यूपी : सपा के ललितपुर जिलाध्यक्ष हटाए गए, मौलाना कादरी बने अल्पसंख्यक सभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, लखनऊ Published by: पंकज श्रीवास्‍तव Updated Sat, 16 Oct 2021 07:57 PM IST

सार

विभिन्न दलों के लोगों ने शुक्रवार को सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव के समक्ष पार्टी की सदस्यता ली।
UP: SP's Lalitpur district president removed, Virendra gets the responsibility of Rampur
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

समाजवादी पार्टी ने ललितपुर जिला कार्यकारिणी को भंग कर दिया है। इसी तरह रामपुर का जिलाध्यक्ष वीरेंद्र गोयल को बनाया गया है। ललिलपुर में सपा जिलाध्यक्ष तिलक यादव सहित 25 लोगों के खिलाफ किशोरी से दुष्कर्म का मुकदमा दर्ज हुआ है। इसमें बसपा जिलाध्यक्ष दीपक अहिरवार सहित सपा- बसपा के तमाम लोगों के नाम है। पुलिस ने सपा जिलाध्यक्ष को गिरफ्तार कर लिया है। ऐसे में पार्टी ने जिलाध्यक्ष सहित पूरी कार्यकारिणी को भंग कर दिया है। यहां संचालन समिति गठित कर दी गई है। इसी तरह रामपुर जिले में वीरेंद्र गोयल को नया जिलाध्यक्ष मनोनीत किया गया है। उन्हें जल्द से जल्द कार्यकारिणी घोषित करने का निर्देश दिया गया है।
विज्ञापन


विभिन्न दलों के लोगों ने ली सपा की सदस्यता
विभिन्न दलों के लोगों ने शुक्रवार को सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव के समक्ष पार्टी की सदस्यता ली। इसमें पीलीभीत के पटेलनगर बीसलपुर निवासी डॉ सुरेंद्र गंगवार, वाराणसी कैंट के सोनारपुरा शिवाला रोड निवासी डॉ अजय चौरसिया तथा कांग्रेस पिछड़ा वर्ग मंडल प्रभारी मिर्जापुर चित्रकूट निवासी बच्छराज सिंह मौर्य शामिल हैं।


सीपीआई एमएल प्रतिनिधि मंडल सपा अध्यक्ष से मिला
कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ  इंडिया (एमएल) के राज्य सचिव सुधाकर यादव के नेतृत्व में शनिवार को एक प्रतिनिधिमंडल ने सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव से मुलाकात की। उन्हें आश्वासन दिया कि भाजपा सरकार को सत्ता से बेदखल करने के लिए सीपीआई (एमएल) हर स्तर पर सहयोग करेगा। प्रतिनिधि मंडल में  राम चैधरी, ईश्वरी प्रसाद कुशवाहा, राजेश सिंह, कृष्णा अधिकारी शामिल थीं। राज्य सचिव सुधाकर यादव ने कहा कि भाजपा की दमनकारी नीतियों के विरोध में सभी दलों को एकजुट होना होगा। उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि भाजपा के फासिस्टी आचरण के विरूद्ध लड़ाई लड़ने में समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव का नेतृत्व सक्षम है। सपा अध्यक्ष ने सहयोग देने के लिए सीपीआई (एमएल) के नेतृृृत्व को धन्यवाद दिया और आश्वस्त किया कि प्रदेश के किसानों.नौजवानों को उनके हक दिलाने के लिए पार्टी हर स्तर पर प्रतिबद्ध है।

मौलाना कादरी बने राष्ट्रीय अध्यक्ष, शकील नदवी प्रदेश अध्यक्ष

समाजवादी पार्टी ने शुक्रवार को अल्पसंख्यक सभा के अध्यक्ष की घोषणा कर दी। सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने मौलाना इकबाल कादरी को सभा का राष्ट्रीय अध्यक्ष और शकील नदवी को प्रदेश अध्यक्ष मनोनीत किया है।

सपा अल्पसंख्यक सभा के गठन को लेकर लंबे समय से कवायद चल रही थी। सपा अध्यक्ष ने दशहरे पर घोषणा करने के संकेत दिए थे। आखिरकार शुक्रवार को उन्होंने अल्पसंख्यक सभा का राष्ट्रीय अध्यक्ष मौलाना इकबाल कादरी के साथ महासचिव मोहम्मद यामीन खान को बनाया गया है। इसी तरह उपाध्यक्ष मौलाना इरफानुल हक कादरी को बनाया गया है। अल्पसंख्यक सभा का प्रदेश अध्यक्ष उन्नाव के  मोहम्मद शकील नदवी को मनोनीत किया गया है। नदवी सपा शासनकाल में राज्य भंडारण के अध्यक्ष रह चुके हैं।

वह लखनऊ के नदवा कॉलेज से आलिम और गंजमुरादाबाद उन्नाव के मदरसा मिफ्ताउल उलूम से हिफ्ज़ किया। वह पार्टी के पुराने सिपाही रहे हैं। राजनीतिक ही नहीं सामाजिक मंचों के जरिए विभिन्न गतिविधियां चलाते रहे हैं। उन्होंने कई विश्वविद्यालयों के कुलपतियों एवं प्रोफेसरों को एक मंच पर लाकर मुस्लिम समाज के बीच शिक्षा की अलख जगाने के लिए कार्य किया है। उनकी पहचान सामाजिक समारोह से जुड़े नेता के रूप में होती है। यही वजह है कि राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने उनकी राजनीतिक और सामाजिक विरासत को देखते हुए उन्हें अल्पसंख्यक सभा की जिम्मेदारी सौंपी है। 

अंबेडकर वाहिनी के अध्यक्ष बने मिठाई लाल
समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने बलिया निवासी मिठाई लाल भारती को शुक्रवार को समाजवादी बाबा साहेब अंबेडकर वाहिनी का राष्ट्रीय अध्यक्ष मनोनीत किया है। वह दो साल पहले बसपा छोड़कर सपा में आए थे। भारती बसपा में रहते हुए पूर्वांचल के जोनल कोऑर्डिनेटर तथा कई प्रदेशों में प्रभारी रहे हैं। मालूम हो कि अंबेडकर जयंती पर 14 अप्रैल को सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने वाहिनी गठन करने का एलान किया था।

पिछले सप्ताह सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने दशहरे पर वाहिनी अध्यक्ष के नाम की घोषणा करने का एलान किया था। उल्लेखनीय है कि अमर उजाला ने 12 सितंबर को अल्पसंख्यक सभा का मामला उठाया था। इसमें बताया गया था कि लंबे समय से अध्यक्ष पद खाली होने से सपा की चुनौती बढ़ रही है। इसी तरह 22 सितंबर को भी अंबेडकर वाहिनी का गठन नहीं होने का भी मामला उठाया था।
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00