लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Chutkule in Hindi: जब जीजा ने साली को बताया कब काम नहीं करता है दिमाग, पढ़िए ऐसे ही जोक्स

फीचर डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Published by: धर्मेंद्र सिंह Updated Wed, 10 Aug 2022 08:55 AM IST
जोक्स
1 of 7
विज्ञापन
Viral Chutkule in Hindi: आज कल की भागदौड़ भरी जिदंगी में इंसान को हर दिन नई चुनौतियों और मुश्किलों को सामना करना पड़ता है। इसकी वजह से मन परेशना रहता है और इंसान तनाव में। इस तनाव से बचने का सबसे अच्छा उपाय हंसी है। हंसने से आप अपने तनाव को दूर कर सकते हैं। इसीलिए हम आपको हंसाने के लिए कुछ वायरल जोक्स और चुटकुले लेकर आए हैं जिन्हें पढ़ने के बाद आप अपनी हंसी नहीं रोक पाएंगे। तो देर किस बात की, आइए चलते हैं हंसने और हंसाने के सफर पर...

एक बार एक दादा-दादी ने जवानी के दिनों को याद करने का फैसला किया… 
अगले दिन दादा फूल लेकर वहीं पहुंचे जहां वो जवानी में मिला करते थे, वहां खड़े-खड़े दादा के पैरों में दर्द हो गया लेकिन दादी नहीं आईं, 
घर जाकर दादा गुस्से से, “आईं क्यों नहीं? 
दादी शर्माते हुए,” मम्मी ने आने नहीं दिया”....
जोक्स
2 of 7
जीजा- अरे साली साहिबा! क्या तुम जानती हो कि इंसान का दिमाग...
24 घंटे काम करता है लेकिन लाइफ में दो बार.. काम करना बंद कर देता है..!
साली- अच्छा...कब ..?
जीजा- पहला एग्जाम के समय और...
दूसरा बीवी पसंद करते समय..!!

 
विज्ञापन
जोक्स
3 of 7
रिंकी- तुम्हारी दिल्ली की यात्रा कैसी थी?
चिंकी- अरे! बता नहीं सकती! रास्ते में मेरे पापा पानी लेने उतर गए,
और गाड़ी चल पड़ी और वह स्टेशन पर ही छूट गए।
रिंकी- तुम्हारा दर्द समझ सकती हूं।
तुम्हें इतनी लंबी यात्रा में प्यासा ही रहना पड़ा होगा।

 
जोक्स
4 of 7
एक पोता अपने दादाजी- दादाजी , 80 साल की उम्र में भी आप दादीजी को डार्लिंग कहते हैं, इस प्यार का राज क्या है? 
दादाजी- बेटे 20 साल पहले इनका नाम भूल गया था, पूछने की हिम्मत नहीं हुई, इसलिए डार्लिंग कहता हूं... 

 
विज्ञापन
विज्ञापन
जोक्स
5 of 7
शिक्षक - तुम तो पढाई में बहुत कमजोर हो,
मैं तुम्हारी उम्र में गणित के इससे भी कठिन सवाल हल कर लेता था।
चिंटू - आपको अच्छे शिक्षक मिल गए होंगे सर,
सबकी किस्मत इतनी अच्छी नहीं होती... 

 
अगली फोटो गैलरी देखें
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00