लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Haryana ›   Sonipat ›   Life imprisonment for three convicts in the murder case of a youth in Sonipat

Sonipat: ऑटो किराये पर देने वाले युवक की हत्या में तीन दोषियों को उम्रकैद, कहासुनी की रंजिश में कर दी थी हत्या

संवाद न्यूज एजेंसी, सोनीपत (हरियाणा) Published by: भूपेंद्र सिंह Updated Sat, 01 Oct 2022 08:12 PM IST
सार

सैलून में हुई कहासुनी की रंजिश में हत्या कर दी थी। झज्जर के आसंडा का युवक सोनीपत में किराये पर रहकर ऑटो चलवाता था। जुलाई 2018 में पुरखास अड्डा के पास कर हत्या दी गई थी। 

सांकेतिक तस्वीर
सांकेतिक तस्वीर - फोटो : सोशल मीडिया
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

हरियाणा के सोनीपत में जिला एवं सत्र न्यायाधीश प्रमोद गोयल की अदालत ने ऑटो मालिक की हत्या के मामले में सुनवाई करते हुए तीन आरोपियों को दोषी करार दिया है। अदालत ने तीनों दोषियों को उम्रकैद की सजा सुनाई है। दो दोषियों पर 20-20 हजार व एक दोषी पर 15 हजार रुपये जुर्माना भी किया गया है। दोषियों ने मामूली कहासुनी में वारदात को अंजाम दिया था। 


 

झज्जर के गांव आसंडा निवासी बलजीत सिंह ने 24 जुलाई 2018 को सिटी थाना पुलिस को बताया था कि उनका बड़ा बेटा सुनील उर्फ ठोडा सोनीपत में नंदी चौक के पास किराये पर रहता था। उसने तीन ऑटो ले रखे थे। जिन्हें किराये पर देकर वह गुजर बसर कर रहा था। उनका बेटा 23 जुलाई, 2018 की रात को दस बजे अपने एक साथी आसंडा के सुमित के साथ पुरखास अड्डा स्थित सैलून पर सेविंग कराने गया था।

 

यह भी पढ़ें : Haryana News: किसानों को 48 घंटे में मिलेगा फसल का भुगतान, डिप्टी सीएम ने किया एलान

 

जब वह सैलून पर बैठा था तो इसी दौरान तीन युवक चेहरे पर कपड़ा बांधकर सैलून के बाहर पहुंचे थे। युवकों को देखते ही सुनील सैलून से बाहर निकल रहा था तो आरोपियों ने उसके बेटे को पकड़ लिया था। उनमें गांव शहजादपुर का प्रीतम व झज्जर के गांव खरहर का एक युवक तथा एक अन्य थे। उन्होंने उसके बेटे पर चाकुओं से ताबड़तोड़ वार कर उसकी हत्या कर दी थी।

 

शोर मचाने पर हमलावर मौके से भाग गए थे। पुलिस ने मामले में बलजीत के बयान पर हत्या का मुकदमा दर्ज कर लिया था। मामले में तत्कालीन सिटी थाना प्रभारी राजपाल सिंह की टीम ने आरोपी गांव शहजादपुर के प्रीतम, उसके गांव के ही शैलेश व खरहर के संदेश उर्फ सैंडी को गिरफ्तार किया था। तीनों को अदालत में पेश कर न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया था। 
 

मामले में सुनवाई करते हुए सेशन जज प्रमोद गोयल की अदालत ने तीनों आरोपियों को दोषी करार दिया। अदालत ने तीनों को भादंसं की धारा 302 में उम्रकैद की सजा सुनाई है। साथ ही तीनों पर 15-15 हजार रुपये जुर्माना किया गया है। इसके साथ ही प्रीतम व सुमित को अवैध शस्त्र अधिनियम में भी दोषी करार देकर दो-दो साल कैद व 5-5 हजार रुपये जुर्माने की सजा सुनाई। जुर्माना न देने पर दोनों को 13-13 माह व शैलेश को नौ माह अतिरिक्त कैद की सजा भुगतनी होगी।

खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय Hindi News वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00