प्रेम तंत्र

                
                                                             
                            मैं प्रेम करता हूँ
                                                                     
                            
तुम्हारी ख़ामोशी से।
तुम ऐसे ही मुझे देख
मुस्कुराती रहो।
मैं प्रेम करता हूँ
तुम्हारी सुर्ख आंखों से।
तुम ऐसे ही मुझे देख
पलकें झुकाती रहो।
मैं प्रेम करता हूँ
तुम्हारी आबनूस सी
काली जल्फो से।
तुम ऐसे ही मुझे देख
बालों को लहराती रहो।
मैं प्रेम करता हूँ
तुम्हारी सादगी से।
तुम ऐसे ही रहना
जब तक चलती है सांसे
प्रेम तक
- हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करे
7 months ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
X
सबसे तेज और बेहतर अनुभव के लिए चुनें अमर उजाला एप
अभी नहीं