लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Sports ›   Badminton ›   Badminton player HS Prannoy said - I have Thomas Cup even if I did not get any individual title

HS Prannoy: बैडमिंटन खिलाड़ी एचएस प्रणय ने कहा- कोई खिताब न मिला, तो भी मलाल नहीं मेरे पास थॉमस कप है

स्पोर्ट्स डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Published by: स्वप्निल शशांक Updated Thu, 09 Jun 2022 11:31 PM IST
सार

प्रणय भारतीय बैडमिंटन में ‘जाइंट किलर’ के नाम से मशहूर हैं और वह अपने कॅरिअर के दौरान ली चोंग वेई, लिन डैन, चेन लोंग और विक्टर एक्सेलसन जैसे दिग्गज खिलाड़ियों को हरा चुके हैं।

थॉमस कप के साथ एचएस प्रणय
थॉमस कप के साथ एचएस प्रणय - फोटो : सोशल मीडिया
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

पांच साल के व्यक्तिगत खिताब के सूखे को खत्म करने की उम्मीद लगाए बैठे एचएस प्रणय ने कहा कि अगर वह ऐसा नहीं भी कर पाते तो उन्हें कोई मलाल नहीं होगा क्योंकि अब उनके पास थॉमस कप बैडमिंटन टूर्नामेंट का स्वर्ण पदक है।


कई दिग्गजों को दे चुके हैं मात
प्रणय भारतीय बैडमिंटन में ‘जाइंट किलर’ के नाम से मशहूर हैं और वह अपने कॅरिअर के दौरान ली चोंग वेई, लिन डैन, चेन लोंग और विक्टर एक्सेलसन जैसे दिग्गज खिलाड़ियों को हरा चुके हैं। प्रणय हालांकि 2018 में कॅरिअर की सर्वश्रेष्ठ आठवीं रैंकिंग हासिल करने के बावजूद 2017 में अमेरिकी ओपन ग्रां प्री गोल्ड के बाद कोई खिताब नहीं जीत पाए हैं।


प्रणय ने कहा, ‘कुछ असाधारण खिलाड़ी हैं जो लगातार जीत दर्ज कर रहे हैं लेकिन अन्य खिलाड़ी भी हैं जिनमें क्षमता है और उन्होंने बड़े खिलाड़ियों के खिलाफ जीत दर्ज की है लेकिन कभी कुछ बहुत बड़ा नहीं जीत पाए। मैं इस वर्ग में आता हूं। मुझे पता है कि मैंने कोई बहुत बड़ी सफलता हासिल नहीं की है, शायद ऐसा होने वाला हो, जब ऐसा होना होगा तो होगा लेकिन अगर ऐसा नहीं भी होता है तो भी कोई फर्क नहीं पड़ता क्योंकि आपको पता है कि आप प्रयास कर रहे हैं। मुझे लगता है कि मैं खुशकिस्मत था कि मैं थॉमस कप की टीम में शामिल था।’

स्विस ओपन में भी खिताब की दहलीज पर हारे
केरल का यह खिलाड़ी इस साल मार्च में स्विस ओपन सुपर 300 टूर्नामेंट जीतने के करीब पहुंचा था लेकिन उन्हें फाइनल में हार का सामना करना पड़ा। दुनिया के 23वें नंबर के खिलाड़ी प्रणय भले ही खिताब नहीं जीत पाए हों लेकिन उनके प्रदर्शन ने उन्हें थॉमस कप टीम में जगह दिलाई। उन्होंने मलयेशिया तथा डेनमार्क के खिलाफ क्रमश: क्वार्टर फाइनल और सेमीफाइनल में निर्णायक तीसरे एकल मुकाबले को जीतकर भारत को खिताब दिलाने में अहम भूमिका निभाई।

‘इस थॉमस कप टीम का हिस्सा होने के कारण उस लम्हे का हिस्सा बन पाया, पोडियम का हिस्सा बन पाया। मैं भाग्यशाली हूं कि उस अहसास का सामना कर पाया जो दुनिया की किसी और चीज में नहीं मिल सकता।’

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all Sports news in Hindi related to live update of Sports News, live scores and more cricket news etc. Stay updated with us for all breaking news from Sports and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00