लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Himachal Pradesh ›   Kangra ›   Private hospital set up blood donation camp without permission

अमनदीप अस्पताल ने बिना अनुमति के अर्नी विश्वविद्यालय में लगाया रक्तदान शिविर

Shimla Bureau शिमला ब्यूरो
Updated Sun, 02 Oct 2022 12:39 AM IST
अर्नी विश्वविद्यालय में रक्तदान शिविर का पोस्टर।
अर्नी विश्वविद्यालय में रक्तदान शिविर का पोस्टर। - फोटो : Kangra
विज्ञापन
ख़बर सुनें
इंदौरा (कांगड़ा)। पंजाब में चल रहे निजी अस्पताल अमनदीप ने शनिवार को बिना स्वास्थ्य विभाग की अनुमति के इंदौरा के अर्नी विश्वविद्यालय में रक्तदान कैंप लगाया। इस तरह की मनमर्जी से क्षेत्र में स्वास्थ्य विभाग की कार्यशैली पर भी सवाल उठने लगे हैं।

जानकारी के अनुसार इस शिविर की सूचना खंड चिकित्सा अधिकारी इंदौरा को नहीं थी। बीएमओ इंदौरा संदीप ने बताया कि कैंप की अनुमति मुख्य चिकित्सा अधिकारी से लेना जरूरी होता है। उसके बाद ही स्वास्थ्य शिविर लगाए जा सकते हैं। बीएमओ ने बताया कि इस तरह के कैंप में बाकायदा स्वास्थ्य विभाग का एक अधिकारी मौजूद रहता है। सुरक्षा कारणों से उस अफसर की देखरेख में ही इस तरह के शिविरों का आयोजन किया जा सकता है।

उन्होंने बताया कि अमनदीप अस्पताल की ओर से रक्तदान शिविर लगाने की विभाग को कोई जानकारी नहीं थी। बीएमओ ने बताया कि सीएमओ ऑफिस धर्मशाला में इस कैंप की अनुमति न लेने की पुष्टि हुई, तो हमने अपना एक अधिकारी भेजकर शिविर को बंद करवा दिया। इस संदर्भ में जब अमनदीप अस्पताल प्रबंधन का पक्ष लेना चाहा तो उनसे कोई जवाब नहीं मिला। इसके बाद मैसेज से संपर्क करने का चाहा, तो भी कोई उत्तर नहीं मिला।
दान के नाम पर इकट्ठा कर बेचा जा रहा रक्त
स्थानीय लोगों का आरोप है कि इस तरह के कैंप में दान के नाम पर रक्त इकट्ठा किया जाता है। इस रक्त को निजी अस्पताल दूसरे राज्यों में ले जाकर 10 से 20 हजार रुपये में बेचे रहे हैं। इस तरह के शिविर कोई पुण्य का काम नहीं है। निजी अस्पतालों में रक्तदान को भी कारोबार बना लिया है। बिना उचित सुरक्षा तैयारियों के आयोजित इन कैंपों पर नकेल कसने में विभाग भी नाकाम रहा है।
उचित कार्रवाई की जाएगी : सीएमओ
सीएमओ गुरदर्शन गुप्ता ने बताया कि अमनदीप अस्पताल ने रक्तदान शिविर लगाने के लिए कोई परमिशन नहीं ली थी और न ही उन्हें इस बारे में कोई जानकारी है। जैसे ही उन्हें इस बारे में जानकारी मिली तो उन्होंने तुरंत बीएमओ इंदौरा संदीप को फोन किया। उन्होंने अपना अफसर भेजकर रक्तदान शिविर को रुकवा दिया है। किसी भी तरह का मेडिकल कैंप या ब्लड कैंप लगाना हो तो उसके लिए सीएमओ ऑफिस से अनुमति लेना अनिवार्य है। बिना अनुमति के कोई भी व्यक्ति किसी भी तरह का मेडिकल कैंप नहीं लगा सकता है। अस्पताल पर जो भी कार्रवाई बनती होगी, उसे अमल में लाया जाएगा।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00