लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

महमूद और जमीला
मंटो के अफसाने

सुनिए मंटो का अफसाना : आर्टिस्ट लोग

29 November 2022

Play
9:36
इस कहानी में कलाकारों के दर्द को बयान किया गया है। महमूद और जमीला अपनी कला को एक मुकाम देने के लिए जतन करते हैं लेकिन हालात से परेशान हो कर आर्थिक निश्चिंतता के लिए वे एक फैक्ट्री में काम करने लगते हैं, लेकिन दोनों को यह काम कलाकार के प्रतिष्ठा के अनुकूल महसूस नहीं होता इसीलिए दोनों एक दूसरे से अपनी इस मजबूरी और काम को छुपाते हैं।

सुनिए मंटो का अफसाना : आर्टिस्ट लोग

1.0x
  • 1.5x
  • 1.25x
  • 1.0x
10
10
X

सभी 53 एपिसोड

ईशर सिंह जूही होटल के कमरे में दाख़िल हुआ, कुलवंत कौर पलंग पर से उठी। अपनी तेज़ तेज़ आंखों से उसकी तरफ़ घूर के देखा और दरवाज़े की चटखनी बंद कर दी। रात के बारह बज चुके थे, शहर का मुज़ाफ़ात एक अजीब पुर-असरार ख़ामोशी में ग़र्क़ था...

इस कहानी में कलाकारों के दर्द को बयान किया गया है। महमूद और जमीला अपनी कला को एक मुकाम देने के लिए जतन करते हैं लेकिन हालात से परेशान हो कर आर्थिक निश्चिंतता के लिए वे एक फैक्ट्री में काम करने लगते हैं, लेकिन दोनों को यह काम कलाकार के प्रतिष्ठा के अनुकूल महसूस नहीं होता इसीलिए दोनों एक दूसरे से अपनी इस मजबूरी और काम को छुपाते हैं।

बारिश एक नौजवान के अधूरे इश्क़ की कहानी है। तनवीर अपनी कोठी से बारिश में नहाती हुईं दो लड़कियों को देखता है। उनमें से एक लड़की पर फिदा हो जाता है। एक दिन वो लड़की उससे कार में लिफ़्ट मांगती है और तनवीर को ऐसा महसूस होता है कि उसे अपनी मंज़िल मिल गई है लेकिन बहुत जल्द उसे मालूम हो जाता है कि वो वेश्या है...

ये कहानी है समलैंगिकता के उत्थान व पतन की। इसमें मंटो ने यह बताने की कोशिश की है कि बाज़ार में जिस चीज़ की मांग होती है उसकी अचानक अधिकता हो जाती है और जैसे ही उसकी मांग कम या ख़त्म होती है वो चीज़ भी ग़ायब हो जाती है...
 

मर्द के दोहरे रवैय्ये और औरत की मासूमियत को इस कहानी में बयान किया गया है। सलमा एक अविवाहित लड़की है और शाहिदा उसकी शादी-शुदा सहेली। 

ये एक ऐसी महिला की कहानी है जो बीमार होती है और एक लेखक को हमेशा ख़त लिखा करती है. एक दिन लेखक के घर पहुंच जाती है और कुछ ऐसा होता है जो लेखक में सोचने पर मजबूर कर देता है...
 

इस कहानी में भारत के बंटवारे से पहले के हालात को बयां किया गया है, भारत और पाकिस्तान दोनों के विरुद्ध मूत्रालय में अलग-अलग जुमले लिखे मिलते थे...
सुनिए मंटो के अफसाने

इस कहानी में सआदत हसन मंटो ने एक कुत्ते की अपने मालिक के प्रति वफ़ादारी की एक अनोखी दास्तान पेश की है। जब एक बार मालिक बीमार पड़ा तो कुत्ते ने उसके लिए ऐसी दुआ मांगी कि मालिक तो ठीक हो गया, पर कुत्ता अपनी जान गंवा बैठा...

मंटो ने अपनी एस कहानी में जवानी की शुरुआत में होने वाले शारीरिक परिवर्तनों से बे-ख़बर एक लड़की की कहानी बयान की है...

उसी रात जब महताब ख़ां चोरी के पच्चास रुपये, कुछ होटलों में बाक़ी के हीरा मंडी में ख़र्च कर चुका था, उसके बड़े भाई ने जाने किस जगह उसकी गर्दन नापी और ऐसे ज़ोर से नापी कि वो दो दिन तक बिलबिलाता रहा, लेकिन उसने किसी पर ये ज़ाहिर न किया...

आवाज

Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00