गाजीपुर में सीएम योगी: बोले- माफियाओं और गुंडाराज का हुआ खात्मा, कार्रवाई देख विपक्षियों को हो रही पीड़ा

अमर उजाला नेटवर्क, गाजीपुर Published by: गीतार्जुन गौतम Updated Mon, 20 Sep 2021 08:30 PM IST

सार

गाजीपुर के सैदपुर स्थित टाउन नेशनल इंटर कॉलेज परिसर में आयोजित जनसभा में मुख्यमंत्री ने माफिया के खिलाफ कार्रवाई की बात कर न सिर्फ सुरक्षा का भरोसा दिलाया बल्कि विकास की बात कर लोगों का दिल जीतने का प्रयास किया।
गाजीपुर में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लाभार्थियों को प्रमाण-पत्र दिया।
गाजीपुर में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लाभार्थियों को प्रमाण-पत्र दिया। - फोटो : अमर उजाला
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को गाजीपुर पहुंचे।  सैदपुर स्थित टाउन नेशनल इंटर कॉलेज परिसर में जनसभा को संबोधित किया।  कहा कि केंद्र और प्रदेश सरकार ने साढ़े चार साल में देश की तकदीर और तस्वीर बदल दी है। गरीबों, मजलूमों और दलितों का समान रूप से विकास हुआ।
विज्ञापन


इस दौरान उन्होंने प्रदेश सरकार की उपलब्धियां गिनाईं तथा माफिया और गुंडाराज के खात्मे का दावा किया। उन्होंने 195 करोड़ रुपये की 1025 परियोजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास भी किया। जनसभा में मुख्यमंत्री ने माफिया के खिलाफ कार्रवाई की बात कर न सिर्फ सुरक्षा का भरोसा दिलाया बल्कि विकास की बात कर लोगों का दिल जीतने का प्रयास किया।


उमड़ी भीड़ देखकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अभिभूत नजर आए। उन्होंने कहा कि जब सरकार परिवारवाद और स्वार्थ में आ जाती है तब परमार्थ और लोक कल्याण गौण हो जाता है। पिछली सरकार के मुख्यमंत्री और मंत्रिमंडल के जुड़े मंत्री माफिया और खनन का कार्य करने वाले लोगों से गले मिलते थे।

उनसे सांठगांठ कर मौके की कीमती जमीनों पर हवेलियां खड़ी कर ली जाती थी। अब ऐसी हवेलियों पर बुलडोजर चल रहा है। सरकार की इस कार्रवाई से विपक्षी दलों को पीड़ा होने लगी है। कहा कि सरकार अब माफिया के साथ उन नुमाइंदों का भी हिसाब ले रही है जो माफिया के  साथ रह कर जनता का खून चूसने का कार्य करने में कहीं से गुरेज नहीं करते थे।

यह भी पढ़ें- जौनपुर में सीएम योगी: 1.64 अरब की 44 परियोजनाओं का शिलान्यास, बोले- नौकरी के विज्ञापन निकलते ही एक खानदान झोला लेकर निकल पड़ता था
 

हत्या और दंगा कराने वाले लोगों का हो रहा हिसाब

जनप्रतिनिधियों की हत्या और दंगा कराने वाले लोगों का हिसाब हो रहा है। कहा कि जन सामान्य सुरक्षा के साथ ही हर स्वास्थ्य केंद्र पर प्रधानमंत्री आरोग्य संस्थान स्थापना कराई गई है। कन्या सुमंगला योजना के तहत बालिकाओं की शादी की व्यवस्था सरकार करा रही है।

उन्होंने सभा में आई भीड़ का ध्यान आगामी विधानसभा चुनाव की ओर आकृष्ट कराते हुए कहा कि यदि सैदपुर में भी भाजपा का विधायक होता तो इस क्षेत्र का बहुमुखी विकास होता। कहा कि हमारी सरकार विकास का प्लान बनाती है तो विपक्षी विकास में रोड़ा अटकाते हैं। सरकार के एजेंडे में 2017 से 2022 तक कुल 30 मेडिकल कॉलेज खोलने का प्रावधान बनाया गया है।

यह भी पढ़ें- पूर्णिमा का श्राद्ध आज: काशी में पिशाचमोचन कुंड से लेकर गंगा तट तक होंगे पितृपक्ष के तर्पण, जानें सब कुछ

उन्होंने कहा कि गाजीपुर जिले का नवनिर्मित मेडिकल कॉलेज अंतिम चरण में है। इसका नामकरण महर्षि विश्वामित्र के नाम पर होगा। इससे गाजीपुर के अतीत को जोड़ा जाएगा जो उत्तम स्वास्थ्य सुविधाओं के साथ भारतीय पहचान को याद दिलाएगा। पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे की चर्चा करते हुए कहा कि यह पूर्वांचल के लोगों के लिए एक उपलब्धि होगी। केंद्र और राज्य सरकार के सहयोग से बनाए गए इस हाईवे से लोग अब साढ़े तीन घंटे में लखनऊ की दूरी तय कर सकेंगे।

रामायण काल की चर्चा

मुख्यमंत्री निर्धारित समय सुबह 10.55 बजे के बजाए करीब एक घंटे की देरी से दोपहर 12.04 बजे कार्यक्रम स्थल सैदपुर के टाउन नेशनल इंटर कॉलेज पहुंचे। अपने आधे घंटे के संबोधन में  उन्होंने प्रदेश सरकार की साढ़े चार साल की उपलब्धियों और विकास कार्यों के बारे में जानकारी दी।

कहा कि रामायण काल में भी गाजीपुर जनपद की चर्चा हुई है। राजा गाधि के पुत्र महर्षि विश्वामित्र ने यज्ञ में राक्षसों का विघ्न खत्म कराने के लिए अयोध्या के राजा दशरथ से राम और लक्ष्मण को मांग लिया था। इसके बाद लोक कल्याण के लिए यज्ञ को सफल करवाया। इस दौरान मारीच और सुबाहु जैसे राक्षसों का वध कराकर धर्म का राज स्थापित किया।
 

गाजीपुर से माफियाओं का हुआ सफाया

कहा कि गाजीपुर में भी माफिया और अराजकतत्वों ने कब्जा जमा लिया था। प्रदेश सरकार ने इन्हें नेस्तनाबूद करने में लगी है। कहा कि इन माफिया के चलते गाजीपुर के युवा बदनाम हो गए थे। उन्हें बड़े शहरों के होटलों और धर्मशालाओं में जगह नहीं मिलती थी। पहचान का संकट उत्पन्न हो गया था। अब परिस्थितियां बदली हैं और युवाओं को सम्मान मिल रहा है।

उन्होंने कहा कि जनपद में मेडिकल कॉलेज का काम अंतिम चरण में है। इसका नामकरण महर्षि विश्वामित्र के नाम पर होगा। इससे गाजीपुर के अतीत को जोड़ा जाएगा, जो उत्तम स्वास्थ्य सुविधाओं के साथ भारतीय पहचान की याद दिलाएगा। कहा कि पूर्वांचल एक्सप्रेस वे पूर्वांचल के लोगों के लिए उपलब्धि होगी। इससे लोग अब साढ़े तीन घंटे में लखनऊ की दूरी तय कर सकेंगे। 
यह भी पढ़ें- वाराणसी: बीएचयू अस्पताल में जुगाड़ से मरीजों का इलाज, टेलीफोन के तार में लटकाकर मरीज को चढ़ा दी आईवी की बॉटल    

 
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00