विज्ञापन

जिजीविषा की जिदें

                
                                                                                 
                            दरकती दीवारों के उस पार,
                                                                                                

तलाश रहा हूँ,
प्रारब्ध की रौशनी,
गीली मिट्टी मेें,
हथेलियाँ बार-बार
छापकर, पोतकर,
निखार रहा हूँ,
भाग्य की लकीरें
उफनती नदी के किनारे,
घंटों बैठकर,
जुटा रहा हूँ
पार जाने की हिम्मत।

न थका हूँ न बुझा हूँ
न विदीर्ण हूँ न घायल हूँ
न टूटा हूँ न बिखरा हूँ
न विछिन्न हूँ न धूमिल हूँ
किंतु,
त्याग रहा हूँ,
आज, अभी से,
जिजीविषा की जिदें।

आई थी दरवाजे पे,
आज भी गौरैया,
फुदकी,चहकी,उड़ी, बैठी,
कुछ तो कह गई होगी वो मुझसे,
खिली है आज भी,
गुड़हल पे फूलों की लाली,
तुलसी पे और हरियाली
गेंदा प्रण करते हैं,
कुंवार कार्तिक में,
सजाएंगे मेरा घर मंदिर देहरी,
होगी नवरात्र दीवाली।

गैया रंभाती है नीम तले,
चिड़ियाँ अनगिनत भीगती हैं,
मेरे खेतों के क्षणभंगुर तलाबों में,
गन्ने के हरे-भरे खेत,
दूर-दूर तक फैली दलहनें,
धान की पनपती रोपाई,
घुटनों तक भर आई,
सावन का पानी,
मौसम की जवानी,
सब मुझे बेफ़िक्र कर रहे हैं,
सभी मुझे बेपरवाह कर रहे हैं।

मैं भी रम रहा हूँ,
आज, अभी से,
मदमस्त कायनात के,
इन नजारों में,
किंतु,
त्याग रहा हूँ,
आज,अभी से,
जिजीविषा की जिदें।

- श्रीधर
- हम उम्मीद करते हैं कि यह पाठक की स्वरचित रचना है। अपनी रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
2 months ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
विज्ञापन
X