विज्ञापन

प्यार निभाये कोई

                
                                                                                 
                            पास रहकर ही संगति निभाये कोई|
                                                                                                

दूर रहकर दुआ ही बनाये कोई|

दूर रहकर तुम्हें ऐसे चाहे कोई,
खोलकर आंखे रातें बिताये कोई|

प्यार करते हैं तुमको सनम जिस तरह,
प्यार करके हमें भी बताये कोई|

इश्क़ करते गये मात खाते गये,
आशिकी में किसे आजमाये कोई|

आ रही है ये ख़ुशबू कि जैसे कहीं,
जुल्फ़ फैला के पानी सुखाये कोई|

तुमने पूछा मेरे पास आते हो क्यों,
फूल महके तो भौंरा न आये कोई|

अब तो हंसकर ये कहते हैं देखो 'शुभम',
इश्क़ में दिल कहां तक दुखाये कोई|


हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
2 years ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
विज्ञापन
X