विज्ञापन

नसीबों का खेल सारा है

                
                                                                                 
                            नसीबों का खेल सारा है,
                                                                                                

किसी के हिस्से में महल चौबारे आ गए,
कोई गरीब कुली को भी तरसता रह गया,
कोई खाए जहां पकवान भात भात के,
कोई सूखी रोटी को भी ललचाता रहा गया,

किसी के हिस्से में आए हीरे मोती,
कोई काला धागा पहन कर ही मन बहला रह गया,
कोई प्यार में रच बस गया है,
तो कोई झूठ के आगोश में फस गया है,
कोई अपनी ताकत का सही इस्तेमाल कर रहा है,
कोई अपनी ताकत दूसरों पर अजमा रहा है,
कुदरत ने ही यह लीला रचाई है,
रंगमंच की कठपुतलियां सी हालत बनाई है।।

सीमा सूद
- हम उम्मीद करते हैं कि यह पाठक की स्वरचित रचना है। अपनी रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
2 months ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
विज्ञापन
X