लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

विज्ञापन
Hindi News ›   India News ›   Cancer Trick for Dodging the Immune System may open the way to improve treatment

चिंताजनक: नई चालबाजी से प्रतिरक्षा को गच्चा देने लगा कैंसर, खुल सकता है इलाज में सुधार का रास्ता

अमर उजाला रिसर्च डेस्क, नई दिल्ली। Published by: देव कश्यप Updated Mon, 03 Oct 2022 06:25 AM IST
सार

हाल ही में हुए एक शोध में विशेषज्ञों ने पाया है कि कुछ कैंसर कोशिकाएं टी सेल्स (प्रतिरक्षा) के प्रहार से नष्ट न हो पाएं, इसके लिए वह दूसरी बड़ी कैंसर कोशिकाओं के भीतर छिप जाती हैं।

कैंसर (सांकेतिक तस्वीर)।
कैंसर (सांकेतिक तस्वीर)। - फोटो : सोशल मीडिया
ख़बर सुनें

विस्तार

शरीर में कैंसर का प्रसार रोकने के लिए प्रतिरक्षा तंत्र के मजबूत हमले की जरूरत पड़ती है लेकिन अब इस रोग की कोशिकाओं ने खुद को बचाने की तरकीब ढूंढ ली है, जिसने वैज्ञानिकों को हैरान कर दिया हैं।



हाल ही में हुए एक शोध में विशेषज्ञों ने पाया है कि कुछ कैंसर कोशिकाएं टी सेल्स (प्रतिरक्षा) के प्रहार से नष्ट न हो पाएं, इसके लिए वह दूसरी बड़ी कैंसर कोशिकाओं के भीतर छिप जाती हैं। दरअसल, शोधकर्ता अध्ययन के दौरान एक खास तरह की कैंसर थेरेपी पर काम कर रहे थे। यह उन प्रोटीनों का खात्मा करती है, जो गांठों पर टी सेल्स के हमले को रोकते हैं और इसका मेलानोमा, बड़ी आंत (कोलन) कैंसर और फेफड़ों के कैंसर में इस्तेमाल होता है। लेकिन वैज्ञानिक तब चौंक गए, जब टी सेल्स द्वारा नष्ट किए जाने के बाद गांठ वापस उभरने लगी।


खुल सकता है इलाज में सुधार का रास्ता
शोधकर्ताओं ने जब इंसानी कोशिकाओं में इसकी पड़ताल की तो उनमें भी कमोबेश यही स्थिति सामने आई। हालांकि, रक्त कैंसर व ग्लियोब्लास्टोमा के मामले में ऐसा नहीं दिखा और इनकी कोशिकाओं ने विशाल संरचना नहीं बना रखी थी। शोध के नतीजों को देखकर कुछ अन्य विशेषज्ञों ने कहा है कि यह खोज मरीजों के इलाज में अधिक सुधार का रास्ता खोल सकती है।

कैंसर खुद को छिपा सकता है महीनों
चूहों में मेलानोमा और स्तन कैंसर पर शोध कर रहे तेल अवीव यूनिवर्सिटी के सहायक प्रोफेसर यारोन करमी और डॉक्टरेट कर रहे उनके छात्र अमित गुटविलिंग ने प्रयोगशाला में देखा कि कुछ विशाल कोशिकाएं टी सेल्स के हमलों के बावजूद बची हुई थीं। गहनता से पड़ताल करने पर खुलासा हुआ कि इन्होंने अपने भीतर छोटी-छोटी कैंसर कोशिकाओं को छिपा रखा था ताकि वे प्रतिरक्षा से बचने में कामयाब रहें।

डॉ. करमी के मुताबिक, इन कोशिकाओं का दृश्य किसी शैतान को देखने सरीखा था, जो चालाकियों से खुद को बचा रही थीं। उनका कहना है कि इस तरह कैंसर खुद को हफ्तों और महीनों तक छिपाए रख सकता है।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00