Hindi News ›   Uttar Pradesh ›   Agra ›   farmers day agricultural area decreased in 28 years in Agra

किसान दिवस: आगरा में 28 साल में 23.5 हजार हेक्टेयर घटा कृषि क्षेत्र, उन्नत खेती से उत्पादन बढ़ा

अमर उजाला ब्यूरो, आगरा Published by: मुकेश कुमार Updated Thu, 23 Dec 2021 02:58 PM IST

सार

बीते 20 वर्षों में कृषि क्षेत्र कम होने के बावजूद फसलों के उत्पादन और उत्पादकता में बढ़ोत्तरी हुई है। क्योंकि अब किसान साल में सिर्फ एक फसल नहीं, बल्कि तीन फसल तक लेता है।
आलू खोदते किसान (फाइल)।
आलू खोदते किसान (फाइल)। - फोटो : अमर उजाला
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

वर्ष 1991 में आगरा जिले का कृषि क्षेत्र (शुद्ध बोया गया क्षेत्र) 2,82,816 हेक्टेयर था, जो 2019 में 2,59,295 हेक्टेयर हो गया है। यानी बीते 30 साल में कृषि क्षेत्र 23.5 हजार हेक्टेयर कम हुआ। इसके बावजूद उन्नत तकनीक और सालभर में तीन फसल तक लेने से उत्पादन और उत्पादकता में बढ़ोत्तरी हुई है। 

विज्ञापन

कृषि उपनिदेशक पुरुषोत्तम कुमार मिश्र के मुताबिक आगरा में कृषि क्षेत्र कम हुआ है। आगरा से सटे बिचपुरी ब्लॉक के ही अधिकांश गांव शहरी क्षेत्र में आ गए हैं। बरौली ब्लॉक में भी तेजी से बदलाव हुआ है। कृषि क्षेत्र कम होने के बावजूद फसलों के उत्पादन और उत्पादकता में बढ़ोत्तरी हुई है। क्योंकि अब किसान साल में सिर्फ एक फसल नहीं, बल्कि तीन फसल तक लेता है। खेती में नए प्रयोगों ने भी उत्पादन को बढ़ाया है। 

इसके अलावा 30 साल पहले जिस भूमि पर खेती नहीं होती थी, वह कृषि योग्य बनाई गई। वह भूमि वर्तमान में कृषि उपयोगी की श्रेणी में है। जिला कृषि अधिकारी विनोद कुमार सिंह ने बताया कि जिले में सर्वाधिक रकबा गेहूं का 1.25 लाख हेक्टेयर है। कुल 3.98 लाख किसान पंजीकृत हैं। उप निदेशक उद्यान, कौशल कुमार नीरज के मुताबिक आलू का उत्पादन वर्तमान में 280 क्विंटल प्रति हेक्टेयर है। 

छह साल में इस तरह घटा रकबा 
फसल     2014           2015           2016        2017        2018        2019   
गेहूं        120753      120802     120903    128553    134141    132369 
चावल    10164          9401          4892        5252       5432         5296 
बाजरा    118146    129352       115536     122607    113844    118486 
मक्का     45                47              115             50           115           33 
उड़द     150              327             300           132           258        287  

खेती का वर्तमान रकबा
गेहूं     : 1.25 लाख हेक्टेयर 
आलू     : 71 हजार हेक्टेयर 
सरसों    : 65 हजार हेक्टेयर 
जौ    : 15 हजार हेक्टेयर 
चना    : 10 हजार हेक्टेयर 
मटर    : 10 हजार हेक्टेयर 
मसूर दाल    : 08 हजार हेक्टेयर 

इस तरह बढ़ी उत्पादकता (क्विंटल प्रति हेक्टेयर) 
फसल        2014       2015      2016      2017      2018      2019  
गेहूं           32.25     32.35     40.8      40.34       43.69     43.55 
चावल        23.84    23.99    25.42    24.96       24.62       25.76 
बाजर        20.85     19.01    24.49     23.81     22.85        24.82 
मक्का         26        28.51      29.82     30.8     32.91        35.15  
उड़द           4.4        2.91        5.40       5.1       5.55           4.8 

जागरूक हुआ है किसान
गांव सुडरई के किसान महाराज सिंह ने कहा कि किसान जागरूक हुआ है, नई तकनीक के साथ खेती करता है। उसका प्रभाव उत्पादन की बढ़ोत्तरी के रूप में है। किसान पुष्पेंद्र ने कहा कि खेती करने के तौर तरीके बदले। जैविक खेती की तरफ रुझान बढ़ा। इससे उत्पादकता बढ़ी। 

जमीन को उपयोगी बनाया
गांव पीपलखेड़ा के किसान संजीव सिंह ने कहा कि जो जमीन खाली रहती थी, उसे भी कृषि उपयोगी बनाकर किसान ने खेती करना शुरू किया। गांव सहारा के किसान नवल सिंह ने कहा कि कृषि क्षेत्र कम जरूर हुआ है, लेकिन किसान ने कड़ी मेहनत से उत्पादन में बढ़ोत्तरी की है। 
 
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00