विज्ञापन

रघुवीर सहाय: जब वह किसी बात को स्वीकार करती है तो 'हाँ' नहीं कहती

raghuveer sahay hindi kavita jab wah kisi baat ko sweekar karti hai toh haan nahin kahti
                
                                                                                 
                            

जब वह किसी बात को स्वीकार करती है


तो ‘हाँ’ नहीं कहती

सिर्फ़ ख़ुशी-ख़ुशी अपना काम करने लगती है

उसी से हम जानते हैं कि
उसने स्वीकार किया।


साभार - कविताकोश

1 month ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
विज्ञापन
X