लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Uttar Pradesh ›   Lakhimpur Kheri ›   cleaniness abhiyan

ठेले खोमचों पर फैली गंदगी, ऐसे कैसे लगेगी संचारी रोगों पर लगाम

Bareily Bureau बरेली ब्यूरो
Updated Sun, 28 Feb 2021 01:11 AM IST
लखीमपुर अस्पताल रोड पर सड़क किनारे नाली पर खाना बेच रहा दुकानदार
लखीमपुर अस्पताल रोड पर सड़क किनारे नाली पर खाना बेच रहा दुकानदार - फोटो : LAKHIMPUR
विज्ञापन
ख़बर सुनें
लखीमपुर खीरी। सर्दी का मौसम जाने को है पर इससे पहले ही गर्मी ने दस्तक दे दी है। ऐसे में संक्रामक बीमारियों के फैलने का खतरा बढ़ने लगा है। शाम के वक्त लोग ठेलों पर चाट पकौड़ी भी खाने निकल रहे हैं। इनमें से कुछ ठेले तो साफ सुथरे हैं, लेकिन अधिकतर जगह गंदगी दिखाई देती है। उड़ती धूल के बीच खुले में बेची जा रही खाद्य सामग्री देखी जा सकती है। ऐसे में बीमारी फैलना लाजिमी है।

गर्मियों में गंदगी की वजह से संक्रामक बीमारियां फैलने का खतरा बढ़ जाता है, जिसमें धूल बड़ी भूमिका निभाती है। इसके अलावा मक्खी-मच्छरों का प्रकोप बढ़ने से विभिन्न तरह की बीमारियां पनपती हैं। शहर के जिला अस्पताल रोड, महिला अस्पताल रोड, रेलवे स्टेशन, रोडवेज बसअड्डा, विकास भवन रोड, मुख्य बाजार आदि जगहों पर ठेले-खोमचे वाले चाट-पकौड़ी, कबाब पराठा, मोमोज आदि खुले में बेच रहे हैं। कई जगह तो नाले पर खोमचे लगाए गए हैं, जहां पर पहले से ही गंदगी का अंबार है। ऐसे में लोगों को बेहद सावधानी और सतर्कता बरतनी होगी। ज्यादातर खोमचों पर खाद्य सामग्री को खुले में ही रखा जाता है, जिससे इनमें तेज हवा चलने पर धूल, गंदगी पहुंचती रहती है। यह गंदगी लोगों में बीमारियां फैलाती है। खाद्य सुरक्षा औषधि प्रशासन की टीम ने अभी इस दिशा में कोई कार्रवाई शुरू नहीं की है, जिससे लोगों को स्वयं ही जागरूक होकर अपनी सेहत का ख्याल रखना है।

पेट संबंधी हो सकती हैं बीमारियां
खुले में रखकर बेची जा रही चाट-पकौड़ी, समोसा आदि वस्तुओं के दूषित होने पर पेट संबंधी बीमारियां हो सकती हैं। डायरिया, हैजा, कालरा आदि लोगों को आसानी से शिकार बना सकते हैं। सीएचसी के डॉ अमित सिंह बताते हैं कि खुले में बिकने वाले खाद्य पदार्थों के खाने से डायरिया, हैजा, अपच, कोलाइटिस जैसी बीमारियां हो सकती हैं। इसके अलावा लिवर खराब हो सकता है।
मौसम बदलने के साथ ही गर्मी ने दस्तक दे दी है। इससे बीमारियां का प्रकोप बढ़ेगा। बाजार में खुले में बिकने वाली चाट- पकौड़ी के अलावा अन्य खाद्य पदार्थों के सेवन से बीमारियां फैल सकती हैं। अभी तक संबंधित विभाग ने इन्हें जागरूक करने के लिए कोई कदम नहीं उठाया है। - विनय श्रीवास्तव
गर्मी के मौसम में खुले में बिकने वाले खाद्य पदार्थों के सेवन से बीमारियां फैलती हैं। इससे बचने के लिए जागरूकता जरूरी है। ऐसे में खोमचे वालों को खाद्य सामग्री ढककर रखना चाहिए। - राजकुमार गुप्ता
जल्द ही अभियान चलाकर खुले में बिक रहे खाद्य पदार्थों के खिलाफ अभियान चलाया जाएगा। बिना ढके खाद्य सामग्री बेचने वालों पर कार्रवाई की जाएगी। कटे फलों की बिक्री पर पूरी तरह रोक लगाई जाएगी। - कौशलेंद्र शर्मा, अभिहित अधिकारी, एफएसडीए

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00