लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Punjab ›   Jalandhar ›   Three employees of Narcotics Control Cell sent to Muktsar Jail

फिरोजपुर : नारकोटिक्स कंट्रोल सेल के तीन मुलाजिमों को भेजा मुक्तसर जेल, खुर्द-बुर्द किए थे 81 लाख रुपये

Punjab Bureau पंजाब ब्‍यूरो
Updated Sun, 07 Aug 2022 12:30 AM IST
Three employees of Narcotics Control Cell sent to Muktsar Jail
विज्ञापन
ख़बर सुनें
फिरोजपुर। सीजेएम अशोक चौहान की अदालत ने शनिवार को नारकोटिक्स कंट्रोल सेल (एनसीसी) के आरोपी तीन मुलाजिमों (दो एएसआई व एक हवलदार) को मुक्तसर जेल में भेज दिया है। पुलिस ने अदालत से तीन बार पुलिस रिमांड लिया था, लेकिन उक्त आरोपियों से खुर्द बुर्द की गई 81 लाख रुपये की नकदी पुलिस बरामद करने में असफल रही है। पहले पांच दिन का पुलिस रिमांड (दो अगस्त तक), फिर एक दिन का पुलिस रिमांड (तीन अगस्त तक) व तीसरी बार छह अगस्त तक पुलिस रिमांड उक्त तीनों आरोपियों का लिया था।

उल्लेखनीय है कि उक्त सेल के इंस्पेक्टर परमिंदर सिंह बाजवा, एएसआई अंग्रेज सिंह व हवलदार जोगिंदर सिंह ने दो व्यक्तियों को एक किलो हेरोइन व ड्रग्स मनी पांच लाख के झूठे मामले में फंसाकर मामला दर्ज करवाया था। यही नहीं उक्त दो व्यक्तियों के पास 81 लाख रुपये की धनराशि थी, उसे भी आरोपी खुर्द बुर्द कर गए थे। संबंधित विभाग उक्त तीनों मुलाजिमों को नौकरी से बर्खास्त कर चुका है और तीनों को नामजद कर आठ मुलाजिमों के खिलाफ थाना कैंट में मामला दर्ज है। इंस्पेक्टर बाजवा फरार है, उसके बंद मकान पर पुलिस ने दबिश देकर चार किलो सात सौ ग्राम नशीला पाउडर और 3710 नशीली गोलियां बरामद कर चुकी है।

जानकारी के अनुसार पुलिस ने शनिवार को अदालत में नारकोटिक्स कंट्रोल सेल के आरोपी एएसआई अंग्रेज सिंह, एएसआई राजपाल व हवलदार जोगिंदर सिंह को नौ दिन के पुलिस रिमांड के बाद पेश किया। इतने दिनों बाद उक्त आरोपियों से 81 लाख रुपये की नकदी बरामद नहीं कर पाई है। अशोक चौहान की अदालत ने उक्त तीनों आरोपियों को मुक्तसर जेल भेज दिया है।
डीएसपी से जांच लेकर एसपी रैंक के अधिकारी से करवाने के आदेश
जानकारों के मुताबिक अदालत ने उक्त मामले की जांच कर रहे गुरुहरसहाए के डीएसपी यादविंदर सिंह बाजवा से लेकर किसी एसपी रैंक के अधिकारी से करवाने के आदेश एसएसपी को दिए हैं। डीएसपी की जांच पर सवाल उठाए गए हैं। अदालत ने यह भी कहा कि एसपी रैंक के अधिकारी की ओर से की गई जांच में साबित हो जाता है कि पहले की गई जांच गलत है तो उन अधिकारी पर भी कानूनी कार्रवाई की जाएगी।
दो आरोपियों के पकड़ने के वक्त मोबाइल पर हुई बातचीत सोशल मीडिया पर हो रही वायरल
सोशल मीडिया पर दो लोगों से हेरोइन व ड्रग्स मनी पकड़े जाने के दौरान पुलिस अधिकारियों संग हो रही बातचीत की वाइस रिकार्डिंग वायरल हो रही है। इसमें एक अधिकारी बोलता नजर आ रहा है कि मामला आज की तिथि में ही दर्ज किया जाए। एक अधिकारी कह रहा है कि मैं आ नहीं सकता मेरा मोबाइल वारदात स्थल पर जाओ। यही नहीं एक वरिष्ठ अधिकारी का आपरेटर एक अधिकारी को कोठी आने की बात कह रहा है तो उक्त अधिकारी कह रहा है कि उसकी शुगर पांच सौ के करीब है वह अस्पताल में इलाज करवा रहा है। ये वॉयस रिकार्डिंग को सच माना जाए तो यह मामला बहुत ही उलझन भरा है।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00