विज्ञापन
विज्ञापन
शरद पूर्णिमा पर कराएं श्री कृष्ण की विशेष पूजा, बांके बिहारी मंदिर, वृन्दावन 19 अक्टूबर 2021
Myjyotish

शरद पूर्णिमा पर कराएं श्री कृष्ण की विशेष पूजा, बांके बिहारी मंदिर, वृन्दावन 19 अक्टूबर 2021

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

लखनऊ : पुलिस मुठभेड़ में दो बांग्लादेशी बदमाश घायल, सिपाही को भी लगी गोली

चिनहट के मल्हार में रविवार देर रात पुलिस और बदमाशों में मुठभेड़ हो गई। दोनों तरफ से हुई फायरिंग में दो बदमाशों और एक सिपाही को गोली लगी। तीनों घायलों को लोहिया अस्पताल में भर्ती कराया गया। पुलिस अधिकारी के मुताबिक घायल बदमाश डकैती डालने के लिए आए थे सभी बांग्लादेश के रहने वाले हैं।

एसीपी विभूति खंड अनूप सिंह के मुताबिक दोनों बदमाश साथियों के साथ मल्हार में डकैती डालने की योजना से आए थे। चेकिंग पर निकली पुलिस टीम ने शक होने पर बदमाशों को पूछताछ के लिए रोका तो वे भागने लगे। पुलिस ने उनका पीछा किया तो फायरिंग शुरू कर दी। जवाबी फायरिंग में दो बदमाशों के पैर में गोली लगी, जबकि अन्य भाग निकले। घायल बदमाशों में रुबिल और आलम उर्फ अलीम बताया है। दोनों बदमाश  बांग्लादेशी हैं। 

पुलिस दोनों के साथियों के बारे में पता लगा रही है। मुठभेड़ की सूचना पर कई थानों की पुलिस मौके पर पहुंच गई। देर रात तक गिरफ्तार आरोपियो  के साथियों की तलाश होती रही, लेकिन उनका सुराग नहीं लगा। पुलिस के मुताबिक बदमाश करीब 6 से 7 की संख्या में थे । अन्य साथियों की तलाश में पुलिस टीम आसपास के इलाके में कांबिंग कर रही है। मुठभेड की सूचना पर जेसीपी अपराध निलाब्जा चौधरी, डीसीपी संजीव सुमन,  एडीसीपी कासिम आब्दी मौके पर पहुंच गए।
... और पढ़ें

अयोध्या : फर्जी आर्मी मैन गिरफ्तार, लोगों को भर्ती कराने के नाम पर लेता था पैसे

बाराबंकी: मनीष गुप्ता हत्याकांड में आरोपी दरोगा के घर फिर पहुंची कानपुर एसआईटी

गोरखपुर के होटल में कानपुर के व्यापारी मनीष गुप्ता हत्याकांड के मामले में आरोपी दरोगा के बाराबंकी के स्थित घर में रविवार को एक बार फिर से एसआईटी की टीम ने छापा मारा।

बताया जाता है कि टीम ने यहां दरोगा के परिजनों से उसके बारे में पूछताछ की। शहर के मोहन नगर मोहल्ले में गोरखपुर में हुए कानपुर के व्यापारी मनीष गुप्ता हत्याकांड में आरोपी दरोगा अक्षय मिश्रा का घर है। यहीं पर यह कार्रवाई की गई।

कोर्ट में हाजिर होने की फिराक में हत्यारोपित पुलिसकर्मी
बताया जा रहा है कि मनीष गुप्ता की मौत के आरोपित इंस्पेक्टर जेएन सिंह, चौकी इंचार्ज रहे अक्षय मिश्रा कोर्ट में हाजिर होने की फिराक में हैं। कानपुर और गोरखपुर पुलिस का गिरफ्तारी के लिए बढ़ते दबाव के बीच इंस्पेक्टर जेएन सिंह ने गोरखपुर के कई बड़े अधिवक्ताओं से संपर्क साधा है। हालांकि कुछ ने केस लड़ने से मना भी कर दिया है।

जानकारी के मुताबिक, कारोबारी मनीष की 27 सितंबर की रात में मौत हो गई थी। आरोप है कि होटल कृष्णा पैलेस में चेकिंग करने गए इंस्पेक्टर जेेएन सिंह, अक्षय मिश्रा, विजय यादव समेत छह पुलिस वालों की पिटाई से मनीष की मौत हुई थी। इस मामले में रामगढ़ताल थाने में हत्या का केस भी दर्ज है। इसकी जांच कानपुर एसआईटी कर रही है और जांच में पिटाई से मौत का मामला भी साफ हो चुका है। आरोपितों पर एक-एक लाख रुपये का इनाम भी घोषित कर दिया गया है।

बताया जा रहा है कि कानपुर पुलिस के अलावा गोरखपुर पुलिस की भी कुछ टीमें फिर से आरोपितों की तलाश में सरगर्मी से लग गईं हैं। आरोपितों को पकड़ने के लिए पुलिस जेएन सिंह या अन्य आरोपितों के हर उस करीबी तक पहुंच चुकी है जिससे कुछ सुराग मिल सके लेकिन अभी पुलिस के हाथ खाली हैं। सूत्रों का कहना है कि जेएन सिंह भी कानून को बारीकी से जानता है  इस वजह से वह कोर्ट में छुट्टी के दिन हाजिर होने की फिराक में है ताकि अधिवक्ताओं के गुस्से से बच सके।
... और पढ़ें

लखनऊ: हथौड़े से हमला कर महिला की निर्ममता से हत्या, हत्यारों ने पोते को बंद किया था दूसरे कमरे में

लखनऊ के पारा थाना क्षेत्र की काशीराम कॉलोनी में 6 साल के पोते संग रहने वाली सरोज सोनी की रविवार भोर दो बदमाशों ने हथौड़े से हमला कर हत्या कर दी। हत्या से पहले हमलावरों की किसी बात को लेकर सरोज से कहासुनी हुई थी, वारदात का कारण अभी पता नहीं चल सका है। पुलिस ने दो अज्ञात हमलावरों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज करके छानबीन शुरू की है।

पारा थाना क्षेत्र की काशीराम कॉलोनी में रहने वाली सरोज सोनी (60) घर में ही परचून की दुकान चलाती थीं। उनके साथ छह साल का पोता रहता था। जबकि सरोज का बेटा राधेश्याम बाराबंकी के रामसनेही घाट स्थित काशीपुर गांव में अपने पैतृक आवास में था।

रविवार सुबह सरोज के पोते के शोर मचाने पर पड़ोसी पहुंचे तो वह कमरे में बंद मिला जबकि दूसरे कमरे में सरोज की खून से लथपथ लाश मिली। सूचना पर पहुंची पारा थाने की पुलिस ने मौका मुआयना कर पोते से पूछताछ की।

इस पर पोते ने बताया कि रविवार भोर बाइक से दो युवक आए थे। उसकी दादी के दरवाजा खोलने पर दोनों किसी बात को लेकर उनसे झगड़ा करने लगे फिर घर के भीतर आकर पोते को एक कमरे में बंद करने के बाद दोनों युवकों ने हथौड़े से हमला करके सरोज की हत्या कर दी।

पारा इंस्पेक्टर राजेश कुमार ने बताया कि मामले में सरोज के बेटे राधेश्याम की तहरीर पर दो अज्ञात बदमाशों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर छानबीन शुरू की गई है। घटनास्थल के आसपास के सीसीटीवी कैमरे भी खंगाले जा रहे हैं, ताकि हमलावरों का कोई सुराग मिल सके।
... और पढ़ें
प्रतीकात्मक तस्वीर प्रतीकात्मक तस्वीर

लखनऊ: बाइक सवार ने युवती को मारा थप्पड़ और ले ली बाइक की चाबी

लखनऊ के मीराबाई मार्ग के चौराहे पर शनिवार शाम पैदल जा रही युवती को देख बुलेट सवार एक युवक रुक गया। दोनों में किसी बात पर नोकझोंक होने लगी तो युवती ने बुलेट से चाबी निकाल ली।

इस पर युवक ने युवती को गालियां दीं और बुलेट से उतरकर उसे जोरदार थप्पड़ मार दिया। इससे युवती सहम गई और चाबी लौटा दी। इसके बाद दोनों वहां से चले गए। पूरा घटनाक्रम पास के एक सीसीटीवी में कैद हो गया।

मामला इंटरनेट मीडिया तक पहुंचा तो पुलिस ने बुलेट सवार युवक की तलाश शुरू की। हजरतगंज इंस्पेक्टर श्यामबाबू शुक्ल ने बताया कि आसपास के अन्य सीसीटीवी की फुटेज से गाड़ी का नंबर पता कर आरोपी को गिरफ्तार कर कार्रवाई की जाएगी। युवती के बारे में भी जानकारी की जा रही है।
... और पढ़ें

रायबरेली : चबूतरे में मिट्टी डालने को लेकर हुए विवाद मे अधेड़ को पीट-पीट कर मौत के घाट उतारा

रायबरेली में डलमऊ कोतवाली क्षेत्र के एक गांव में जमीन विवाद को लेकर दबंगों ने पिता, पुत्र व  पुत्री को पीट पीट कर मरणासन्न कर दिया। परिजनों की पुकार सुनकर आसपास के लोगों ने किसी तरह विवाद शांत कराकर घायलों को सीएचसी लेकर पहुंचे, जहां पर अधेड़ की  इलाज के दौरान मौत हो गई है। वहीं युवक व युवती का इलाज जारी है।  
                          
डलमऊ कोतवाली क्षेत्र के पूरे झंडा मजरे चक मलिक भीटी निवासी श्यामलाल 60 वर्ष पुत्र शंकर के दरवाजे के पास बने चबूतरे पर परिवार के लोग मिट्टी छोप रहे थे। इसी बीच श्याम लाल अपने चबूतरे पर परिवारिक लोगों के  मिट्टी छोपने का विरोध करने लगा। देखते ही देखते दोनों परिवारों का विवाद बढ़ गया। दबंगों ने श्यामलाल व उसके पुत्र हरिकेश 35 वर्ष तथा श्याम लाल की पुत्री रीना 20  वर्ष को लाठी-डंडों से पीटने लगे। मारपीट से तीनों लोग गंभीर रूप से घायल हो गए।
 
घायलों को पड़ोसियों की मदद से डलमऊ सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र ले जाया गया, जहां पर श्यामलाल की इलाज के दौरान मौत हो गई। वही रीना और हरकेश का इलाज जारी है। सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पड़ताल करने में जुट गई है। घटनास्थल पर क्षेत्राधिकारी अशोक कुमार सिंह ने मौके का जायजा लिया। वही गांव में घटी घटना से हड़कंप मचा हुआ है।
... और पढ़ें

बाराबंकी : अधिवक्ता के पुत्र की हत्या कर मांगी 50 लाख की फिरौती, दो आरोपी गिरफ्तार

फिरौती के लिए एक अधिवक्ता के नाबालिग पुत्र की दो युवकों ने हत्या कर दी। इसकी सूचना पर सक्रिय हुई पुलिस ने दोनों आरोपियो को पकड़ लिया और उनकी निशानदेही पर किशोर का शव एक नाले से बरामद किया है। 

बाराबंकी कोतवाली शहर के फतहाबाद में रहने वाले वकील बीएल गौतम के छोटे पुत्र आशुतोष गौतम उर्फ सूरज (17) गुरुवार सुबह संदिग्ध हालात में लापता हो गया था। वह सफदरगंज के एक कॉलेज में स्नातक प्रथम वर्ष का छात्र था। काफी देर तक घर नहीं आने पर करीब दो बजे परिजनों ने फोन किया तो उसका फोन भी स्वीच आफ था।

परिजन तलाश ही रहे थे की आशुतोष के बड़े भाई अनुराग के फोन पर काल आई और 50 लाख फिरौती न देने पर हत्या की धमकी दी। इससे परेशान परिजन कोतवाली पहुंचे और  पिता ने अज्ञात लोगों के खिलाफ तहरीर दी। हरकत में आई पुलिस ने सर्विलांस के जरिए दोनों आरोपित को लखपेड़ाबाग स्थित एक कमरे से दबोच लिया। 

पकड़े गए दोनों आरोपित में एक बलिया और दूसरा बहराइच का रहने वाला है। इन दोनों की रिश्तेदारी किशोर के गांव में है। यह दोनों बाराबंकी में ही रहकर ठेला लगाकर जीवन यापन करते हैं। पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि कमरे में पार्टी करने के दौरान आशुतोष के सिर पर पीछे तवे से हमला कर हत्या की थी। इसके बाद शव को रामसेवक स्कूल के पीछे स्थित एक नाले में फेंक दिया था। सीओ सिटी सीमा यादव ने बताया कोतवाली पुलिस के साथ आरोपियों की निशानदेही पर शव बरामद कराया। शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है पुलिस दोनों आरोपियों से पूछताछ कर रही है।
... और पढ़ें

लखनऊ : शाइन सिटी के निदेशकों के प्रत्यर्पण के लिए ईओडब्ल्यू ने शुरू की कार्रवाई, इंटरपोल से किया संपर्क, पासपोर्ट इम्बाउंड

घटना के बाद मौके पर पहुंची पुलिस
शाइन सिटी ग्रुप आफ कंपनीज में निवेश के नाम पर करोड़ों रुपये की ठगी के मामले में शाइन सिटी के दोनों निदेशक राशिद नसीम और आसिफ नसीम के प्रत्यर्पण की कार्रवाई आर्थिक अपराध अनुसंधान शाखा (ईओडब्ल्यू) ने शुरू कर दी है। जानकारी के अनुसार राशिद और आसिफ के दुबई में होने की खबर है। ऐसे में प्रत्यर्पण को लेकर दुबई के साथ भारत सरकार की ट्रीटी के अनुसार कार्रवाई की जा रही है। इस संबंध में केंद्र सरकार को ईओडब्ल्यू ने गृह विभाग के माध्यम से पत्र भी लिखा है। वहीं सूत्रों का कहना है कि उक्त दोनों निदेशकों के खिलाफ इंटरपोल की मदद से रेड कार्नर नोटिस भी जारी कराई जा रही है। लुक आउट नोटिस पहले ही जारी हो चुकी है। दोनों के ही पासपोर्ट को इम्बाउंड भी कर दिया गया है। पासपोर्ट इम्बाउंड होने से संबंधित व्यक्ति केवल अपने मूल देश वापस जा सकता है।

हाईकोर्ट के निर्देश पर ईओडब्ल्यू कर रहा है जांच
इस पूरे मामले की जांच हाईकोर्ट के निर्देश पर ईओडब्ल्यू कर रहा है। लखनऊ, प्रयागराज और वाराणसी में दर्ज लगभग 284 मामलों को ईओडब्ल्यू को स्थानांतरित किया जा चुका है। इस मामले में कुल 57 लोगों के नाम सामने आए हैं। जिसमें 50 को गिरफ्तार किया जा चुका है। बाकी की गिरफ्तारी के लिए इनाम घोषित किया गया है। इस जांच से ईओडब्ल्यू के भी हाथ पांव फूल रहे हैं। क्योंकि ईओडब्ल्यू के पास विवेचकों की संख्या सीमित है। जबकि शाइन सिटी द्वारा की गई धोखाधड़ी की एफआईआर अब भी जिलों में दर्ज की जा रही है।
... और पढ़ें

अलर्ट : दिल्ली में पकड़े गए आतंकी, यूपी में भी सुरक्षा एजेंसियां सतर्क, डीजीपी मुख्यालय ने अधिकारियों को किया विशेष सतर्क

दिल्ली में पाकिस्तानी आतंकी पकड़े जाने के बाद यूपी में भी सुरक्षा एजेंसियां सतर्क हो गई हैं। जिलों में तैनात अधिकारियों को भी डीजीपी मुख्यालय की ओर से अलर्ट किया गया है और संदिग्ध व्यक्तियों पर नजर रखने के निर्देश दिए गए हैं। एडीजी कानून व्यवस्था प्रशांत कुमार ने बताया कि जिलों को जनरल अलर्ट जारी किया गया है। उन्होंने बताया कि आने वाले दिनों में कई त्यौहार हैं। मसलन नवरात्रि, दुर्गापूजा, दशहरा और बारावफात जैसे प्रमुख त्यौहार हैं। ऐसे में शरारती तत्वों की माहौल बिगाड़ने की कोशिश हो सकती है। जिसे लेकर जिलों के अफसरों को सतर्क किया गया है। मुख्यमंत्री की ओर से भी वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से निर्देश दिए जा चुके हैं।

उधर, त्यौहारों से ठीक पहले दिल्ली पुलिस ने एक पाकिस्तानी आतंकी को मंगलवार को गिरफ्तार किया है। उसके पास से एके 47, मैगजीन और ग्रेनेड बरामद हुए हैं। जिसे लेकर यूपी की भी सुरक्षा एजेंसियां चौकन्ना हैं। यूपी पहले से ही आतंकियों के निशाने पर रहा है। स्वतंत्रता दिवस से ठीक पहले लखनऊ से अलकायदा के दो संदिग्ध आतंकी गिरफ्तार किए गए थे। उनका मंसूबा भी प्रदेश के अलग अलग हिस्सों में तबाही मचाने का था, जिसे सुरक्षा एजेंसियों ने नाकाम कर दिया था। प्रशांत कुमार का कहना है कि यूपी में पहले से भी सतर्कता बरती जा रही है।

भीड़-भाड़ वाली जगहों पर विशेष सतर्कता
त्यौहारों से पहले भेजे गए अलर्ट में कहा गया है कि भीड़-भाड़ वाली जगहों, प्रमुख बाजारों में, रेलवे स्टेशनों, बस स्टेशनों व अन्य सार्वजनिक स्थान जहां भीड़भाड़ अधिक रहती है वहां की रेगुलर चेकिंग कराई जाए। आगामी त्यौहारों में खासकर नवरात्रि के दौरान दुर्गापूजा के पंडालों व रामलीला में भी शरारती तत्वों पर नजर रखी जाए।  साथ ही संदिग्ध व्यक्तियों की जांच करने को भी कहा गया है।
... और पढ़ें

यूपी : पिता ने की पुत्र की धारदार हथियार से हत्या, 24 घंटे छिपाए रखा शव, सास की तहरीर पर केस दर्ज

जहांगीरगंज (अंबेडकरनगर) में रिश्ते को तार-तार करते हुए एक पिता ने ही अपने पुत्र की धारदार हथियार से हत्या कर दी। इसके बाद शव को 24 घंटे तक छिपाए रखा। सोमवार देर शाम युवक की दुर्घटना में मौत होने की सूचना ग्रामीणों को दी गई। मंगलवार को सुबह खून से लथपथ युवक के शव का अंतिम संस्कार करने की तैयारी हो ही रही थी कि इसी बीच मौके पर पुलिस पहुंच गई। मृतक की सास की तहरीर पर पुलिस ने पिता के विरुद्ध हत्या करने व साक्ष्य मिटाने समेत विभिन्न धाराओं में केस दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया।

जहांगीरगंज थाना क्षेत्र के गिरैया बाजार निवासी ईश्वरदत्त यादव ने सोमवार देर शाम गांव के कुछ ग्रामीणों को बताया कि उसके पुत्र सुनील (33) की दुर्घटना में मौत हो गई है। इस पर ग्रामीण उसके घर पहुंचे तो वहां का दृश्य देखकर सन्न रह गए। मामला दुर्घटना की बजाय हत्या का प्रतीत हुआ। इस बीच मंगलवार को सुबह ईश्वरदत्त शव के अंतिम संस्कार की पूरी तैयारी कर चुका था। ग्रामीणों ने इसी दौरान जानकारी पुलिस को दी। एसओ शंभूनाथ पुलिस टीम के साथ गांव पहुंचे और शव को अभिरक्षा में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

बाद में जैतपुर थाना अंतर्गत किशुनपुर कबिरहा गांव निवासी मृतक की सास को घटना की जानकारी होते ही वह जहांगीरगंज थाने पहुंचीं और मामले में केस दर्ज करने के लिए तहरीर दी। उसने ईश्वरदत्त पर ही धारदार हथियार से पुत्र की हत्या किए जाने का आरोप लगाया। पुलिस ने तहरीर के आधार पर हत्या व साक्ष्य मिटाने समेत विभिन्न धाराओं में ईश्वरदत्त के विरुद्ध केस दर्ज कर लिया। एसओ ने बताया कि हत्या का मामला दर्ज कर आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है।

बताया जाता है कि सुनील ने दो विवाह किए थे। पहली शादी जैतपुर थाना अंतर्गत किशुनपुर कबिरहा निवासी निशा से हुई थी। उसके डेढ़ वर्ष की पुत्री भी है। बाद में सुनील ने दूसरी शादी कर ली। इसके बाद निशा मायके चली गई। तब से वह वहीं रह रही थी, जबकि दूसरी पत्नी भी उसे छोड़कर चली गई थी। पिता-पुत्र में अक्सर विवाद होता रहता था। रविवार की रात को भी विवाद हुआ। इससे नाराज होकर ईश्वरदत्त ने धारदार हथियार से हमला कर सुनील की हत्या कर दी और शव पशुशाला के बगल एक कमरे में छिपा दिया। मंगलवार को सुबह वह शव का अंतिम संस्कार करने की तैयारी में था कि इसी बीच पुलिस पहुंच गई।

 
... और पढ़ें

अंबेडकरनगर : पूर्व मंत्री सपा नेता के पुत्र ने साथियों के साथ युवक को बनाया बंधक, पांच के खिलाफ केस दर्ज

उधार लिए रुपये वापस मांगने पर पूर्व मंत्री गोपीनाथ वर्मा के पुत्र ने अपने चार साथियों के साथ एक युवक को बंधक बना लिया। इसके बाद उसे अपने महाविद्यालय के एक कक्ष में जमकर पीटा। इससे वह घायल हो गया। इस मामले में पुलिस ने तीन नामजद और दो अज्ञात के विरुद्ध केस दर्ज कर लिया है।

घटना अलीगंज थाना क्षेत्र की है। इब्राहिमपुर थाना क्षेत्र के पीड़ित कोल्हुआ मुकुंदपुर निवासी सचिन वर्मा के अनुसार मखदूमपुर निवासी पूर्व मंत्री सपा नेता गोपीनाथ वर्मा के पुत्र विजय ने उनसे एक लाख 69 हजार रुपये उधार लिए थे। काफी दिनों से रुपये वापस करने आनाकानी कर रहे थे। बीते दिन जब वह पैसा मांगने उनके महिला महाविद्यालय गया तो वहां विजय ने अपने साथियों के साथ कमरे में बंधक बना लिया। पिस्टल निकाल धमकाया। जमीन पर गिराकर पीटा और हाथ-पैर भी बांध दिए।

आरोप लगाया कि चाकू से पेट फाड़ने की भी धमकी दी गई। इसके बाद दोबारा रुपये न मांगने की धमकी देकर छोड़ दिया गया। पुलिस ने मामले में मुख्य आरोपी विजय के अलावा वीरेंद्र गुप्त और शंभू तिवारी को नामजद करते हुए दो अज्ञात के विरुद्ध विभिन्न धाराओं में केस दर्ज कर लिया है। एसओ नागेंद्र सरोज ने बताया कि पिटाई में ज्यादा चोट आई है। केस दर्ज कर आरोपियों की तलाश की जा रही है।
... और पढ़ें

शाइन सिटी के भगोड़े मालिकों पर पांच लाख का इनाम, राशिद व आसिफ पर 5-5 लाख का इनाम घोषित

आर्थिक धोखाधड़ी के आरोपी शाइन सिटी ग्रुप ऑफ कंपनीज के दोनों मालिकों राशिद नसीम और आसिफ नसीम पर सरकार ने पांच-पांच लाख रुपये का इनाम घोषित किया है। गृह विभाग की ओर से दी गई जानकारी के अनुसार राशिद और आसिफ  के अलावा पांच अन्य अभियुक्तों आशीष कनौजिया, नितिन जायसवाल, जसीम खां, अभिषेक यादव और मोहम्मद शाहिद की गिरफ्तारी पर भी एक-एक लाख रुपये का इनाम घोषित किया गया है।

अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी ने बताया कि फ्लैट देने के नाम पर शाइन सिटी ग्रुप ऑफ कंपनीज ने बड़ी संख्या में लोगों को ठगी का शिकार बनाया। प्रदेश के विभिन्न जिलों में 284 मामले दर्ज हैं। इन मुकदमों में कुल 57 लोग नामजद थे, जिसमें से 50 अभियुक्त गिरफ्तार किए जा चुके हैं। बाकी सात अभियुक्तों में राशिद और आसिफ के अलावा आशीष कनौजिया, नितिन जायसवाल, जसीम खां, अभिषेक यादव और मोहम्मद शाहिद शामिल हैं। अवस्थी ने बताया कि यूपी के विभिन्न जिलों में दर्ज मुकदमों की विवेचना उच्च न्यायालय के आदेश पर आर्थिक अपराध अनुसंधान संगठन कर रहा है।

वाराणसी पुलिस ने शाइन सिटी घोटाले के एक और आरोपी को पकड़ा
उधर, वाराणसी पुलिस ने शाइन सिटी घोटाले के एक और आरोपी को गिरफ्तार किया है। वाराणसी के पुलिस आयुक्त ए सतीश गणेश ने बताया कि आरोपी का नाम मुश्ताक आलम है, जिसे बिहार के सीवान से वाराणसी पुलिस कमिश्नरेट की क्राइम ब्रांच की टीम ने पकड़ा है।
... और पढ़ें

आत्महत्या के लिए उकसाने का मामला : अमिताभ ठाकुर की जमानत अर्जी पर फैसला सुरक्षित

दुष्कर्म पीड़िता और उसके साथी को आत्महत्या के लिए उकसाने व षड्यंत्र रचने के आरोपी पूर्व आईपीएस अधिकारी अमिताभ ठाकुर की जमानत अर्जी पर मंगलवार को सुनवाई पूरी हो गई। पर, एडीजे पीएम त्रिपाठी ने फैसला सुरक्षित कर लिया है। बसपा सांसद अतुल राय पर दुष्कर्म का आरोप लगाने वाली पीड़िता और उसके साथी ने सुप्रीम कोर्ट के बाहर आत्महत्या का प्रयास किया था। इसमें दोनों बुरी तरह झुलस गए थे। बाद में इलाज के दौरान दोनों की मौत हो गई थी।

सरकारी वकील मनोज त्रिपाठी ने जमानत अर्जी का विरोध करते हुए कोर्ट में तर्क दिया कि आरोपी अमिताभ ठाकुर के खिलाफ जांच रिपोर्ट आने के बाद 27 अगस्त को हजरतगंज थाने में एसएसआई दयाशंकर द्विवेदी ने रिपोर्ट दर्ज कराई थी। इसमें बताया गया था कि पीड़िता ने आरोप लगाया है कि दुष्कर्म के आरोपी अतुल राय को बचाने के लिए अमिताभ ठाकुर ने पैसे लेकर आपराधिक षड्यंत्र रचा था। साथ ही गवाहों को बदनाम करने व पीड़िता पर दबाव बनाने के लिए अपराधियों से जोड़कर छवि खराब करने के लिए ऑडियो वायरल किया था। इस मामले में पुलिस ने ठाकुर को उनके निवास से गिरफ्तार किया गया था।

उधर, सीजेएम रवि कुमार गुप्ता ने उक्त मामले में गिरफ्तारी के दौरान पुलिस टीम पर हमलावर होने व सरकारी कामकाज में बाधा पहुंचाने के आरोप में जेल से मंगलवार को तलब कर अमिताभ ठाकुर को न्यायिक हिरासत में 25 अक्तूबर तक के लिए जेल भेज दिया है। इस मामले में अमिताभ के साथ उनकी पत्नी नूतन ठाकुर को भी आरोपी बनाया गया है। हालांकि उनकी अग्रिम जमानत अर्जी पहले ही सत्र न्यायालय द्वारा स्वीकार की जा चुकी है। नूतन ठाकुर अभी अग्रिम जमानत पर हैं। 
... और पढ़ें
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00