लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Haryana ›   Rohtak ›   Chief Minister told the story of his life in Amar Ujala Medhavi Chhatra Samman Samahro

Haryana: ...जब मां ने दाखिले के लिए चुपके से दिए सीएम को 300 रुपये, पिता देते थे हर सप्ताह 10 रुपये

विजेंद्र कौशिक, अमर उजाला ब्यूरो, रोहतक (हरियाणा) Published by: भूपेंद्र सिंह Updated Mon, 26 Sep 2022 12:41 AM IST
सार

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने नेकीराम कॉलेज में दाखिला लिया था। पिता हर सप्ताह 10 रुपये देते थे। सीएम ने बताया कि उन्होंने छात्रवृत्ति लोन लेकर पढ़ाई पूरी की। 

मंच से संबाेधित करते सीएम मनोहर लाल।
मंच से संबाेधित करते सीएम मनोहर लाल। - फोटो : अमर उजाला ब्यूरो
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

अमर उजाला के मेधावी छात्र सम्मान समारोह में मुख्य अतिथि के तौर पर शिरकत करने पहुंचे मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने अपने विद्यार्थी जीवन की यादों व संघर्ष को भी याद किया। रोहतक के एमडीयू के सभागार में प्रदेश भर से आए टॉपर छात्र व छात्राओं को संबोधित करते हुए सीएम ने कहा कि उन्होंने अपनी पढ़ाई जारी रखने के लिए काफी संघर्ष किया।



वे कभी एमडीयू का हिस्सा रहे पंडित नेकीराम कॉलेज में दाखिल लेना चाहते थे, लेकिन खेतीबाड़ी कर रहे पिता के पास पैसे नहीं थे। मैं मां के पास गया, बोला आगे पढ़ना चाहता हूं। मां ने कई साल एक-एक रुपया जोड़कर जो पैसे एकत्रित किये थे, उनमें से 300 रुपये निकाल कर दिए। बोली, बेटा जाओ दाखिला ले लो।


जब उन्होंने दाखिला ले लिया तो पिता को पता चला। पिता ने सोचा, अगर अब मनोहर को नहीं पढ़ाऊंगा तो 300 रुपये का नुकसान हो जाएगा। वे भी पढ़ाने के लिए मान गए और हर सप्ताह 10 रुपये के हिसाब से प्रति माह 40 रुपये देने लगे। 

यह भी पढ़ें : अमर उजाला मेधावी छात्र सम्मान समारोह: 'विद्यार्थी बीज के समान, छात्रवृत्ति-सम्मान करते हैं खाद-पानी का काम'

मुख्यमंत्री ने छात्रवृत्ति के महत्व व छोटे-छोटे सम्मान का महत्व बताते हुए कहा कि 40 रुपये में पढ़ाई का खर्च नहीं निकल पा रहा था। साइंस लैब अटेंडेंट की सलाह पर ऋण छात्रवृत्ति योजना का फॉर्म भरा, जिससे 480 रुपये वार्षिक छात्रवृत्ति मिली। उस छात्रवृत्ति ने खाद व पानी का काम किया, जिसके चलते आज आपके सामने खड़ा हूं। 

यह भी पढ़ें : Haryana: सम्मान पाकर मेधावियों के सपनों को लगे पंख, परिजन बोले-बच्चों के जीवन में नया उजाला
विज्ञापन

निंदाना गांव में हुआ था सीएम का जन्म, बलियानी में बीता बचपन
मुख्यमंत्री मनोहर भले ही करनाल से विधायक हैं, लेकिन उनका जन्म रोहतक जिले में महम उपमंडल के गांव निंदाना में हुआ था। बाद में उनका परिवार कलानौर खंड के गांव बनियानी में आ गया। बाद में उन्होंने रोहतक के नेकीराम कॉलेज में दाखिला ले लिया। 

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00