अंकुर हत्याकांड: मुख्य आरोपी ने किया आत्मसमर्पण, अन्य हत्यारोपियों की तलाश में जुटी पुलिस

अमर उजाला ब्यूरो, गोरखपुर। Published by: vivek shukla Updated Sat, 27 Nov 2021 08:04 PM IST

सार


अंकुर के हत्यारों की तलाश में तीन टीमें लगी थीं, फिर भी एक आरोपी ने कोर्ट में सरेंडर कर दिया। वहीं जब पुलिस पर आरोप लगा तो दूसरे को पकड़ने का दावा किया।
मृत अंकुर की फाइल फोटो।
मृत अंकुर की फाइल फोटो। - फोटो : अमर उजाला।
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

गोरखपुर जिले के रामगढ़ताल थानाक्षेत्र के रामपुर टप्पा के किशोर अंकुर शुक्ला की हत्या में नामजद आरोपी मनीष उर्फ कट्टा को शनिवार को चिड़ियाघर के पास से गिरफ्तार कर लिया गया। मनीष को पुलिस ने कोर्ट में पेश किया, जहां से उसे जेल भेज दिया गया। इससे पहले घटना के एक और आरोपी अवधेश साहनी ने शुक्रवार को ही कोर्ट में सरेंडर कर दिया था।
विज्ञापन


इससे रामगढ़ताल पुलिस की ‘तेजी’ सवालों के घेरे में आ गई। थाना पुलिस का दावा था कि तीन टीमें गिरफ्तारी में लगी हैं, फिर भी आरोपी अवधेश पुलिस को चकमा देने में कामयाब हो गया। इस मामले के दो आरोपी अब भी पुलिस की पकड़ से दूर हैं।


जानकारी के मुताबिक रामपुर टप्पा के अंकुर शुक्ला हत्याकांड में अवधेश साहनी, मनीष उर्फ कट्टा, सोनू और जयहिंद के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज है। रामगढ़ताल पुलिस का दावा है कि आरोपियोंतों की गिरफ्तारी के लिए स्वॉट और सर्विलांस टीमें भी लगी हैं। लगातार दबिश दी जा रही है। इसके बावजूद हत्याकांड के मुख्य आरोपी ने शुक्रवार को दीवानी न्यायालय में पहुंचकर आत्म समर्पण कर दिया। कोर्ट ने उसे जेल भी भेज दिया, लेकिन पुलिस देर शाम तक इससे अनभिज्ञ बनी रही।

आत्मसमर्पण की इस कहानी के बाद पूरे मामले में पहले से ही आरोपियों का मददगार होने का आरोप झेल रही रामगढ़ताल पुलिस की भूमिका और संदिग्ध हो गई। पीड़ित पक्ष ने घर पहुंचे विधायक चिल्लूपार विनय शंकर तिवारी के सामने सवाल उठाया।

परिजनों का सीधा आरोप था कि पुलिस ने ही मुख्य आरोपी को कोर्ट में हाजिर होने का अवसर दिया है। इसके कुछ ही देर बाद आनन-फानन रामगढ़ताल पुलिस ने दूसरे आरोपित मनीष उर्फ कट्टा की गिरफ्तारी का दावा करते हुए कोर्ट में पेश किया।  

रामगढ़ताल इंस्पेक्टर सुशील कुमार शुक्ला ने कहा कि पुलिस पर बेवजह के आरोप लगाए जा रहे हैं। आरोपियों की धरपकड़ के लिए पुलिस पूरी ईमानदारी व निष्पक्षता से काम कर रही है। कोई राजनीतिक दबाव नहीं है। घेराबंदी का ही असर था कि मुख्य आरोपी अवधेश साहनी ने आत्मसमर्पण कर दिया। मनीष उर्फ कट्टा साहनी को चिड़ियाघर के पास से गिरफ्तार कर लिया गया। दो और आरोपी भी जल्द गिरफ्तार किए जाएंगे।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय Hindi News वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00