विज्ञापन

नफ़रत

                
                                                                                 
                            नफरतों की सरहदों में हम घीरे कुछ इस कदर
                                                                                                

धर्म मजहब के चक्कर में हम बटे कुछ इस कदर
एक हिंदू एक मुसलमान आए हमको बस ये नजर

हिन्दुत्व बचाने हिंदू निकला , इस्लाम बचाने निकला मुसलमान
कोई ना आया आगे बचाने इंसानियत और इंसान

उसको ढाल बना के हम उसको बचाने निकले है
इस दुनिया बनाने वाले को उसकी दुनिया दिखाने निकले है
बांट के जो तुम सबको दुनिया सजाने निकले हो
क्यों सिशा बनाने वाले को आइना दिखाने निकले हो

रंगो को भी बांट दिया हिंदू और मुसलमान में
देख के दाढ़ी या देख के मूछे जो फर्क करो तुम इंसान में
क्या यही सिखाया है हमको गीता और कुरान ने

उसने ना बनाया हिंदू ना बनाया मुसलमान
उसने ना बनाया हिन्दुत्व ना बनाया इस्लाम
उसने ना बाटी ये दुनिया ना बांटा ये जहां
हमने उसी को बांट दिया जैसे अल्लाह और भगवान
 
- हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करे
8 months ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
विज्ञापन
X