लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Spirituality ›   Festivals ›   Lalita Panchami Vrat 2022 Date Puja shubh Muhurat and Vidhi in Hindi

Lalita Panchami Vrat 2022: ललिता पंचमी व्रत आज, जानिए पूजा विधि और शुभ मुहूर्त

धर्म डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Published by: आशिकी पटेल Updated Fri, 30 Sep 2022 10:07 AM IST
सार

Lalita Panchami Vrat 2022 Date: शारदीय नवरात्रि के पांचवे दिन यानी अश्विन मास की शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को ललिता पंचमी का व्रत किया जाता है। इस दिन स्कंदमाता के साथ ही मां ललिता का पूजन भी किया जाता है।

ललिता पंचमी व्रत और पूजा (प्रतीकात्मक तस्वीर)
ललिता पंचमी व्रत और पूजा (प्रतीकात्मक तस्वीर) - फोटो : iStock
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

Lalita Panchami Vrat 2022 Date, Puja Muhurat and Vidhi: शारदीय नवरात्रि के पांचवे दिन यानी अश्विन मास की शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को ललिता पंचमी का व्रत किया जाता है। इस दिन स्कंदमाता के साथ ही मां ललिता का पूजन भी किया जाता है। ये पर्व गुजरात और महाराष्ट्र में विशेष रूप से मनाया जाता है। मां ललिता माता सती का ही एक रूप हैं, जिन्हें त्रिपुर सुंदरी या फिर षोडशी के रूप में भी जाना जाता है। इस दिन व्रत व मां ललिता का पूजन करना अत्यंत शुभ व मंगलकारी माना जाता है। मां ललिता देवी की दस महाविद्याओं में से एक हैं। ललिता पंचमी का ये पर्व आज यानी 30 सितंबर को मनाया जा रहा है। ऐसे में चलिए जानते हैं ललिता पंचमी पूजन का महत्व, शुभ मुहूर्त व व्रत पूजा विधि...



Navratri 2022 5th Day: नवरात्रि का पांचवां दिन है मां स्कंदमाता को समर्पित, जानिए पूजा विधि और कथा


ललिता पंचमी 2022 शुभ मुहूर्त
 पंचांग के अनुसार, 30 सितंबर को रात में 12 बजकर 08 मिनट से आश्विन शुक्ल पंचमी तिथि की शुरुआत हुई है। वहीं ये तिथि 30 सितंबर को ही रात में 10 बजकर 34 मिनट पर समाप्त होगी। इस दिन पूजा का शुभ मुहूर्त अभिजीत मुहूर्त में 11 बजकर 53 मिनट से दोपहर 12 बजकर 41 मिनट तक है।

ललिता पंचमी पूजन सामग्री
ललिता पंचमी की पूजा के लिए- कुमकुम, अक्षत, हल्दी, चंदन, अबीर, गुलाल, दीपक, घी, इत्र, पुष्प, दूध, जल, फल, मेवा, मौली, आसन, तांबे का लोटा, नारियल, इत्यादि चीजों को एकत्रित करके रख लें।

Skandmata Aarti Lyrics: नवरात्रि के पांचवें दिन करें मां स्कंदमाता की आरती, जीवन में आएंगी खुशियां

ललिता पंचमी पूजा विधि
शारदीय नवरात्रि के पांचवे दिन प्रातः उठकर स्नानादि करने के पश्चात माता रानी का पूजन आरंभ करें। इस दिन मां ललिता के साथ स्कंदमाता व भगवान शिव की पूजा भी की जाती है। माता के समक्ष धूप-दीप प्रज्वलित करें। फिर मां ललिता व सभी देवों का तिलक करें और विधिवत सभी चीजों को अर्पित करते हुए पूजन करें। इसके बाद मां को मिष्ठान आदि का भोग अर्पित करें और आरती करें।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें आस्था समाचार से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। आस्था जगत की अन्य खबरें जैसे पॉज़िटिव लाइफ़ फैक्ट्स,स्वास्थ्य संबंधी सभी धर्म और त्योहार आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00