विज्ञापन
Hindi News ›   Delhi ›   Delhi NCR News ›   mohammed zubair Alt News co founder bail rejects by Delhi Patiala House Court

Mohammed Zubair: कोर्ट ने खारिज की जमानत याचिका तो वकील ने डीसीपी पर लगाया गंभीर आरोप, जानिए क्या कहा?

एएनआई, दिल्ली Published by: प्रशांत कुमार Updated Sat, 02 Jul 2022 06:26 PM IST
सार

ऑल्ट न्यूज के सह-संस्थापक मोहम्मद जुबैर को बड़ा झटका लगा है। अदालत ने उनकी जमानत याचिका खारिज कर दी है। इस मामले में उनके वकील ने डीसीपी केपीएस मल्होत्रा पर गंभीर आरोप लगाया है।

mohammed zubair Alt News co founder bail rejects by Delhi Patiala House Court
Mohammed Zubair - फोटो : ANI

विस्तार
Follow Us

दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने ऑल्ट न्यूज के सह-संस्थापक मोहम्मद जुबैर की जमानत याचिका खारिज कर दी है। न्यायालय ने जुबैर को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा है। न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक, यह जानकारी दिल्ली पुलिस ने दी है। आधिकारिक आदेश का इंतजार है।



उधर, मोहम्मद जुबैर के वकील सौतिक बनर्जी ने गंभीर आरोप लगाया है। उन्होंने बताया कि बहस के बाद न्यायाधीश ने मामले को निर्णय के लिए सुरक्षित रख लिया है। जज लंच के बाद अभी तक नहीं आए हैं। यह देखकर स्तब्ध हूं कि डीसीपी केपीएस मल्होत्रा ने मीडिया में लीक कर दिया है कि जुबैर की जमानत याचिका खारिज कर दी गई है और 14 दिन की न्यायिक हिरासत दी गई है।


जुबैर के खिलाफ एफआईआर में जोड़ीं तीन नई धाराएं
दिल्ली पुलिस ने मोहम्मद जुबैर के खिलाफ दर्ज एफआईआर में तीन नई धाराएं- आईपीसी की 201 (सबूत नष्ट करने- फोन को फॉर्मेट करने और ट्वीट डिलीट करने), 120-बी (आपराधिक साजिश) और एफसीआरए की 35 जोड़ दी हैं।

सबूतों को नष्ट किया गया- दिल्ली पुलिस
पुलिस ने एफआईआर में विदेशी अनुदान (नियमन) अधिनियम 2010 की धारा जोड़ते हुए आरोप लगाया है कि मोहम्मद जुबैर के मामले में साजिश रची गई और सबूतों को नष्ट किया गया। पुलिस ने यह भी आरोप लगाया कि आरोपी को विदेशों से डोनेशन मिला है। इससे पहले शुक्रवार को दिल्ली हाईकोर्ट ने मोहम्मद जुबैर की एक याचिका पर दिल्ली पुलिस से जवाब मांगा है, जिसमें जुबैर ने कथित आपत्तिजनक ट्वीट से संबंधित मामले में पुलिस रिमांड की वैधता को चुनौती दी थी। न्यायमूर्ति संजीव नरूला ने याचिका पर नोटिस जारी किया और उत्तरदाता को अपना जवाब दाखिल करने के लिए दो सप्ताह का समय दिया।
 

दिल्ली पुलिस ने बताया कि सोशल मीडिया की जांच करने पर पाया गया कि जुबैर की गिरफ्तारी के बाद उसका समर्थन करने वाले ट्विटर हैंडर पाकिस्तान और ज्यादातर यूएई, बहरीन और कुवैत जैसे मध्य-पूर्वी देशों से थे। एएलटी न्यूज की संस्थापक कंपनी प्रावडा मीडिया को कुल 2,31,933 रुपये मिले थे।

दिल्ली पुलिस ने बताया कि रेजरपे पेमेंट से मिले जवाब का विश्लेषण करने पर पाया गया कि भारत से बाहर के कई फोन नंबर या आईपी एड्रेस बैंकॉक, मनामा, नॉर्थ-हॉलेंड, सिंगापुर, विक्टोरिया, न्यूयॉर्क, इंग्लैंड, रियाद, बलदल्यात अद दावा, स्टॉकहोम, आइशी, संयुक्त अरब अमीरात के पूर्वी, पश्चिमी और पूर्वी प्रांत, अबू धाबी, वाशिंगटन डीसी, कंसास, न्यूजर्सी, ओन्टेरियो, कैलिफोर्निया, टेक्सास, लोवर सैक्सोनी, बर्न, दुबई, यूसिमा और स्कॉटलैंड के थे।
 

27 जून को किया गया था गिरफ्तार
जुबैर को 27 जून को दिल्ली पुलिस ने एक ट्वीट के जरिए धार्मिक भावनाओं को आहत करने के आरोप में गिरफ्तार किया था। इसी दिन निचली अदालत ने एक दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया था। एक दिन की हिरासत में पूछताछ के बाद अदालत में पेश किए जाने पर मुख्य मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट ने उसकी हिरासत चार दिनों के लिए बढ़ा दी थी। 
 

Arguments took place until lunch & judge reserved the matter for judgment. The judge hasn't come after lunch yet. Shocked to see that DCP KPS Malhotra has leaked in media that our bail plea has been rejected & 14-day judicial custody granted: Mohd Zubair's lawyer, Soutik Banerjee pic.twitter.com/S93jSQOf1f

— ANI (@ANI) July 2, 2022
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

Independence day

अतिरिक्त ₹50 छूट सालाना सब्सक्रिप्शन पर

Next Article

फॉन्ट साइज चुनने की सुविधा केवल
एप पर उपलब्ध है

app Star

ऐड-लाइट अनुभव के लिए अमर उजाला
एप डाउनलोड करें

बेहतर अनुभव के लिए
4.3
ब्राउज़र में ही
X
Jobs

सभी नौकरियों के बारे में जानने के लिए अभी डाउनलोड करें अमर उजाला ऐप

Download App Now

अपना शहर चुनें और लगातार ताजा
खबरों से जुडे रहें

एप में पढ़ें

क्षमा करें यह सर्विस उपलब्ध नहीं है कृपया किसी और माध्यम से लॉगिन करने की कोशिश करें

Followed

Reactions (0)

अब तक कोई प्रतिक्रिया नहीं

अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करें