादसा हुआ। 
मृतक जाहिद और सुमित की फाइल फोटो।
मृतक जाहिद और सुमित की फाइल फोटो। - फोटो : संवाद न्यूज एजेंसी
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

पानीपत के सेक्टर-23 स्थित टीडीआई सिटी में एसटीपी (सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट) के अंदर सीवरेज टैंक की जहरीली गैस से एक मजदूर, एक सिविल इंजीनियर और एक राहगीर की मौत हो गई। हादसा शुक्रवार की दोपहर करीब ढाई बजे का है। जब एक मजदूर सीवरेज मेनहोल का ढक्कन खोलकर सफाई करने नीचे उतरा लेकिन बाहर नहीं आने पर इंजीनियर को नीचे उतरना पड़ा, वह भी बाहर नहीं आया। इसके बाद एक राहगीर उन्हें बचाने नीचे उतरा लेकिन वह भी बाहर नहीं आया।
विज्ञापन


आनन-फानन जेसीबी की मदद से सीवरेज को तोड़ा गया और तीनों को बाहर निकाला गया। स्थानीय लोगों ने उन्हें सामान्य अस्पताल पहुंचाया, जहां डॉक्टर ने तीनों को मृत घोषित कर दिया। तीन में से राहगीर की पहचान नहीं हो सकी है। टीडीआई सिटी में शुक्रवार को एसटीपी के अंदर सीवरेज टैंक की सफाई करने की तैयारी चल रही थी। इसी बीच यूपी के जिला अमरोहा निवासी जाहिद (18) को सीवरेज टैंक में उतरकर सफाई के लिए कहा गया। 


यह भी पढ़ें: फगवाड़ा: मौत पर रोने वाला बेटा ही निकला पिता का 'कातिल', पुलिस को खुद दी थी हत्या की शिकायत

सीवरेज टैंक का ढक्कन न खुलने पर पास में काम कर रहे सिविल इंजीनियर को बुलाया गया। सभी की मदद से ढक्कन खोला गया और जाहिद करीब 20 फीट गहरे सीवरेज टैंक में उतार गया। 10 मिनट बाद अंदर से कोई हलचल न होने पर आवाज लगाई गईं, लेकिन कोई जवाब नहीं मिला। जिसके बाद गांव बड़ौली निवासी सिविल इंजीनियर सुमित मिटान (26) नीचे उतरे लेकिन वह भी नीचे ही रह गए। फिर दोनों को देखने के लिए एक राहगीर नीचे गया लेकिन वह भी वापस नहीं आया। 

इसी बीच तीनों के अंदर फंस जाने से हड़कंप मच गया। हादसे की सूचना मिलते ही मौके पर एएसपी पूजा वशिष्ठ, चांदनीबाग थाना प्रभारी मंजीत सिंह सहित अन्य पुलिस अधिकारी-कर्मचारी पहुंचे। वहीं मौके पर एफएसएल की टीम भी पहुंची, जिन्होंने हादसे की जांच की और प्रत्यक्षदर्शियों के बयान दर्ज कराए।

मैनेजमेंट पर आरोप, नहीं पहनाई सुरक्षा किट, न ही दी थी रस्सी
परिजनों ने मैनेजमेंट पर आरोप लगाया है कि सुपरवाइजर ने मजदूर को न ही कोई सुरक्षा किट पहनाई थी, न ही कोई ऑक्सीजन मास्क पहनाया गया था। इसके अलावा नीचे उतारने से पहले उसके शरीर पर कोई रस्सी भी नहीं बांधी गई। जिस वजह से अंदर फंसे मजदूर से कोई संपर्क नहीं हो सका और उसकी मौत हो गई।

यह भी पढ़ें: पंजाब की सियासत : अगला हफ्ता बेहद अहम, नई पार्टी का एलान कर सकते हैं अमरिंदर, कांग्रेस चौकस

परिजनों के बयान पर की जाएगी कार्रवाई 
सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंच गई थी, शवों को पोस्टमार्टम के लिए सामान्य अस्पताल के शव गृह में रखवा दिया गया है, परिजनों के बयान के आधार पर आगामी कार्रवाई की जाएगी।- पूजा वशिष्ठ, एएसपी, पानीपत।
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय Hindi News वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00