झंगहा का दोहरा हत्याकांड: मुख्य आरोपी गुलशन सहित दो गिरफ्तार, चौकी इंचार्ज हुए निलंबित

अमर उजाला ब्यूरो, गोरखपुर। Published by: vivek shukla Updated Tue, 30 Nov 2021 10:12 AM IST

सार

रविवार को दिनदहाड़े हुई हत्या की घटना के बाद डीआईजी और एसएसपी ने गांव में पहुंच कर पीड़ित परिवार से बात करने के साथ ही आरोपियों को जल्द पकड़ने का भरोसा दिया था। इसी क्रम में एसपी नार्थ मनोज कुमार अवस्थी के नेतृत्व में पांच टीमें लगाई गई थीं।
झंगहा में दोहरे हत्याकांड में गिरफ्तार आरोपी।
झंगहा में दोहरे हत्याकांड में गिरफ्तार आरोपी। - फोटो : अमर उजाला।
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

गोरखपुर जिले के झंगहा क्षेत्र के जद्दुपुर गांव में पुरानी रंजिश में रविवार को रामकिशुन यादव और उनके भतीजे विशाल यादव की हत्या के मुख्य आरोपी गुलशन साहनी और विकास को पुलिस ने सोमवार सुबह गिरफ्तार कर लिया। दोनों से पूछताछ के बाद अन्य आरोपियों की तलाश में पुलिस की टीमें अलग-अलग ठिकानों पर दबिश दे रही हैं।
विज्ञापन

 
दूसरी तरफ, मामले में लापरवाही बरतने वाले गोबड़ौर चौकी इंचार्ज दिनेश कुमार साहनी को निलंबित कर दिया गया है। एसएसपी डॉ. विपिन ताडा ने कहा है कि सभी आरोपियों को जल्द गिरफ्तार किया जाएगा। चाचा-भतीजे की मौत गोली लगने से हुई थी, इसकी पुष्टि पोस्टमार्टम रिपोर्ट से हुई है। रिपोर्ट से पता चला है कि 12 बोर के कट्टे से गोली मारी गई थी। मृतकों के शरीर में कई छर्रे मिले हैं।  


जानकारी के मुताबिक, रविवार को दिनदहाड़े हुई हत्या की घटना के बाद डीआईजी और एसएसपी ने गांव में पहुंच कर पीड़ित परिवार से बात करने के साथ ही आरोपियों को जल्द पकड़ने का भरोसा दिया था। इसी क्रम में एसपी नार्थ मनोज कुमार अवस्थी के नेतृत्व में पांच टीमें लगाई गई थीं।

एसपी नार्थ ने बताया कि मुख्य आरोपित गुलशन और विकास को दबोच लिया गया है। अभी तक की जांच में पता चला है कि गुलशन ने ही गोली चलाई थी। वारदात में विकास भी उसके साथ था। पुरानी रंजिश में गुलशन साहनी पक्ष ने कई राउंड गोलियां चलाई गई थीं। गोली लगने से रामकिशुन यादव (55) व विशाल यादव (20) की मौत हुई थी।

वहीं, छह अन्य लोग घायल हो गए थे। विशाल यादव के पिता की तहरीर पर पुलिस ने दस लोगों के खिलाफ हत्या व हत्या के प्रयास सहित अन्य धाराओं में केस दर्ज किया था। आरोपितों में तीन महिलाएं भी हैं। घटना के बाद से सभी आरोपित घर छोड़कर फरार हैं। ज्यादातर घरों में ताला लटका है।

 

सड़क पर शव रखकर प्रदर्शन, मुआवजा और शस्त्र लाइसेंस की मांग

दोहरे हत्याकांड से नाराज परिजनों और गांव वालों ने सोमवार शाम दोनों शव को सड़क पर रखकर जाम लगा दिया। उन्होंने पुलिसवालों पर कार्रवाई, 50 लाख रुपये मुआवजा और शस्त्र लाइसेंस देने की मांग की। काफी जद्दोजहद के बाद मांगें पूरी कराने के एसडीएम के आश्वासन पर परिजन दाह संस्कार के लिए तैयार हुए।

जानकारी के मुताबिक, दोहरे हत्याकांड से सोमवार को भी जद्दुपुर गांव में तनाव रहा। लिहाजा, गांव में पुलिस की तैनाती रही। पुलिस ने शवों का पोस्टमार्टम कराया और परिवारीजनों को सौंप दिया। शाम करीब 5.30 बजे मृतकों के परिजनों ने प्रदर्शन शुरू कर दिया। दोनों शव सड़क पर रखकर जाम लगा दिया।

सूचना पाकर एसडीएम चौरीचौरा समेत तमाम अधिकारी मौके पर पहुंचे। परिजनों ने एसडीएम अनुपम मिश्रा, एसपी नार्थ मनोज कुमार अवस्थी, सीओ डॉ अखिलानंद उपाध्याय के समक्ष मांग रखी कि सभी घायलों के समुचित इलाज की व्यवस्था की जाए। पीड़ित परिवार को 15 दिन के अंदर असलहे का लाइसेंस दिया जाए और आरोपियों का असलहा लाइसेंस रद्द किया जाए। एसडीएम ने परिवार वालों से डीएम की बातचीत कराई।

डीएम ने पीड़ितों को उनकी मांगों को मानने का आश्वासन दिया। वार्ता के दो घंटे बाद एसडीएम के आश्वासन पर परिजन अंतिम संस्कार के लिए राजी हुए। शाम सात बजे शव को इटौवा घाट पर ले जाने की तैयारी होने पर प्रशासन ने राहत की सांस ली। दोनों शव का अंतिम संस्कार गोर्रा नदी के इटौवा घाट पर किया गया। गोलू यादव ने अपने पिता रामकिशुन व रामायन यादव ने अपने बेटे विशाल को मुखाग्नि दी।

 

सपा के पूर्व मंत्री के आवास से हुई गिरफ्तारी

पुलिस के मुताबिक दोहरे हत्याकांड के आरोपित गुलशन और विकास की गिरफ्तारी सपा सरकार के पूर्व मंत्री के घर से हुई है। चर्चा है कि दोनों आरोपी हत्या के बाद पूर्व मंत्री के घर में छिपे थे। पूर्व मंत्री के परिवार की आरोपियों के घर रिश्तेदारी भी है। पुलिस ने कुछ और आरोपियों को हिरासत में लिया है। इन सबसे पूछताछ की जा रही है। पुलिस ने पूर्व मंत्री का नाम नहीं बताया है।  

पुलिस की भूमिका की जांच करेंगे एसपी सिटी
लापरवाही सामने आने के बाद एसएसपी डॉ. विपिन ताडा ने गोबड़ौर पुलिस चौकी इंचार्ज दिनेश कुमार साहनी को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है। साथ ही प्रकरण की जांच एसपी सिटी को दी है। एसपी सिटी विभागीय जांच भी करेंगे। वह देखेंगे कि मामले में स्थानीय पुलिस की भूमिका कैसी रही।

दोहरे हत्याकांड में गोबड़ौर चौकी की पुलिस की भूमिका पर ग्रामीणों ने सवाल उठाया था। आरोप लगाया था कि छठ पर विवाद हुआ था। मामला पुलिस तक पहुंचा, लेकिन एनसीआर दर्ज करके खानापूर्ति कर दी गई। पुलिस चौकी इंचार्ज दिनेश कुमार साहनी ने कोई प्रभावी कार्रवाई नहीं की। इससे विवाद बढ़ता चला गया। पीड़ित परिवार ने कई बार पुलिस को इस बारे में बताया था। गांव और आसपास के क्षेत्र में घटी घटनाओं और उसमें आरक्षी से लेकर पुलिस अधिकारियों द्वारा क्या कार्रवाई की गई है, इसकी भी समीक्षा की जा रही है।

मुख्यमंत्री ने घटना के बाद मौके पर तत्काल पहुंचने का दिया निर्देश
झंगहा में दोहरे हत्याकांड का मामला मुख्यमंत्री कार्यालय तक पहुंचा है। मामले में पुलिस के आला अफसरों से रिपोर्ट मांगी गई है। सूत्रों का कहना है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पुलिस के आला अफसरों को कानून व्यवस्था दुरुस्त रखने का निर्देश दिया है। साथ ही कहा है कि किसी भी घटना में पुलिस तत्काल मौके पर पहुंचे, इसे सुनिश्चित किया जाए। आपको बताएं, दोहरे हत्याकांड की सूचना मिलने के बाद झंगहा पुलिस दो घंटे बाद घटना स्थल पर पहुंची थी। इसे लेकर ग्रामीणों ने नाराजगी जताई थी।
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00