लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Uttar Pradesh ›   Gorakhpur ›   case registered after 32 lakh lost in greed of government job

Gorakhpur: सरकारी नौकरी के लालच में गंवा दिए 32 लाख, केस दर्ज

अमर उजाला ब्यूरो, गोरखपुर। Published by: vivek shukla Updated Thu, 18 Aug 2022 11:57 AM IST
सार

एक पीड़ित की तहरीर पर चौरीचौरा पुलिस ने बेतियाहाता की अनुपमा सिंह और प्रयागराज के खीरी के कल्याणपुर निवासी अरविंद कुमार यादव के खिलाफ केस दर्ज कर लिया। एसएसपी के आदेश पर पुलिस केस दर्ज कर मामले की जांच कर रही है।

 

सांकेतिक तस्वीर।
सांकेतिक तस्वीर। - फोटो : Istock
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

सरकारी नौकरी पाने के लालच में चार लोगों ने 32 लाख रुपये गंवा दिए। एक पीड़ित की तहरीर पर चौरीचौरा पुलिस ने बेतियाहाता की अनुपमा सिंह और प्रयागराज के खीरी के कल्याणपुर निवासी अरविंद कुमार यादव के खिलाफ केस दर्ज कर लिया। एसएसपी के आदेश पर पुलिस केस दर्ज कर मामले की जांच कर रही है।



जानकारी के मुताबिक, चौरीचौरा के रामपुर बुजुर्ग गांव निवासी सुरेंद्र सिंह ने तहरीर देकर बताया कि चार लोगों को नौकरी दिलाने के नाम पर दोनों आरोपियों ने 2018 में 32 लाख रुपये लिए थे। कई बार में रुपये देने के बाद ये दोनों नौकरी दिलाने का झांसा देने लगे और बाद में रुपये मांगने पर धमकी देने लगे। पीड़ित ने पहले चौरीचौरा थाने में तहरीर दी, लेकिन कार्रवाई नहीं हुई तो एसएसपी से मुलाकात की। एसएसपी के आदेश पर बुधवार को पुलिस ने नामजद केस दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है।


 

ठेका दिलाने के नाम पर 90 हजार वसूले, गिरफ्तार
गोरखनाथ मंदिर में टहलने के दौरान मुलाकात के बाद जालसाज ने ठेका दिलाने के नाम पर 90 हजार रुपये की जालसाजी कर ली। इतना ही नहीं, रुपये मांगने पर उसने जान से मारने की धमकी देते हुए एक लाख रुपये और मांगे। पीड़ित ने घटना की शिकायत पुलिस से की। गोरखनाथ पुलिस ने भय दिखाकर वसूली करने और अमानत में खयानत की धाराओं में केस दर्ज कर आरोपी अजीत मिश्रा को बुधवार को गिरफ्तार कर लिया।

आरोपी अजीत गोरखनाथ इलाके में किराये के मकान रहता है और मूल रूप से महराजगंज का निवासी है। पीड़ित तारामंडल निवासी मनीष सिंह ने दी तहरीर में लिखा है कि वह नगर पंचायत बांसगांव के मूल निवासी हैं। आठ महीने पहले गोरखनाथ मंदिर में उनकी मुलाकात महराजगंज के अजीत मिश्रा से हुई थी। मंदिर में मुलाकात के दौरान बातचीत औपचारिक होने लगी।

इस दौरान उसने पूछा था कि आप क्या करते हैं, इस पर सरकारी ठेकेदारी की बात बताई थी। आरोपी ने सरकार में पकड़ होने का हवाला देते हुए लखनऊ में बुलाया। लखनऊ में एक विधायक आवास पर बुलाने के बाद पीडब्ल्यूडी के एक्सईएन से मुलाकात कराई और कार्य दिलाने के नाम पर 90 हजार रुपये की मांग की। तीन बाद में मनीष ने 90 हजार रुपये दे दिए और उसके बाद भी काम नहीं मिला।

काम नहीं मिलने पर रुपये वापस मांगने लगे तो एक रुपये और की मांग की गई। न देने पर हत्या की भी धमकी दी गई। पुलिस ने तहरीर के आधार पर केस दर्ज कर लिया है। इंस्पेक्टर गोरखनाथ दुर्गेश सिंह ने बताया कि आरोपी के खिलाफ केस दर्ज कर गिरफ्तार कर लिया गया है।
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00