बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP
विज्ञापन
विज्ञापन
अपार धन की प्राप्ति हेतु कामिका एकादशी को कराएँ श्री लक्ष्मी-विष्णु जी का विष्णुसहस्त्रनाम-फ्री, रजिस्टर करें
Myjyotish

अपार धन की प्राप्ति हेतु कामिका एकादशी को कराएँ श्री लक्ष्मी-विष्णु जी का विष्णुसहस्त्रनाम-फ्री, रजिस्टर करें

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

गर्व : चंडीगढ़ की शूटर गौरी श्योराण बनीं ग्लोबल एंबेसडर, अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर मिला सम्मान

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर चंडीगढ़ की शूटर गौरी श्योराण को इंटरनेशनल वुमन क्लब ने 2021 का ग्लोबल एंबेसडर नियुक्त किया है। एक ऑनलाइन कार्यक्रम में चेक...

18 अप्रैल 2021

विज्ञापन
Digital Edition

एचआईवी संक्रमित ने उठाया खौफनाक कदम: चंडीगढ़ में अस्पताल की छठी मंजिल से लगाई छलांग, मौत

चंडीगढ़ के जीएमसीएच-32 के छठी मंजिल से एचआईवी के एक 46 वर्षीय मरीज ने छलांग लगा दी। जिससे दूसरी मंजिल पर गिरने से उसकी मौत हो गई। मृतक मूलरूप से उत्तर प्रदेश के गोरखपुर का रहने वाला था। पिछले 24 जुलाई से वह एचआईवी, टीवी समेत अलग-अलग गंभीर बीमारियों के कारण अस्पताल में भर्ती था। पुलिस की शुरुआती जांच में व्यक्ति मानसिक तौर पर परेशान होने के चलते छलांग लगाई है।

शुक्रवार दोपहर पुलिस कंट्रोल रूम को सूचना मिली कि जीएमसीएच-32 के छठी मंजिल से एक मरीज ने छलांग लगा दी है। सूचना पर पहुंची पुलिस ने पाया कि व्यक्ति को इमरजेंसी में भर्ती करवाया गया लेकिन उसकी मौत हो चुकी थी। पुलिस जांच में सामने आया कि मृतक हिमाचल प्रदेश के बद्दी स्थित एक पेपर मिल में काम करता था। 

वह एचआईवी समेत कई और बीमारियों से ग्रसित था। इसके चलते उसे इलाज के लिए जीएमसीएच-32 के छठी मंजिल स्थित सी ब्लॉक में भर्ती करवाया गया। उसकी देखभाल के लिए पत्नी और 12 वर्षीय बेटा साथ में था। शुक्रवार दोपहर वह बेटे और पत्नी को चकमा देकर बालकनी में आ गया और वहां से छलांग लगा दी। इस दौरान उसके सिर और शरीर के अन्य हिस्सों पर गंभीर चोटें आई। आवाज सुनकर स्टाफ कर्मचारी व्यक्ति को तुरंत इमरजेंसी ले गए, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। फिलहाल सेक्टर-34 थाना पुलिस ने शव को अस्पताल के शवगृह में रखवा कर मामले की छानबीन शुरू कर दी है।
... और पढ़ें
अस्पताल से मरीज ने लगाई छलांग। अस्पताल से मरीज ने लगाई छलांग।

टोक्यो ओलंपिक: हॉकी में मिला स्वर्ण तो टीम में शामिल पंजाब के हर खिलाड़ी को मिलेंगे सवा दो करोड़ रुपये 

टोक्यो ओलंपिक में अगर भारतीय हॉकी टीम ने स्वर्ण जीता तो टीम में शामिल पंजाब के खिलाड़ी करोड़पति हो जाएंगे। पंजाब के खेल मंत्री राणा गुरमीत सिंह सोढ़ी ने घोषणा की कि टोक्यो ओलंपिक में हॉकी टीम के स्वर्ण पदक जीतने पर पंजाब के प्रत्येक खिलाड़ी को 2.25 करोड़ रुपये मिलेंगे। शुक्रवार को भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने पूल एक के आखिरी मैच में जापान को 5-3 से हरा दिया। यह टीम इंडिया की लगातार तीसरी जीत है। शुरू से ही भारतीय टीम आक्रामक नजर आ रही थी। हाफ टाइम तक भारत 2-1 से आगे था। इसके ठीक बाद 31वें मिनट में जापान ने गोल दागा और स्कोर को 2-2 की बराबरी पर ला दिया। इसके तुरंत बाद भारत ने 34वें मिनट में एक और गोल दागकर जापान पर 3-2 की बढ़त बना ली। 51वें मिनट में नीलकंठ ने भारत की तरफ से गोल किया।

इसके साथ ही टीम इंडिया जापान पर 4-2 की बढ़त बना ली है। वहीं, 56वें मिनट में गुरजंत ने गोलकर टीम इंडिया को 5-2 की बढ़त दिलाई। वहीं, खेल के 59वें मिनट में जापान ने गोल किया। इसके बाद फुलटाइम आ गया और भारत यह मुकाबला 5-3 से अपने नाम कर लिया। इस जीत के साथ ही टीम इंडिया पूल ए में दूसरे स्थान पर रही और अब एक अगस्त को क्वार्टरफाइनल में उसका मुकाबला ग्रुप बी के तीसरे स्थान की टीम से होगा। 

वहीं टोक्यो ओलंपिक में भारतीय महिला हॉकी टीम ने आज अपनी जीत का खाता खोल लिया। आयरलैंड के खिलाफ खेले गए मैच में रानी रामपाल की अगुवाई वाली टीम ने 1-0 से जीत दर्ज की। इस जीत  के साथ भारत की क्वार्टर फाइनल में पहुंचने की उम्मीद बरकरार है। मैच में भारत की तरफ से 57वें मिनट में नवनीत कौर ने गोला दागा। 
 
 
... और पढ़ें

हरियाणा: हर जिले में बनेगी विशेष गो सुरक्षा कार्य बल समिति, सरकार ने जारी की अधिसूचना

मवेशी तस्करी और गोकशी मामलों में शामिल लोगों पर हरियाणा सरकार नकेल कसने जा रही है। हरियाणा सरकार ने जिला स्तर पर स्पेशल काऊ टास्क फोर्स का गठन किया है। शुक्रवार को इसकी अधिसूचना जारी की गई। पिछले साल नवंबर में गो सेवा आयोग की बैठक में मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने इसके गठन के निर्देश दिए थे।



इस फोर्स में सरकारी और गैर-सरकारी सदस्य शामिल होंगे। जिनमें पुलिस, पशुपालन, शहरी स्थानीय निकाय विभाग के अधिकारी और हरियाणा गो सेवा आयोग, गोरक्षक समितियों और गो-सेवकों के पांच सदस्य होंगे। टास्क फोर्स की स्थापना का मुख्य उद्देश्य राज्यभर में मुखबिरों और उनके खुफिया नेटवर्क के माध्यम से मवेशियों की तस्करी और गोकशी के बारे में जानकारी जुटाना और मुखबिरों से प्राप्त जानकारी के बाद अवैध गतिविधियों पर त्वरित कार्रवाई करना है।


मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार सभी गोशालाओं को अनुदान राशि प्रदान करेगी। राशि उपयोगी और अनुपयोगी पशुओं के अनुपात के अनुसार देंगे। उन्होंने कहा कि विधानसभा में पारित प्रस्ताव के अनुसार 33 प्रतिशत से कम अनुपयोगी पशुओं को रखने वाली गोशालाओं को कोई सरकारी अनुदान प्रदान नहीं किया जाएगा।

33 प्रतिशत से 50 प्रतिशत तक अनुपयोगी पशुओं को रखने वाली गोशालाओं को प्रति वर्ष 100 रुपये प्रति पशुधन मिलेगा। 51 प्रतिशत से 75 प्रतिशत तक अनुपयोगी पशुओं को रखने वाली गोशालाओं को प्रति वर्ष 200 रुपये प्रति पशुधन दिया जाएगा। 76 प्रतिशत से 99 प्रतिशत तक अनुपयोगी पशुओं को रखने वाली गोशालाओं को प्रति वर्ष 300 रुपये प्रति पशुधन देंगे।    
     
मुख्यमंत्री ने कहा कि शत-प्रतिशत अनुपयोगी पशुओं को रखने वाली गोशालाओं को प्रति वर्ष 400 रुपये प्रति पशुधन दिया जाएगा। नंदी और अनुपयोगी गायों को रखने वाली गोशालाओं को प्रति वर्ष 400 रुपये प्रति पशुधन मिलेगा। उन्होंने हरियाणा गो सेवा अयोग को उपरोक्त नियमों और शर्तों के अनुसार एक विस्तृत बजट कार्य योजना तैयार करने के निर्देश दिए।
... और पढ़ें

पठानकोट: उफनते खड्ड में गिरे तीन भाई-बहन, पानी में फंसी लड़की को एनडीआरएफ नहीं निकाल पाई, युवक ने बचाया  

पठानकोट के जीएनडीयू कॉलेज लमीनी के सामने शुक्रवार सुबह एक लड़की और उसके दो भाई बहन गहरे पानी में गिर गए। लड़की को बचाने में एनडीआरएफ के प्रयास कम पड़े तो एक बाबा ने अपनी जान जोखिम में डालकर उसे बाहर निकाल लिया। धारकलां की रहने वाली 22 वर्षीय उमा पठानिया और भार्गवी अपने मौसेरे भाई रितीश राजपूत के साथ कॉलेज जा रही थीं।

जब वे जीएनडीयू के सामने खड्ड पर बनी सड़क से गुजर रहे थे तो खड्ड में उफान आ गया और तीनों भाई-बहन स्कूटी समेत पानी में गिर गए। रितीश और भार्गवी तेज बहाव में बहकर आगे निकल गए और उथले स्थान से निकल आए। लेकिन, उमा पानी के बवंडर में फंस गई। आसपास के लोगों ने पुलिस को सूचित किया। मौके पर थाना एक प्रभारी के अलावा डीएसपी सिटी, तहसीलदार व दमकल विभाग की टीम पहुंची। 2 घंटे बाद एनडीआरएफ की टीम भी पहुंची। कई प्रयासों के बावजूद उमा पठानिया का पता नहीं चला। 



इसी दौरान खड्ड के दूसरी तरफ लोगों ने बवंडर के पास एक हाथ देखा और शोर मचा दिया। गौर से देखने पर पता चला कि लड़की सड़क के नीचे बनी खोखली जगह पर बैठी थी। एनडीआरएफ की टीम ने दोबारा कोशिश की पर विफल रही। उसके बाद स्थानीय बाबा दमकल विभाग की सीढ़ी लगाकर पानी में उतर गया। चंद पलों में बाबा उमा पठानिया को बाहर खींच लाया। इसके बाद एनडीआरएफ टीम और स्थानीय लोगों ने भी पानी में छलांग लगा दी और लड़की को पानी से बाहर ले आए। लड़की को एनडीआरएफ ने प्राथमिक चिकित्सा और इलाज के लिए निजी अस्पताल में भर्ती करवाया। उसकी हालत सामान्य है। 

मौसेर भाई के साथ कॉलेज जा रही थी लड़की
एएसआई दलबीर ने बताया कि उमा अपनी गांव करोली निवासी मौसी दीपिका पठानिया के यहां रहने आई थी। शुक्रवार सुबह वह अपने भाई-बहन के साथ एबी कॉलेज जा रही थी कि रास्ते में यह घटना घट गई। 

बाबा बोले, प्रशासन का इंतजार करते तो लड़की की जान चली जाती
लड़की को बचाने वाले बाबा यशपाल गिरी ने बताया कि जब उन्हें पता चला कि लड़की जिंदा है और एनडीआरएफ की टीम उस तक नहीं पहुंच पा रही तो उन्होंने छलांग लगा दी और लड़की को खोखली जगह से बाहर निकाल लिया। यशपाल गिरी का कहना है कि इंतजार करते रहते तो लड़की की जान चली जाती।
... और पढ़ें

फतेहाबाद में आफत बनी बारिश: तीन दिन में 200 एमएम बरसात, पुरानी इमारत गिरी, पांच फुट तक भरा पानी

पठानकोट में युवती को बचाते लोग।
फतेहाबाद शहर में पिछले तीन दिनों से हो रही बारिश अब आफत बन गई है। शहर में तीन दिन में 200 एमएम से अधिक बारिश हुई है। इसके कारण पूरे शहर में बाढ़ जैसे हालात हो गए हैं। शहर का सबसे प्रमुख जवाहर चौक झील में तबदील हो गया।



बरसात के कारण तहसील चौक पर खाटू श्याम मंदिर के पास पुरानी इमारत का ऊपरी हिस्सा गिर गया। इस इमारत के निचले हिस्से में आटा चक्की चल रही है। हालांकि, जान की कोई हानि नहीं हुई, लेकिन ऊपरी हिस्सा गिरने से आटा चक्की संचालक का काफी सामान क्षतिग्रस्त हो गया। इसके अलावा मेन बाजार में ही एक मकान की दीवार गिर गई। इससे वहां रखी अलमारी व अन्य सामान टूट गया। परिवार के सदस्य बाल-बाल बच गए। दूसरी तरफ इनेलो नेता अभय सिंह चौटाला और कांग्रेसी नेताओं ने जलभराव में डूबे शहर की फोटो ट्वीट करके प्रदेश सरकार और विधायकों पर निशाना साधा है।


अरोड़वंश धर्मशाला के दुकानदारों ने किया प्रदर्शन
जल निकासी की बेहतर व्यवस्था नहीं होने से नाराज दुकानदारों ने विधायक व प्रशासन के खिलाफ प्रदर्शन किया। दुकानदारों ने कहा कि चुनाव के समय उन्होंने विधायक को इसलिए वोट दिए थे ताकि वह पानी निकासी की बेहतर व्यवस्था करवाएंगे। मगर अब हालात ऐसे हो गए हैं कि उनका कारोबार ठप होने की नौबत आ गई है। दुकानदारों ने आरोप लगाए कि अधिकारियों के भ्रष्टाचार के कारण शहर में पानी निकासी की बेहतर व्यवस्था नहीं हो पा रही है। विधायक भी अधिकारियों पर लगाम नहीं लगा पा रहे हैं। तीन दिन से बाजारों में जलभराव है। मगर प्रशासन पूरी तरह नाकाम हो चुका है।

दुकानों में घुस गया पानी
फतेहाबाद शहर के जवाहर चौक, धर्मशाला रोड, थाना रोड व जीटी रोड पर भारी बारिश के कारण दुकानों में पानी घुस गया। दुकानदार बाल्टियों से दुकानों में घुसा पानी बाहर निकालते रहे। चिल्ली क्षेत्र में भी कई घरों में बरसाती पानी भर गया। लोगों का आरोप है कि सीवरेज सिस्टम के सहारे शहर में पानी निकासी करवाई जा रही है। मगर सीवर लाइन से पानी सात घंटों से भी अधिक समय बाद निकलता है। प्रशासन ने बरसाती पानी निकासी के लिए अलग से कोई नाले का निर्माण नहीं करवाया है।
... और पढ़ें

पीएम को चिट्ठी: आठ माह से बंद टिकरी बॉर्डर खुलवाने के लिए एकजुट हुए उद्यमी, सरकार को दी चेतावनी

कृषि कानूनों के विरोध में आठ माह से किसानों का आंदोलन जारी है। हरियाणा की सीमाएं बंद होने से उद्योगों का काफी नुकसान हो रहा है। अब औद्योगिक संगठन बहादुरगढ़ चैंबर आफ कामर्स एंड इंडस्ट्रीज (बीसीसीआई) से जुड़े उद्यमियों ने गुरुवार को प्रदर्शन कर आठ महीने से बंद टिकरी बॉर्डर खुलवाने की मांग की है। प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री को चिट्ठी लिखकर उद्यमियों ने कहा है कि बहादुरगढ़-दिल्ली का मुख्य रास्ता बंद रहने से स्थानीय उद्यमियों को 20,000 करोड़ रुपये का नुकसान हो चुका है जबकि 7.5 लाख लोगों का रोजगार प्रभावित हो रहा है। उद्यमियों ने चेतावनी दी कि यदि रास्ते तुरंत नहीं खुलवाए गए तो वे सड़कों पर उतरेंगे। 

बहादुरगढ़ के उद्यमी गुरुवार को बीसीसीआई के वरिष्ठ उपाध्यक्ष नरिन्दर छिकारा के नेतृत्व में आधुनिक औद्योगिक क्षेत्र (एमआइई) में इकट्ठे हुए और रोष जताते हुए नारेबाजी भी की। इन उद्यमियों में हरिशंकर बाहेती, विकास आनंद सोनी और विनोद जैन भी शामिल थे। सूचना मिलने पर एसडीएम हितेंद्र कुमार मौके पर पहुंचे और उद्यमियों से बातचीत की। 


उद्यमियों ने उन्हें बताया कि टिकरी बॉर्डर बंद होने के बाद बहादुरगढ़ की फैक्ट्रियों के वाहनों व अन्य वाहनों को एमआई पार्ट-2 से खेतों के कच्चे रास्ते होकर से दिल्ली जाना पड़ता है। इस रास्ते से एमसीडी को टोल देना पड़ता है और रास्ता देने के लिए खेतों के मालिक प्रति वाहन 100-100 रुपये लेते हैं। खेतों के रास्ते में पानी भर गया है। वाहनों का निकलना मुश्किल हो गया है। इसलिए ट्रांसपोर्ट खर्च 300 प्रतिशत बढ़ गया है। इसके अलावा समय भी ज्यादा लगता है। उद्योगपतियों ने एसडीएम को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री मनोहर लाल के नाम अपनी मांग के अलग-अलग पत्र सौंपे।

साढ़े सात लाख लोगों की रोजी पर संकट
प्रधानमंत्री को भेजे पत्र में नरिंदर छिकारा ने कहा है कि बहादुरगढ़ के उद्योगों का कुल टर्नओवर करीब 80,000 करोड़ है। जिसमें से किसान आंदोलन की वजह से करीब 20,000 करोड़ का नुकसान हो चुका है। इस तरह बहादुरगढ़ के उद्योग गहरे संकट में फंसे हैं। परोक्ष व अपरोक्ष रूप से रोजगार पा रहे 7,50,000 लोगों के रोजगार पर आठ महीने से संकट है। सरकार को भी अरबों रुपये राजस्व का नुकसान हो रहा है। आंदोलनकारी किसानों ने एनएच-9 के दोनों तरफ की सड़क को घेर रखा है। 
... और पढ़ें

PSEB Punjab 12th Result: पीएसईबी पंजाब बोर्ड 12वीं का रिजल्ट घोषित, 96.48% छात्र पास

हरियाणा: मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने लांच की नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति, अब सुधारों पर रहेगा जोर

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने शुक्रवार को प्रदेश में नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति लांच की। इस दौरान सीएम ने कहा कि इस नीति को 2025 तक पूरी तरह लागू करने का लक्ष्य है। शिक्षा के मूलभूत ढांचे में बदलाव के साथ ही गुणवत्तापूर्ण शिक्षा देना सरकार का उद्देश्य है।

देश में राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 के लागू होने के एक वर्ष पूर्ण होने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तरफ से शिक्षा क्षेत्र में की गई विभिन्न नई पहलों को हरियाणा में तुरंत लागू करने के लिए मुख्यमंत्री ने शिक्षा विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि इससे हरियाणा वर्ष 2025 तक राष्ट्रीय शिक्षा नीति (एनईपी) के सफल क्रियान्वयन को सुनिश्चित करने के लक्ष्य को पूरा कर सकेगा। गुरुवार को मोदी के कार्यक्रम में मुख्यमंत्री मनोहर लाल, गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज और शिक्षा मंत्री कंवर पाल चंडीगढ़ से वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से जुड़े।


हरियाणा के राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय ने राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 के एक वर्ष पूरा होने पर प्रदेश वासियों के साथ-साथ शिक्षाविदों, अभिवावकों विशेष रूप से युवाओं को बधाई एवं शुभकामनाएं दी हैं। दत्तात्रेय ने कहा कि देश में नई नीति लागू होने से एक नए युग की शुरुआत हुई है। विशेषकर नई शिक्षा नीति से युवाओं को उनके सपनों के अनुरूप वातावरण मिलेगा। शिक्षा क्षेत्र में क्रांतिकारी बदलाव आएंगे। प्रदेश की शिक्षण संस्थाएं विशेषकर विश्वविद्यालय नई शिक्षा नीति के सभी कार्यकर्मों को लागू करने के लिए पूरी तरह तैयार हैं।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X