आज का शब्द: पिपासा और जयशंकर प्रसाद की कविता- तेरा प्रेम हलाहल प्यारे

आज का शब्द
                
                                                             
                            अमर उजाला 'हिंदी हैं हम' शब्द श्रृंखला में आज का शब्द है- पिपासा, जिसका अर्थ है- जल पीने की इच्छा या प्यास, कुछ जानने की इच्छा। प्रस्तुत है जयशंकर प्रसाद की कविता- तेरा प्रेम हलाहल प्यारे
                                                                     
                            

तेरा प्रेम हलाहल प्यारे, अब तो सुख से पीते हैं। 
विरह सुधा से बचे हुए हैं, मरने को हम जीते हैं॥ 

दौड़-दौड़ कर थका हुआ है, पड़ कर प्रेम-पिपासा में। 
हृदय ख़ूब ही भटक चुका है, मृग-मरीचिका आशा में॥  आगे पढ़ें

1 month ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
X