लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Uttarakhand ›   Dehradun ›   Swachh Survekshan 2022 Ganga Town Category: Cleanest Haridwar in country is the dirtiest city of Uttarakhand

Swachh Survekshan: गंगा टाउन श्रेणी में टॉप पर हरिद्वार, लेकिन है उत्तराखंड का सबसे गंदा शहर, पढ़ें ये रिपोर्ट

आफताब अजमत, अमर उजाला, देहरादून Published by: अलका त्यागी Updated Mon, 03 Oct 2022 12:00 PM IST
सार

गंगा टाउन श्रेणी में हरिद्वार को मिला पहला पुरस्कार शनिवार को शहरी विकास मंत्री प्रेमचंद अग्रवाल ने ग्रहण किया। इस सम्मान के साथ एक चिंताजनक तथ्य भी सामने आया कि इस साल राष्ट्रीय स्तर पर हरिद्वार की रैंकिंग कुल 382 शहरों में 330वीं रही।

हरिद्वार में गंदगी
हरिद्वार में गंदगी - फोटो : अमर उजाला
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

राष्ट्रीय और प्रदेश स्तर पर स्वच्छता की रैंकिंग में नीचे खिसकने के बावजूद हरिद्वार ने गंगा किनारे बड़े शहरों की सूची में शीर्ष स्थान हासिल किया है। राष्ट्रीय स्तर की ओवरआल रैंकिंग में पिछले साल 279वें स्थान पर रहा हरिद्वार इस वर्ष 300वें नंबर पर आ गया। लेकिन, गंगा किनारे एक लाख से अधिक आबादी के शहरों 70 अंक लेकर हरिद्वार पहले स्थान पर आ गया।



वहीं एक लाख से कम आबादी वाले गंगा किनारे के शहरों में बिजनौर 80 अंकों के साथ टॉप पर है। यहीं नहीं प्रदेश में आठ बड़े शहरों में सफाई के मामले में हरिद्वार पिछले साल मिले 5वें स्थान से सरक कर आठवें स्थान पर पहुंच गया। 


Swachh Survekshan 2022: देहरादून को 69वीं रैंक, 13 अंकों की लगाई छलांग, अगले साल टॉप 50 में लाने का लक्ष्य

स्वच्छ सर्वेक्षण 2022 में गंगा टाउन श्रेणी के शहरों को दो हिस्सों में बांटा गया है। एक लाख से अधिक आबादी वाली 31 शहर हैं जबकि एक लाख से कम आबादी वाले 32 शहर हैं। गंगा टाउन श्रेणी में हरिद्वार को मिला पहला पुरस्कार शनिवार को शहरी विकास मंत्री प्रेमचंद अग्रवाल ने ग्रहण किया।

इस सम्मान के साथ एक चिंताजनक तथ्य भी सामने आया कि इस साल राष्ट्रीय स्तर पर हरिद्वार की रैंकिंग कुल 382 शहरों में 330वीं रही। स्पष्ट है कि हरिद्वार शहर का स्कोर स्वच्छता के मामले में गिरा है। इसी श्रेणी में इंदौर पहले नंबर पर आया है। वहीं प्रदेश स्तर पर सफाई के मामले में दस लाख की आबादी वाले शहरों में देहरादून पहले स्थान पर रहा है। 

10 लाख की आबादी वाले उत्तराखंड के आठ शहरों की स्थिति

शहर       रैंकिंग    राष्ट्रीय रैंकिंग
देहरादून      1           69    
रुड़की        2           134
ऋषिकेश     3           220
कोटद्वार      4           270
रुद्रपुर        5           277
हल्द्वानी      6            282
काशीपुर    7            304
हरिद्वार       8            330

हरिद्वार की पांच साल की राष्ट्रीय रैंक
2018- 205
2019- 376
2020- 244
2021- 283
2022- 330

शहर    गंगा टाउन रैंकिंग     राष्ट्रीय रैंकिंग
हरिद्वार        1                        330    
वाराणसी      2                         21
ऋषिकेश      3                        220
प्रयागराज     4                         16
मुंगेर            5                         352

यूपी के अन्य शहरों की रैंकिंग
कानपुर                       10      29
फरुर्खाबाद-फतेहगढ़     16      272
बलिया                        20       200
मिर्जापुर-विंध्यांचल         25      142
गाजीपुर                     30        219
(एक लाख से अधिक आबादी वाले शहरों को राष्ट्रीय रैंक दी गई है)

एक लाख से कम आबादी वाले शहरों की स्थिति
शहर                      गंगा टाउन रैंकिंग      रैंकिंग
बिजनौर                           1                    11
कन्नौज                              2                    7
गढ़मुकतेश्वर                       3                  12
कर्णप्रयाग और सुल्तानगंज    4                360/20
बिठूर                                5                 81

यूपी के अन्य शहरों की रैंकिंग
अनुपशहर-      7-20
बबराला-         17-94
गंगाघाट-        19-31
चुनार-            19-18
झूंसी- 21-       उपलब्ध नहीं
हस्तिनापुर-      23-165
नरौरा-            25-204
रामनगर-        27-147
सैदपुर भितरी- 31-32

उत्तराखंड को स्वच्छता सर्वेक्षण में पहली बार छह अवॉर्ड मिले हैं। राष्ट्रपति के हाथों सम्मानित होना हम सबके लिए गर्व की बात है। इस खुशी के साथ ही निश्चित तौर पर हमें अपनी कमियां तलाशकर उन्हें दूर करना है। हरिद्वार को देश के अन्य गंगा टाउन में पहला नंबर मिला है, जो गौरवशाली बात है।
- प्रेमचंद अग्रवाल, शहरी विकास एवं आवास मंत्री, उत्तराखंड सरकार

देश में पहला स्थान मिलना खुशी की बात तो जरूर है लेकिन ओवरऑल स्वच्छता रिपोर्ट के विश्लेषण पर यह स्पष्ट हो जाता है कि हरिद्वार में स्वच्छता का स्तर क्या है। न केवल हरिद्वार बल्कि अन्य शहरों में भी सफाई पर विशेष काम करने की जरूरत है।
- अनूप नौटियाल, संस्थापक, एसडीसी फाउंडेशन
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00