लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

विज्ञापन
Hindi News ›   India News ›   no difference in newly installed emblem at top of Central Vista project

Supreme Court : नए संसद भवन के 'शेर' आक्रामक नहीं, कैसे दिखते हैं यह देखने वाले की धारणा पर निर्भर

राजीव सिन्हा, अमर उजाला, नई दिल्ली Published by: सुरेंद्र जोशी Updated Fri, 30 Sep 2022 02:11 PM IST
सार

 याचिका में कहा गया था कि सेंट्रल विस्टा परियोजना के शीर्ष पर स्थापित भारत के राज्य चिन्ह में शेरों के डिजाइन में स्पष्ट अंतर है। इसमें सारनाथ संग्रहालय में संरक्षित राष्ट्रीय प्रतीक की तुलना में शेरों का रूप बदला हुआ प्रतीत होता है। 

नए संसद भवन के शीर्ष पर राष्ट्रीय प्रतीक चिंह
नए संसद भवन के शीर्ष पर राष्ट्रीय प्रतीक चिंह - फोटो : ANI
ख़बर सुनें

विस्तार

सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को कहा है कि सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट के तहत निर्माणाधीन नए संसद भवन के ऊपर स्थापित राष्ट्रीय प्रतीक (अशोक स्तंभ) भारत के राज्य प्रतीक अधिनियम, 2005 का उल्लंघन नहीं करता है। इसके साथ ही शीर्ष कोर्ट ने इससे संबंधित याचिका खारिज करते हुए कहा कि शेर कैसे दिखते हैं, यह देखने वाले की धारणा पर निर्भर करता है। 



जस्टिस एमआर शाह और कृष्ण मुरारी की पीठ ने यह कहते हुए उस जनहित याचिका को खारिज कर दिया, जिसमें दावा किया गया था कि यह प्रतिमा भारत के राज्य प्रतीक अधिनियम, 2005 के तहत अनुमोदित राष्ट्रीय प्रतीक की डिजाइन के विपरीत है।


शेर आक्रामक नजर आने का दावा किया था
सुनवाई के दौरान याचिकाकर्ता की ओर से तर्क दिया गया कि नए प्रतीक चिंह में शेर अधिक आक्रामक प्रतीत होते हैं। इस पर जस्टिस शाह ने कहा, 'यह धारणा उसे देखने वाले व्यक्ति के दिमाग पर निर्भर करती है।' याचिकाकर्ता वकील ने तर्क दिया कि राष्ट्रीय प्रतीक के स्वीकृत डिजाइन के संबंध में कलात्मक बदलाव या नयापन नहीं हो सकता है। याचिकाकर्ता ने यह भी तर्क दिया कि मूर्ति में 'सत्यमेव जयते' का लोगो नहीं है। हालांकि पीठ ने कहा कि अधिनियम का कोई उल्लंघन नहीं है। यह कहते हुए पीठ ने याचिका को खारिज कर दिया। 

दो एडवोकेट-ऑन-रिकॉर्ड (एओआर) अल्दानिश रीन और रमेश कुमार मिश्रा द्वारा दायर इस याचिका में कहा गया था कि नया प्रतीक भारत के राज्य प्रतीक अधिनियम के तहत राज्य प्रतीक के विवरण और डिजाइन का उल्लंघन करता है।

सारनाथ की तरह शांत होना चाहिए शेर, इनका सांस्कृतिक व दार्शनिक महत्व
याचिका में कहा गया था कि संबंधित प्रतीक में शेर क्रूर और आक्रामक प्रतीत होते हैं, उनके मुंह खुले और कुत्ते दिखाई देते हैं जबकि इसे अशोक की सारनाथ स्तंभ के शेर के समान होना चाहिए, जो शांत हैं। याचिका में कहा गया है कि चार शेर बुद्ध के चार मुख्य आध्यात्मिक दर्शन के प्रतीक हैं, जो केवल एक डिजाइन नहीं है, बल्कि इसका सांस्कृतिक और दार्शनिक महत्व है। याचिका की यह भी गया था कि राज्य के प्रतीक के डिजाइन में बदलाव इसकी पवित्रता का उल्लंघन करता है। इसमें किसी तरह का बदलाव स्पष्ट रूप से मनमाना है।

पीएम मोदी जुलाई में किया था अनावरण
पीएम नरेंद्र मोदी ने 11 जुलाई को नए संसद भवन की छत पर स्थापित 21 फुट ऊंचे अशोक स्तंभ का अनावरण किया था। तबसे इसे लेकर विवाद चल रहा था। विपक्षी दल सम्राट अशोक की लाट के राजसी शान वाले शेरों की जगह 'आक्रामक शेरों' के चित्रण का विरोध कर रहे थे। भाजपा सरकार पर राष्ट्रीय प्रतीक के स्वरूप को बदलने का आरोप लगाया जा रहा था। कांग्रेस महासचिव जयराम रमेश ने कहा था कि सारनाथ स्थित अशोक के स्तंभ पर शेरों के चरित्र और प्रकृति को पूरी तरह से बदलना भारत के राष्ट्रीय प्रतीक का अपमान है। तृणमूल कांग्रेस की नेता महुआ मोइत्रा तंज कसा था, 'सच कहा जाए, सत्यमेव जयते से संघीमेव जयते की भावना पूरी हुई।'

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00