लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

UP Weather Update: मरुस्थल से चलने वाली सूखी हवाएं झुलसाएंगी चमड़ी, मौसम विभाग ने दी ये चेतावनी

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, कानपुर Published by: शिखा पांडेय Updated Mon, 25 Apr 2022 09:23 AM IST
कानपुर में भीषण गर्मी
1 of 5
विज्ञापन
अरब सागर और बंगाल की खाड़ी से आने वाली नम हवाएं रुक गई हैं। अब सिर्फ राजस्थान के थार मरुस्थल से झुलसाने वाली हवाएं आ रही हैं। चंद्रशेखर आजाद कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय (सीएसए) के मौसम विभाग ने कानपुर समेत आसपास के शहरों में  तापमान के उछाल मारने और लू के थपेड़े तेज होने का अनुमान जारी किया है।

आने वाले दो-तीन दिन में तपिश और बढ़ जाएगी। अधिकतम तापमान 43 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच सकता है। ऐसी स्थिति में गर्मी इंसानों और पशुओं दोनों के लिए तकलीफदेह हो सकती है। डायरिया, लू, पेट रोग समेत गर्मी की विभिन्न मौसमी बीमारियां और तेज होंगी। सुबह 11 बजे से शाम चार बजे तक धूप में न निकलने की सलाह दी गई है। रविवार को उत्तर-पश्चिमी हवाएं तेज गति से चलती रहीं। मौसम विभाग ने धूल भरी हवाएं चलने का अनुमान भी जारी किया है।
भीषण गर्मी के बीच टंकी के पानी में नहाते बेजुबान
2 of 5
अधिकतम तापमान 24 अप्रैल के सामान्य औसत से 1.8 अधिक रहा है। न्यूनतम तापमान सामान्य के बराबर रहा। सीएसए के मौसम विभाग के प्रभारी डॉ. एसएन सुनील पांडेय ने बताया कि चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र खत्म होने से अरब सागर और बंगाल की खाड़ी से नम हवाएं आना बंद हो गईं।
विज्ञापन
कानपुर में भीषण गर्मी
3 of 5
कमजोर किस्म का पश्चिमी विक्षोभ जम्मू-कश्मीर में है, लेकिन इसका असर कानपुर परिक्षेत्र पर नहीं आ रहा है। चक्रवाती क्षेत्र न होने से थार मरुस्थल होकर आने वाली हवाओं की तपिश फिर बढ़ गई है। अभी तक बंगाल की खाड़ी की तरफ से आने वाली नम हवाएं गर्म हवाओं की तपिश कुछ कम दे रही थीं।
कानपुर में भीषण गर्मी
4 of 5
तापमान
अधिकतम- 41.4 डिग्री सेल्सियस
न्यूनतम- 22.4 डिग्री सेल्सियस
विज्ञापन
विज्ञापन
कानपुर में भीषण गर्मी
5 of 5
गर्मी से ऐसे करें बचाव
- पानी खूब पीयें, दोपहर में बाहर निकलें तो पानी की बोतल साथ रखें।
- काले कपड़े न पहनें, सफेद या हल्के रंग के पहने, अंगोछे का इस्तेमाल करें।
- बच्चे को बुखार हो तो उसे कपड़े से लपेटकर न रखें, कमरे में ठंडक बनाए रखें।
- दूध पिलाने के बाद हर बार बच्चे की बोतल को ढंग से साफ करें।
- बोतल में बचा हुआ दूध दोबारा इस्तेमाल न करें।
- सादा खाना खाएं, गरिष्ठ भोजन न करें, कटे-फटे फलों का सेवन न करें।
अगली फोटो गैलरी देखें
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00