RGIPT COSMOSx-2021: कॉस्मोसएक्स कीनोट सेशन में इंस्ट्रूमेंट साइंटिस्ट डॉ मासिमो ने समझाईं टेलीस्कोप और खगोलविज्ञान की बारीकियां

Devesh Sharma देवेश शर्मा
Updated Fri, 22 Oct 2021 11:12 PM IST

सार

RGIPT COSMOSx-2021: डॉ. मासिमो स्टियावेली 2012 से जेम्स वेब स्पेस टेलीस्कोप में अपनी सेवाएं दे रहे हैं। 1995 वे शुरुआती तौर पर यूरोपीयन स्पेस एजेंसी के एस्ट्रोनॉट के रूप में पांच वर्ष के लिए जुड़े थे। इंस्ट्रूमेंट साइंटिस्ट के तौर पर उन्होंने हबल स्पेस टेलीस्कोप के विकास के दौरान वाइड फील्ड एंड प्लानेटरी कैमरा-2, एडवांस कैमरा फॉर सर्वे पर काम किया था। 
डॉ. मासिमो स्टियावेली, स्पेस टेलीस्कोप इंस्ट्रूमेंट साइंटिस्ट
डॉ. मासिमो स्टियावेली, स्पेस टेलीस्कोप इंस्ट्रूमेंट साइंटिस्ट - फोटो : RGIPT
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

आरजीआईपीटी के तीन दिवसीय इंटरनेशनल टेक्नोलॉजी फेस्टिवल कॉस्मोसएक्स के पहले दिन दूसरे कीनोट सेशन में जेम्स वेब स्पेस टेलीस्कोप के नेतृत्वकर्ता और यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी में खगोलशास्त्री के रूप में कार्य कर चुके डॉ. मासिमो स्टियावेली ने संबोधित किया। डॉ मासिमो ने अपने संबोधन विभिन्न टेलीस्कोप और उनके निर्माण से लेकर उपयोग तक की जानकारी साझा की। डॉ मासिमो ने साइंस और टेक्नोलॉजी से जुड़े गहरे राज भी उजागर किए। उन्होंने अपने कीनोट सेशन के दौरान प्रजंटेशन में सैटेलाइट सिस्टम, टेलीस्कोप की उपयोगिता को लेकर भी प्रकाश डाला। उन्होंने टेलीस्कोप की संरचना और खोज से जुड़ी रोचक यात्रा की भी जानकारी दी। कार्यक्रम का संचालन आरजीआईपीटी के जनसंपर्क विभाग के प्रमुख आर्यमन राज और स्टूडेंट चैप्टर के दीपांशु गोयल ने किया।
विज्ञापन


यह भी पढ़ें : RGIPT COSMOSx-2021: कॉस्मोसएक्स कीनोट सेशन में नासा इंजीनियर गैब्रिएल ने एलियंस और एरिया 51 के बारे में कही ये बड़ी बातें, पढ़िए खास खबर


डॉ. मासिमो स्टियावेली 2012 से जेम्स वेब स्पेस टेलीस्कोप में अपनी सेवाएं दे रहे हैं। 1995 वे शुरुआती तौर पर यूरोपीयन स्पेस एजेंसी के एस्ट्रोनॉट के रूप में पांच वर्ष के लिए जुड़े थे। इंस्ट्रूमेंट साइंटिस्ट के तौर पर उन्होंने हबल स्पेस टेलीस्कोप के विकास के दौरान वाइड फील्ड एंड प्लानेटरी कैमरा-2, एडवांस कैमरा फॉर सर्वे पर काम किया था। इससे पहले मासिमो ने अपने करियर की शुरुआत इटालियन आर्मी में सेकंड लेफ्टिनेंट के तौर पर की थी। अपने संबोधन के दौरान उन्होंने जेम्स वेब स्पेस टेलीस्कोप की एनाटॉमी, उसकी फाइव लेयर्स, उसकी कोल्ड और हॉट साइड सन शील्ड की बनावट, संरचना और कार्य विशेषताओं के बारे में बताया। 




डॉ. मासिमो ने जेम्स वेब स्पेस टेलीस्कोप की कार्यप्रणाली और उसकी विशेषताओं पर भी विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने अपने संबोधन के दौरान अपने कार्यानुभवों को साझा किया। साथ ही यूरापीय अंतरिक्ष एजेंसी के कामकाम को लेकर भी बात की। डॉ मासिमो ने दी कॉस्मोलॉजी टेंशन के विषय पर विस्तार से बात करते हुए बताया कि मल्टीपल वेब प्रोग्राम्स के जरिये इसे रिसॉल्व करने का प्रयास किया जाता है। हबल कॉन्सटेंट को मैनेज करने वाले डिफरेंट मैथड्स और इम्प्रूव कैलिब्रेशन ऑफ दी कॉस्मिक डिस्टेंस लैडर यूजिंग डिफरेंट इंडिपेंडेड मैथड्स भी बताए। टेलीस्कोप वैज्ञानिक डॉ. मासिमो स्टियावेली ने सोलर सिस्टम के वेब सर्वे को लेकर भी बात की। उन्होंने ब्रह्मांड, अंतरिक्ष, आकाशगंगाओं और विभिन्न ग्रहों की स्थिति और उन्हें हबल टेलीस्कोप के जरिये देखने के तौर - तरीकों पर भी बात की। 

यह भी पढ़ें : RGIPT COSMOSx-2021: आरजीआईपीटी के टेक्नोलॉजी फेस्टिवल कॉस्मोसएक्स का शानदार आगाज, नासा इंजीनियर और खगोलशास्त्रियों ने किया संबोधित
 

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें शिक्षा समाचार आदि से संबंधित ब्रेकिंग अपडेट।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00