लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

साइनाइड मोहन
अपराध लोक

'सुहागरात' मनाकर दुल्हनों का कत्ल करने वाला साइनाइड मोहन

2 July 2022

Play
8:8
आपने एक से एक खूंखार सीरियल किलर्स के बारे में सुना होगा, लेकिन आज हम आपको जिस सीरियल किलर के बारे में बताने जा रहे हैं, उसके कत्ल करने का तरीका ही सबसे अलग था। इसे साइनाइड किलर या साइनाइड मोहन के नाम से जाना जाता है...

'सुहागरात' मनाकर दुल्हनों का कत्ल करने वाला साइनाइड मोहन

1.0x
  • 1.5x
  • 1.25x
  • 1.0x
10
10
X

सभी 102 एपिसोड

जनवरी 2004. जयपुर स्टेशन के जीआरपी थाने में गफ्फार खान अपने दो बेटों की गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज करवाने पहुंचते हैं। वो पुलिस को बताते हैं कि उनके बेटे टैक्सी चलाते हैं और वो कार बुकिंग पर यूपी गए थे लेकिन वापस लौटकर नहीं आए. उनकी कोई खैर-खबर नहीं। कोई संपर्क नहीं हो पा रहा है। आज बात होगी एक ऐसे कातिल की जो पेशे से था तो डॉक्टर लेकिन टैक्सी चालकों की हत्या में उसे मजा आता था...
 

सन 2018. आंध्र प्रदेश के तीन जिलों में हत्याओं का सिलसिला शुरू होता है। इनमें से सिर्फ़ चार मौतों को ही संदिग्ध माना गया और बाकी को सामान्य मौत मानकर पुलिस ने केस बंद कर दिया. लेकिन पुलिस मामले को जितना आसान समझ रही थी असल में वो बेहद पेंचीदा था.जुर्म की दुनिया में आज बात होगी एक ऐसे कातिल की जो चावल को अपनी ओर आकर्षित करने वाले भाग्यशाली सिक्के बेचने का लालच देकर लोगों को किसी सुनसान जगह पर बुलाता और इसके बाद वह प्रसाद में सायनाइड मिलाकर खिला देता था. प्रसाद खाने वाले की मौके पर मौत हो जाती और ये कातिल उन्हें लूटकर फरार हो जाता....इस कातिल का नाम है सिमहाद्री उर्फ़ शिवा. ये जरायम की दुनिया में सायनाइड शिवा के नाम से भी कुख्यात है...

1966 और 68 के बीच  मुंबई के लोग रात में अपने घरों से बाहर निकलने से भी घबराते थे. कभी न सोने वाले मुंबई शहर पर सन्नाटा पसर चुका था. मुंबई के उपनगरीय इलाकों और झोपड़पट्टी में लगातार हत्याएं हो रही थीं. एक शख्स काली अंधेरी रातों में हाथ में एक हथियार लिए घूमता था, उसे तलाश होती तो बस अपने अगले शिकार की. हमेशा की तरह मुंबई में लोगों की जिंदगी बिना रुके अपनी पूरी रफ़्तार पर चल रही थी. लेकिन अचानक सबकुछ थमने सा लगता है। मुंबई के उपनगरीय इलाके में पुलिस को एक लाश मिलती है। कातिल मरने वाले शख्स का पूरा चेहरा बिगाड़ देता था. लाश की हालत बयां कर रही थी कि उसका चेहरा किसी लोहे जैसी चीज से कुचला गया है. पुलिस ने आपसी रंजिश में की गई हत्या का आम मामला समझा क्योंकि मरने वाला गरीब था और पुलिस ने इस पर ज्यादा तवज्जो नहीं दी. लेकिन पुलिस के हाथ-पांव तब फूल गए जब कई लाशों के मिलने का सिलसिला शुरू हुआ. 

3 नवंबर 2003..जगह चीन का हेबेई प्रांत. यहां के एक छोटे से शहर कंग्जो के एक मनोरंजन स्थल में रोज की तरह लोग मजे कर रहे थे कि तभी एक लड़की के शोर मचाने की आवाज आती है. वो एक 34 साल के शख्स से बहस कर रही थी. मामले को जानने के लिए पुलिस दोनों के पास पहुंचती है और पूछताछ करती है. लड़की बताती है कि ये आदमी उसका पीछा काफी देर से कर रहा है. जब उसने ऐसा करने से मना किया तो बहस कर रहा है. पुलिस फौरन उस शख्स को हिरासत में लेकर पुलिस स्टेशन पहुंचती है. दुबला पतला सा दिखने वाला ये शख्स खामोश था. जब पुलिस ने अपराधियों के डेटाबेस में इस शख्य के बारे में जानकारी खंगाली तो उनके हाश उड़ गए...ये वो सीरियल किलर था जिसे कई हत्याओं के लिए चार राज्यों की पुलिस ढूंढ रही थी.जुर्म की दुनिया में आज बात होगी एक कुख्यात सीरियल किलर यांग शिन्हाई की जिसे चीन का सबसे दुर्दांत हत्यारा माना जाता है. इसे 1999 और 2003 के बीच 67 हत्याएं और 23 बलात्कार करने के लिए मौत की सजा दी गई। मीडिया ने उसे "मॉन्स्टर किलर" करार दिया। 1949 में पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ चाइना की स्थापना के बाद से यांग चीन द्वारा का सबसे खतरनाक सीरियल किलर बना...

पेड्रो लोपेज के इस सीरियल किलर का नाम सुनकर किसी के शरीर में सिरहन पैदा हो जाती है। इसने 350 से ज्यादा लोगों को मौत के घाट उतार दिया था, जिसमें से ज्यादातर 8 से 12 साल की बच्चियां शामिल थी। इतनी ही नहीं उन्हें मौत की नींद सुलाने से पहले वो उन्हें अपनी हवस का शिकार भी बनाता था।

दुनिया में एक से बढ़कर एक सीरियल किलर हुए हैं, जिन्होंने न जाने कितने कत्ल किए। इनमें से कुछ पकड़े गए तो कई अब भी पुलिस की पहुंच से बाहर हैं। आज हम आपको जिस सीरियल किलर के बारे में बताने जा रहे हैं, उसके बारे में जानकर आपको बेहद ही हैरानी होगी, क्योंकि उसकी उम्र महज आठ साल थी और उससे भी हैरान करने वाली बात ये कि उसने कत्ल सिर्फ मजे-मजे में कर दिए थे, जिसका अंदाजा उसे भी नहीं था कि उसने क्या किया है। यह कहानी है बिहार के बेगूसराय की, जहां आठ साल के एक बच्चे को दुनिया का सबसे छोटा सीरियल किलर या भारत का सबसे छोटा सीरियल किलर माना जाता है। लोग इस बच्चे को 'मिनी सीरियल किलर' नाम से भी जानते हैं। उसने कुल तीन कत्ल किए थे और तीनों की ही उम्र एक साल से कम थी। 

1836 में पुर्तगाल के लिस्बन शहर में किसानों की लाशें मिलने का सिलसिला शुरू होता है। ये लाशें एक नदी के पुल के नीचे या उसके आसपास पाई जा रही थीं.  रोजाना सामने आ रही लाशों के पीछे पहले पुलिस को लगा की शायद आर्थिक तंगी के कारण किसान सुसाइड कर रहे हैं, लेकिन बाद में जांच करने पर पुलिस को पता चला कि इनकी हत्या करके इन्हें नदी में फेंका गया है। अपराध लोक में आज बात होगी ऐसे कातिल की जिसका नाम सुनते ही आज भी पुर्तगाल के लोगों की रूह कांप जाती है. इस सिरफिरे कातिल का सिर करीब 180 सालों से आज भी रखा हुआ है. इस खूंखार दरिंदे का नाम था डिओगो ऐल्वेस....

'सीरियल किलर' नाम आते ही आपका दिमाग एक खूंखार दरिंदे की छवि उभार कर चौंका देता है। दरअसल, 'सीरियल किलर्स' होते भी ऐसे ही है, जिनके कारनामें पढ़कर आपके रोंगटे खड़े हो जाएं। अपराध लोक में आज हम आपको सुनाएंगे अमेरिका के सबसे खतरनाक सीरियल किलर रोडने एल्काला की कहानी.अलकाला महिलाओं को मॉडल बनाने का लालच देकर यौन उत्पीड़न करता था। इसके बाद महिलाओं का गला घोंटकर या पीट-पीटकर उन्हें मार डालता था...

14 जुलाई 2016....दिल्ली के वजीराबाद में रहने वाले वेदप्रकाश, उनकी पत्नी साधना, बेटा शुभम और बेटी नैना रहस्यमय तरीके से गायब हो जाते हैं। उनके घर पर ताला लटका था। न तो आस पड़ोस के लोगों ने और ना ही किसी किराएदार ने वेद प्रकाश व उनके परिवार को देखा था। उनकी सेंट्रो कार भी उसी दिन से कहीं दिखाई नही दे रही थी। पहले तो लोगों को लगा कि शायद वेद प्रकाश अपनी किसी रिश्तेदारी में परिवार के साथ कहीं गए होंगे । लेकिन जब इसी तरह एक-दो दिन गुजर गए और परिवार वापस नहीं आया तो खबर की जाती है पुलिस को...

साल 1971 में डीबी कूपर नाम के एक शातिर आदमी ने अमेरिकी सुरक्षा को ठेंगा दिखाते हुए एक उड़ते हुए प्लेन में 2 लाख डॉलर की लूट की थी और उड़ते हुए प्लेन से ही गायब हो गया था। सालों से पुलिस आज भी कूपर को तलाश रही है। इसी वजह से उसे इतिहास का सबसे रहस्यमयी आदमी कहा जाता है।

आवाज

Election
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00