विज्ञापन

Literature Festival Shimla:अब ख्याल किसी और का, कहानी किसी और की और सिनेमा में फिल्म बनाने वाला कोई और है- गुलज़ार 

हलचल
                
                                                                                 
                            पिछले दिनों अंतर्राष्ट्रीय साहित्य उत्सव ‘उन्मेष’ का शिमला में आगाज हुआ।  केंद्रीय संसदीय कार्य एवं संस्कृति राज्य मंत्री अजरुन राम मेघवाल ने ‘उन्मेष’ का उद्घाटन किया। शिक्षा मंत्री गोबिंद सिंह ठाकुर, लेडी गवर्नर अनघा अर्लेकर, साहित्य अकादमी के अध्यक्ष डा. चंद्रशेखर कांबरा के अलावा जाने माने विद्वान जगद्गुरु रामानंदाचार्य, स्वामी राम भद्राचार्य ने भी शिरकत की। साहित्य उत्सव में देश-विदेश से करीब 425 साहित्यकार, लेखक और जाने माने विद्वान भाग ले रहे हैं। उत्सव में 64 विभिन्न कार्यक्रम होंगे और आदिवासी व लोक भाषाओं सहित 60 भाषाओं के लेखक भाग ले रहे हैं और अपनी रचनाओं का पाठ करेंगे।
                                                                                                


शिमला में तीन दिवसीय अंतरराष्ट्रीय साहित्य उत्सव उन्मेष का शुभारंभ हो गया है। पहले सत्र की गीतकार गुलजार ने अध्यक्षता की। इसमें फिल्म निर्देशक विशाल भारद्वाज, गौतम घोष, पद्म विभूषण सई परांजपे सहित बॉलीवुड की कई हस्तियों ने चर्चा में हिस्सा लिया।

बॉलीवुड के जाने-माने गीतकार, कवि और फिल्मकार गुलजार ने कहा है कि फिल्मी पटकथा संवाद को भी नाटक की तरह साहित्य में स्थान मिलना चाहिए। यह बात उन्होंने गुरुवार को शिमला में तीन दिवसीय अंतरराष्ट्रीय साहित्य उत्सव उन्मेष के शुभारंभ पर कही।  गुलजार ने कहा कि यह विचार-विमर्श साहित्य और सिनेमा पर हो रहा है। आज सिनेमा साहित्य अकादमी की बगल में खड़ा है। सिनेमा भी अभिव्यक्ति की एक नई जबान पैदा हुई है। मूविंग इमेज से लेकर तकनीकी विकास तक सिनेमा ने आज तक की एक लंबी यात्रा तय की है। जब कहानी सुनाने की बात आई तो कहानियों की तलाश चली। यह उत्सव 18 जून तक चलेगा। 
  आगे पढ़ें

1 month ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
विज्ञापन
X