लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Jobs ›   Government Jobs ›   BPSC Paper Leak bihar cm nitish kumar said action will taken against culprits

BPSC Paper Leak: पेपर लीक प्रकरण पर बोले सीएम नीतीश, आरोपियों पर होगी कड़ी कार्रवाई

जॉब डेस्क, अमर उजाला Published by: सुभाष कुमार Updated Mon, 09 May 2022 04:38 PM IST
सार

BPSC Paper Leak: सीएम नीतीश ने कहा कि मैंने पुलिस को जांच में तेजी लाने के लिए कहा है। जिस व्यक्ति ने भी पेपर लीक किया उसके खिलाफ कार्रवाई होगी

नीतीश कुमार
नीतीश कुमार - फोटो : ANI
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

BPSC Paper Leak: बिहार लोक सेवा आयोग बीपीएससी 67वीं की प्रारंभिक परीक्षा के पेपर लीक मामले पर अब बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का बयान भी सामने आ गया है। सीएम नीतीश ने पटना में एक कार्यक्रम के दौरान कहा कि परीक्षा के पेपर लीक की सूचना मिली तो तुरंत एक्शन लेते हुए उसे रद्ध किया गया। अभी जांच की जा रही है कि पेपर कहां से लीक हुआ? मैंने पुलिस को जांच में तेजी लाने के लिए कहा है। जिस व्यक्ति ने भी पेपर लीक किया उसके खिलाफ कार्रवाई होगी।


वहीं, बिहार लोक सेवा आयोग (BPSC) पेपर लीक पर बीपीएससी सचिव जीत सिंह ने कहा कि आयोग के अधिकारी और सदस्य बैठकर विमर्श करेंगे, उसके बाद ही फिर से परीक्षा कराए जाने पर निर्णय होगा। हमारे पास परीक्षा को ऑनलाइन कराने की कोई योजना नहीं है। पश्न पत्र सेंटर से ही लीक हुआ है। एक सेंटर छोड़कर किसी और सेंटर से शिकायत नहीं आई। 

 

BPSC Paper Leak: पेपर किया गया रद्द
बिहार लोक सेवा आयोग ने (BPSC) 67वीं संयुक्त प्रतियोगी प्रारंभिक परीक्षा पेपर लीक होने के कारण रद्द कर दी है। पेपर लीक का मामला सामने के बाद आयोग की ओर एक तीन सदस्यीय समिति बनाई गई थी। समिति को 24 घंटे में रिपोर्ट सौंपने को कहा गया था, लेकिन जानकारी के अनुसार, समिति ने महज तीन घंटे में ही रिपोर्ट सौंप दी और परीक्षा निरस्त करने की सिफारिश कर दी थी। अब मामले की जांच राज्य की आर्थिक अपराध विंग (EOW) कर रही है। मामले की जांच जारी है और आरा के एक परीक्षा केंद्र अधीक्षक समेत चार कर्मचारियों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया है। 

यह भी पढ़ें-  BPSC Paper Leak: बीपीएससी 67वीं परीक्षा रद्द, आरा में पेपर लीक पर बवाल के बाद फैसला, साइबर सेल करेगी जांच

विपक्ष ने बोला हमला
बीपीएससी के पेपर लीक मामले में अब राजनीति भी शुरू हो गई है। आरजेडी नेता और विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने बिहार लोक सेवा आयोग का नाम बदलकर बिहार लोक पेपर लीक आयोग करने का सुझाव देते हुए तंज कसा है। वहीं, राज्य के पूर्व सीएम जीतन राम मांझी ने सरकार का बचाव किया है। उन्होंने लिखा कि जिनके शासनकाल में BPSC सीएम हाउस की कठपुतली बन गई थी,रिज़ल्ट सेटिंग के कारण BPSC अध्यक्ष तक को जेल जाना पड़ा आज वही लोग सरकार के काम-काज पर सवाल उठा रहें हैं। पेपर लीक मामले पर सरकार कारवाई कर रही है,युवाओं के भविष्य से खेलने वालों को बख़्शा नहीं जाएगा,चाहे कोई हो। वहीं, बिहार के उप मुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद ने कहा कि हम लोग जीरो टॉलरेंस पर काम करते हैं। हमारी सरकार सख़्त से सख़्त कार्रवाई करेगी। तेजस्वी यादव क्या बोलते हैं ये विषय नहीं है। मेरे लिए विषय है कि राज्य में ऐसी घटना होती है तो सरकार किस प्रकार कार्रवाई करती है। 

जातिगत जनगणना पर भी दिया बयान
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बिहार में जातिगत जनगणना के विषय पर भी बयान दिया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में जातिगत जनगणना करने के लिए सभी दलों के साथ बातचीत की जाएगी। सरकार ने जातिगत जनगणना लागू करने के लिए पूरा जायजा कर लिया है लेकिन हम चाहते हैं कि सभी दल एक बार इस विषय पर अपनी राय रखें।
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

 रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP

विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00