लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Spirituality ›   Religion ›   Shri Krishna Janmashtami 2022: Bhagavad Gita Important Slokas and Their Benefits in Hindi

Lord Krishna Janmashtami: भगवतगीता के चमत्कारी मंत्र, जानिए भगवतगीता पढ़ने के फायदे

धर्म डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Published by: विनोद शुक्ला Updated Wed, 17 Aug 2022 12:47 PM IST
सार

Shri Krishna Janmashtami 2022:  गीता का अध्ययन कने वाला व्यक्ति धीरे धीरे कामवासना,क्रोध,लालच और मोह माया के बंधनों से मुक्त हो जाता है। ऐसे बंधन उसे और उसके जीवन में कभी रुकावट नहीं बन पाते।

Bhagavad Gita
Bhagavad Gita - फोटो : Social media
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

वैदिक सनातन धर्म में भगवतगीता का विशेष स्थान है। महाभारत के युद्ध के मैदान में भगवान श्रीकृष्ण ने अपने सखा अर्जुन को धर्म की रक्षा, कर्म का पाठ और दिव्य ज्ञान का बोध करने के लिए गीता का उपदेश दिया था।           गीता महज एक किताब ही नहीं है,बल्कि यह साक्षात दिव्य प्रतिमूर्ति है। इसके नियमित अध्ययन और इसके संदेशों के अनुशरण से आदमी के जीवन में आमूल चूल परिवर्तन आता है। गीता हिंदू धर्म का बहुत ही पवित्र धर्मग्रंथ है। गीता का ज्ञान भगवान श्रीकृष्ण ने कुरुक्षेत्र के युद्ध के मैदान में अर्जुन को दिया था। गीता का संदेश भगवान श्रीकृष्ण के मुख से निकला हुआ अमृत समान शब्द है। मनुष्य को कर्म का रास्ता और दिव्य ज्ञान का बोध दिलाने के लिए गीता का पाठ भगवान कृष्ण ने महाभारत के युद्ध के दौरान अपने सखा अर्जुन को दिया था। ताकि मनुष्य माया, मोह, लोभ और छल के बंधनों से मुक्त होकर संमार्ग मिलता है।यही वजह है कि आज के वैज्ञानिक युग में भी अदालतों में कसम गीता की ही खिलाई जाती है। आइए जानते हैं भगवतगीता पाठ करने के क्या-क्या होते हैं फायदे।


मन को शांति मिलती है
जो व्यक्ति नियमित गीता पढता है, उसका मन शांत बना रहता है। वह विपरीत परिस्थिति में भी अपने मन वह वचनों पर नियंत्रण पा लेता है।

काम क्रोध लोभ मोह दूर होता है
गीता का अध्ययन कने वाला व्यक्ति धीरे धीरे कामवासना,क्रोध,लालच और मोह माया के बंधनों से मुक्त हो जाता है। ऐसे बंधन उसे और उसके जीवन में कभी रुकावट नहीं बन पाते।


मन नियंत्रण में रहता है
गीता पढ़ने वाला व्यक्ति पूर्ण रूप से अपने मन में नियंत्रण पा लेता है। वह जैसे चाहे अपने मन को कार्य में ले सकता है।

सच और झूठ का ज्ञान होता है
गीता पढ़ने वाले व्यक्ति को सच और झूठ, ईश्वर और जीव का ज्ञान हो जाता है। उसे अच्छे और बुरे की समझ आ जाती है।

आत्मबल बढ़ता है
गीता पढ़ने से व्यक्ति का आत्मबल बढ़ता है और व्यक्ति साहसी और निडर बनकर अपने कर्तव्य पथ पर आगे बढ़ता है।

सकारात्मक ऊर्जा का विकास होता है
रोजाना गीता पढ़ने से शरीर और दिमाग में सकारात्मक ऊर्जा विकसित होती है। ऐसे व्यक्ति को भूत पिशाच आदि का भय नहीं रहता।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें आस्था समाचार से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। आस्था जगत की अन्य खबरें जैसे पॉज़िटिव लाइफ़ फैक्ट्स,स्वास्थ्य संबंधी सभी धर्म और त्योहार आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00