विज्ञापन

वैष्णो है नाम मेरा

                
                                                                                 
                            बालिका रूप में आती,
                                                                                                

अष्टमी की ज्योत जगाती,
हलवा, छोले खा कर मैं,
तुरंत ओझल हो जाती,
ध्यान जो करोगे मेरा,
अपने नजदीक पाओगे,
मां वैष्णो है नाम मेरा,
पहाड़ों में है स्थान मेरा,
बर्फ से लदी पहाड़ियां हैं,
सुकून का अहसास है जहां,
वैष्णो देवी है धाम मेरा,
जो भी आता खाली हाथ,
कर देती उस पर मैं
खुशियों की बरसात।।

नंगे नंगे पैरों से चलकर, वैष्णो देवी के धाम जाएंगे,
जो रूठ गई है मां हमसे, हाथ जोड़ कर मनाएंगे।।

सीमा सूद
 
- हम उम्मीद करते हैं कि यह पाठक की स्वरचित रचना है। अपनी रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
4 months ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
विज्ञापन
X