लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Uttarakhand ›   Dehradun ›   Saturn will be closest to Earth tomorrow astronomical event will be visible

आज दिखेगी खगोलीय घटना: पृथ्वी के सर्वाधिक नजदीक होगा शनि, साधारण टेलीस्कोप से देख सकेंगे खूबसूरत छल्ले

गिरीश रंजन तिवारी, संवाद न्यूज एजेंसी, नैनीताल Published by: रेनू सकलानी Updated Sun, 14 Aug 2022 08:54 AM IST
सार

आज रविवार को 378 दिन बाद खगोलीय घटना दिखेगी। साधारण टेलीस्कोप से शनि के छल्ले देखे जा सकेंगे। पृथ्वी से शनि की दूरी प्रतिदिन बदलती रहती है, क्योंकि दोनों ग्रह पृथक कक्षाओं में सूर्य की परिक्रमा करते हैं। इस दौरान जब ये दोनों ग्रह सूर्य के एक ही तरफ की कक्षाओं में आमने सामने सबसे नजदीक होते हैं।

शनि ग्रह
शनि ग्रह - फोटो : NASA
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

पर्सीड उल्कापात के बाद इस सप्ताह आकाश में एक और खगोलीय घटना नजर आएगी। 14 अगस्त को शनि ग्रह पृथ्वी के सर्वाधिक निकट होगा। आकाश के साफ होने पर पूरी रात चमकदार शनि बगैर टेलीस्कोप के ही नजर आएगा। इस दौरान यह पृथ्वी के इतना निकट होगा कि साधारण टेलीस्कोप से इसके खूबसूरत छल्ले देखे जा सकेंगे। 



सूर्य के चारों ओर अपनी कक्षाओं में घूमते हुए शनि और पृथ्वी 14 अगस्त को एक दूसरे के सर्वाधिक निकट आएंगे। पृथ्वी से शनि की दूरी प्रतिदिन बदलती रहती है, क्योंकि दोनों ग्रह पृथक कक्षाओं में सूर्य की परिक्रमा करते हैं। इस दौरान जब ये दोनों ग्रह सूर्य के एक ही तरफ की कक्षाओं में आमने सामने सबसे नजदीक होते हैं, तो उनके बीच की दूरी लगभग एक अरब बीस करोड़ किमी होती है जो कि पृथ्वी और सूर्य के बीच की दूरी से आठ गुना ज्यादा है।


जब पृथ्वी और शनि आपस में सूर्य की विपरीत दिशाओं में एक दूसरे से सर्वाधिक दूरी पर पहुंच जाते हैं तो वे एक-दूसरे से लगभग एक अरब 65 करोड़ किमी दूर हो जाते हैं जो पृथ्वी और सूर्य के बीच की दूरी से 11 गुना है। शनि ग्रह 34000 किमी प्रति घंटे की तीव्र गति से पृथ्वी के 29.5 वर्षों में सूर्य की एक परिक्रमा पूरी करता है। प्रत्येक 378 दिन बाद एक बार शनि और पृथ्वी निकटतम होते हैं।

आर्य भट्ट शोध एवं प्रेक्षण विज्ञान संस्थान के वैज्ञानिक डॉ. शशिभूषण पांडे ने बताया कि शनि ग्रह 14 अक्तूबर तक रात भर आकाश में पूर्व से पश्चिम की ओर सूर्य वाले मार्ग पर और अपेक्षाकृत साफ और चमकदार दिखाई देगा। 

सर्वाधिक चंद्रमाओं वाला ग्रह है शनि 
तीन वर्ष पूर्व तक 79 चंद्रमाओं के साथ बृहस्पति ग्रह सर्वाधिक चंद्रमाओं वाला ग्रह था। शनि के 62 चंद्रमा ज्ञात थे। अक्तूबर 2019 में वैज्ञानिकों की ओर से शनि के 20 नए चंद्रमाओं की खोज की पुष्टि की गई और शनि सर्वाधिक 82 चंद्रमाओं वाला ग्रह बन गया। इनमें 17 चांद शनि ग्रह की परिक्रमा उल्टी दिशा में करते हैं।  




ये भी पढ़ें...Har Ghar Tiranga:  सीएम ने निकाली तिरंगा यात्रा, मायावती अद्वैत आश्रम में किया ध्यान, पीएम के भी आने की संभावना

बुध से बड़ा, अपने वातावरण वाला अकेला ज्ञात चांद है टाइटन
पृथ्वी से शनि ग्रह के केवल सात चंद्रमा ही नजर आते हैं जिन्हें साधारण टेलीस्कोप से देखा जा सकता है। इनमें सबसे प्रमुख है टाइटन। अन्य में रिया, डायोन, टेथिस, एन्सेलेडस और मीमास शामिल हैं। टाइटन बुध ग्रह से बड़ा है और सौरमंडल में एकमात्र ज्ञात चंद्रमा है जिसका अपना पर्याप्त वातावरण भी है।
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00