विज्ञापन

हेमन्त देवलेकर की कविता- बारिश एक दृष्टिभ्रम है

कविता
                
                                                                                 
                            बसंत की भाप हैं बादल
                                                                                                


बारिश एक दृष्टिभ्रम है –
सिर्फ़ पृथ्वी देख पाती
आसमान से वनस्पतियों का उतरना

बूंदों में कितने भिन्न
और असंख्य बीज
मिट्टी की इच्छा और अनिच्छा से भरपूर

मिट्टी के हर एक कण पर
लहराता है हरा परचम

बारिश कितनी बड़ी तसल्ली है
कि मवेशी अब
किसी दया के मोहताज नहीं

स्वाधीनता का उत्सव है बारिश
1 month ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
विज्ञापन
X