विज्ञापन

चंदबरदाई के पृथ्वीराज रासो में उस समय के अधिकतम छंदों का प्रयोग हुआ 

साहित्य
                
                                                                                 
                            चंदबरदाई, हिन्दी साहित्य के आदिकालीन कवि और पृथ्वीराज चौहान के मित्र थे। उन्होंने 'पृथ्वीराज रासो' नामक प्रसिद्ध हिन्दी ग्रन्थ की रचना की। चंदबरदाई का जन्म 1148 में लाहौर में हुआ। उनका मूल ना नाम पृथ्वी चंद भट्ट था। बाद के दिनों में वे अजमेर- दिल्ली के राजा पृथ्वीराज चौहान के सखा, राजकवि और सहयोगी हो गए थे। चंद को हिंदी का प्रथम महाकवि माना जाता है और उनकी रचना पृथ्वीराज रासो को हिंदी की पहली रचना होने का सम्मान प्राप्त है।  पृथ्वीराज चौहान का शासनकाल 1165 से 1192 तक माना जाता है, इस दौरान उन्होंने वर्तमान राजस्थान से लेकर दिल्ली पर राज किया और इसी समय चंदबरदाई भी रचनात्मक रूप से सक्रिय थे और अपने महत्वपूर्ण ग्रंथ भी लिखे।  
                                                                                                


'पृथ्वीराज रासो' को हिंदी का सबसे बड़ा काव्य-ग्रंथ माना जाता है। इस महाकाव्य में 10,000 से अधिक छंद हैं और उस समय में प्रचिलत 6 भाषाओं का उपयोग किया गया है। ग्रथं में उत्तर भारत के राजपूत समाज की जीवन शैली और परंपराओं में विषय में विस्तृत जानकारी मिलती है। प्राचीन समय में प्रचलित प्रायः सभी छंदों का इसमें व्यवहार हुआ है। मुख्य छन्द हैं - कवित्त (छप्पय), दोहा, तोमर, त्रोटक, गाहा और आर्या। जैसे कादंबरी के संबंध में प्रसिद्ध है कि उसका पिछला भाग बाण के पुत्र ने पूरा किया है, वैसे ही रासो के पिछले भाग का भी चंद के पुत्र जल्हण द्वारा पूर्ण किया गया है। कहा जाता है कि जब गोरी ने पृथ्वीराज को परास्त कर उन्हें अपने साथ ले गया तो चंद भी उनके साथ गए और जाते समय यह ग्रंथ अपने पुत्र को दे दिया और उसे पूर्ण करने का इशारा भी किया। जल्हण के हाथ में रासो को सौंपे जाने और उसके पूरे किए जाने का उल्लेख रासो में है -


पुस्तक जल्हण हत्थ दै चलि गज्जन नृपकाज ।
रघुनाथनचरित हनुमंतकृत भूप भोज उद्धरिय जिमि ।
पृथिराजसुजस कवि चंद कृत चंदनंद उद्धरिय तिमि ।
3 months ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
विज्ञापन
X