लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Entertainment ›   Bollywood ›   GodFather Movie Review in Hindi by Pankaj Shukla Chiranjeevi Salman Khan Nayanthara Satyadev Puri Jagannadh

GodFather Movie Review: चिरंजीवी की फिल्म में चमका ‘रामसेतु’ का सितारा, परदे पर अरसे बाद दिखा लकी नंबर 786

Pankaj Shukla पंकज शुक्ल
Updated Wed, 05 Oct 2022 07:04 PM IST
गॉडफादर मूवी रिव्यू
गॉडफादर मूवी रिव्यू - फोटो : अमर उजाला, मुंबई
विज्ञापन
Movie Review
गॉडफादर (हिंदी)
कलाकार
चिरंजीवी , सलमान खान , सत्यदेव , नयनतारा , पुरी जगन्नाथ , मुरली शर्मा और ब्रह्माजी आदि।
लेखक
मुरली गोपी और मोहन राजा आदि
निर्देशक
मोहन राजा
निर्माता
राम चरण , आर बी चौधरी और एन वी प्रसाद
रिलीज
05 अक्तूबर 2022
रेटिंग
2.5/5

छोटे परदे पर अपने नियमित रियलिटी शो ‘बिग बॉस’ के अगले सीजन के साथ लौट चुके सलमान खान इस साल बड़े परदे पर भी आ ही गए। दक्षिण भारतीय सिनेमा को लेकर हिंदी सिनेमा की ललक अभी तक वहां की फिल्मों का रीमेक बनाने तक ही रही है लेकिन साल 2022 कई नए चलन सिनेमा को दिखा रहा है। अब हिंदी सिनेमा के सितारे वहां की फिल्मों को लपक रहे हैं। फिल्म ‘गॉडफादर’ सलमान खान की पहली तेलुगू फिल्म है। चर्चा ये भी रही है कि सलमान खान ने चिरंजीवी के लिए एक तरह से ये दोस्ती का हाथ बढ़ाया है। कांग्रेस के कद्दावर नेता रहे चिरंजीवी इस फिल्म में मुख्यमंत्री पद के लिए मचे घमासान का केंद्र बिंदु हैं। इस ‘एहसान’ का बदला चिरंजीवी के बेटे राम चरण जल्द ही सलमान की फिल्म ‘किसी का भाई, किसी की जान’ में एक खास भूमिका निभाकर अदा करते नजर आ सकते हैं।

गॉडफादर मूवी रिव्यू
गॉडफादर मूवी रिव्यू - फोटो : अमर उजाला, मुंबई
मलयालम फिल्म लुसिफर’ की रीमेक
फिल्म ‘गॉडफादर’ मलयालम सिनेमा की सबसे कामयाब फिल्मों में से एक गिनी जाने वाली फिल्म ‘लुसिफर’ की रीमेक है। ये वही फिल्म है जिसमें मोहनलाल जैसे दिग्गज कलाकार के सामने हिंदी सिनेमा के अभिनेता विवेक ओबेरॉय ने अपना दमखम साबित किया था। तीन साल पहले रिलीज हुई इस फिल्म को हिंदी में बनाने की कोशिश नेटफ्लिक्स कर रहा है। ‘लुसिफर’ की कहानी वंशानुगत अधिकारों की हिस्सेदारी को लेकर चली जा रही शतरंज की बिसातों में एक बाहरी के प्रवेश की कहानी कहती है। यहां भी फिल्म की कहानी का मुख्य आधार यही है। मुख्यमंत्री के निधन के बाद उनके घर वालों के बीच मुख्यमंत्री की कुर्सी पाने को लेकर छिड़ी जंग में इस बार ब्रह्मा का प्रवेश होता है। कहानी वही है। बस इसको पेश करने का तरीका इसके निर्देशक मोहन राजा ने आखिर में बदल दिया है, सलमान खान का सहारा लेकर।

गॉडफादर मूवी रिव्यू
गॉडफादर मूवी रिव्यू - फोटो : अमर उजाला, मुंबई
रीमेक के मास्टर का नया दांव
निर्देशक मोहन राजा तेलुगू सिनेमा मे रीमेक मास्टर कहे जाते हैं। वह कमर्शियल सिनेमा के तयशुदा फॉर्मूलों वाली फिल्म बनाते हैं और अपने कलाकारों के साथ ज्यादा प्रयोग नहीं करते हैं। यही वजह है कि अपनी पिछली फिल्म ‘आचार्य’ में अपने बेटे राम चरण के साथ होने के बावजूद चिरंजीवी जो प्रभाव नहीं छोड़ पाए, उनका वह सिनेमाई करिश्मा यहां थोड़ा थोड़ा काम करता दिखता है। तेलुगू फिल्में देखने वालों के लिए यही सीटीमार परफॉरमेंस है। 67 साल के हो चुके चिरंजीवी परदे पर खुद को जिस अंदाज से पेश करना चाहते हैं, उसमें मोहन राजा और उनके स्टंट निर्देशकों ने उनकी काफी मदद की है। चिरंजीवी के सीने पर लकी नंबर 786 भी दिखता है। इस नंबर को हिंदी सिनेमा करीब करीब भूल ही चुका है।

गॉडफादर मूवी रिव्यू
गॉडफादर मूवी रिव्यू - फोटो : अमर उजाला, मुंबई
दूसरे हिस्से में ढीली पड़ी कहानी
फिल्म ‘गॉडफादर’  में इसके निर्देशक मोहन राजा की पकड़ कहानी पर अच्छे से बनती दिखती है और इंटरवल तक वह फिल्म को एक सुपरहिट फिल्म की तरफ ले जाते भी दिखते हैं लेकिन इंटरवल के बाद मामला पटरी से उतर जाता है और वह इसलिए क्योंकि मलयालम सिनेमा ठहराव का सिनेमा है जबकि तेलुगू और हिंदी सिनेमा रफ्तार का। मोहन राजा के पास एक रीमेक में प्रयोग करने की जितनी भी गुंजाइश रही, वह सब उन्होंने की लेकिन ठीक क्लाइमेक्स से पहले का गाना फिल्म को ढीला कर देता है। सलमान खान की एंट्री भी उनकी हिंदी फिल्मों जैसी ही है और उनकी अदाकारी भी। एक तरह से सलमान खान के फिल्म होने न होने का खास असर दिखता नहीं है।

गॉडफादर मूवी रिव्यू
गॉडफादर मूवी रिव्यू - फोटो : अमर उजाला, मुंबई
सत्यदेव ने दिखाई दमदार अदाकारी
चिरंजीवी से ज्यादा दमदार काम फिल्म में अभिनेता सत्यदेव का है। फिल्म ‘गाजी अटैक’ में हिंदी सिनेमा के दर्शक उन्हें देख चुके हैं और इसी महीने रिलीज होने जा रही अक्षय कुमार की फिल्म ‘रामसेतु’ में भी उनकी अदाकारी पर लोगों की नजरें टिकी रहेंगी। सत्यदेव ने एक धूर्त, निर्दयी और षडयंत्रकारी दामाद के रूप में अपनी अदाकारी का लोहा मनवाया है। नयनतारा का नाम शाहरुख खान की फिल्म ‘जवान’ के चलते हिंदी पट्टी में काफी मशहूर हो चुका है। उनका काम भी फिल्म मे प्रभावित करता है। मुरली शर्मा अपनी चिर परिचित सीमित अदाकारी को दोहराते दिखते हैं। हां, निर्देशक पुरी जगन्नाथ फिल्म के एक खास किरदार में अपना असर छोड़ जाते हैं।

गॉडफादर मूवी रिव्यू
गॉडफादर मूवी रिव्यू - फोटो : अमर उजाला, मुंबई

हिंदी संस्करण का औसत आकर्षण
हिंदी सिनेमा के दर्शकों के लिए फिल्म ‘गॉडफादर’ एक औसत सी फिल्म है जिसे देखने का उनका मुख्य आकर्षण यानी सलमान खान की मौजूदगी फिल्म को हिंदी पट्टी में चला पाने में खास मददगार नहीं दिखती। फिल्म का तकनीकी पक्ष दक्षिण भारतीय सिनेमा की पहचान बन चुके सिनेमैटोग्राफी और एक्शन दृश्यों की तरह ही अच्छा है। लेकिन, फिल्म का संगीत हिंदी संस्करण में बेदम है। बैकग्राउंड स्कोर जरूर फिल्म का मूड बनाने में मदद करता है। करने को कुछ न हो तो ये फिल्म देखी जा सकती है।

विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय Hindi News वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें मनोरंजन समाचार से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। मनोरंजन जगत की अन्य खबरें जैसे बॉलीवुड न्यूज़, लाइव टीवी न्यूज़, लेटेस्ट हॉलीवुड न्यूज़ और मूवी रिव्यु आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00