लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Uttar Pradesh ›   Lucknow ›   Daughters performed duty, lit the pyre of mother

Raebareli: बेटियों ने मां की चिता को दी मुखाग्नि, पिता से बोलीं- बेटे की कमी कभी महसूस नहीं होने देंगी

संवाद न्यूज एजेंसी, रायबरेली Published by: लखनऊ ब्यूरो Updated Sat, 01 Oct 2022 04:55 PM IST
सार

रायबरेली में बेटियों ने मां की अर्थी को कंधा दिया और मुखाग्नि देकर नारी सशक्तिकरणी की मिसाल पेश की। दोनों ने पिता को भरोसा दिलाया कि उन्हें बेटे की कमी कभी महसूस नहीं होने देंगी।

अपनी मां की चिता को अग्नि देतीं बेटियां।
अपनी मां की चिता को अग्नि देतीं बेटियां।
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

बेटियों ने समाज के लिए फिर मिसाल कायम की है। मां के निधन पर बेटे का फर्ज निभाते हुए बेटियों ने मां की अर्थी को कंधा दिया। साथ ही चिता को मुखाग्नि भी दी। बेटियों के इस कदम की लोगों ने सराहना की।


बछरावां कस्बे के सत्य नारायण टोला निवासी गिरजाशंकर वर्मा व्यवसायी हैं। उनकी दो बेटियां प्राची व रुचि हैं। कोई पुत्र नहीं है। प्राची की शादी हो चुकी है, जबकि रुचि बीटीसी करने के बाद अब टीईटी की तैयारी कर रही हैं। गिरजाशंकर की पत्नी ज्ञानवती (65) का गुरुवार रात बीमारी के चलते निधन हो गया था।


गम में डूबी बेटियों ने खुद आगे आकर बेटे का फर्ज निभाते हुए मां की अर्थी को कंधा दिया। साथ ही श्मशान घाट में अंतिम संस्कार की सभी क्रियाएं भी पूरी कीं। इसके बाद दोनों बहनाें ने मां की चिता को मुखाग्नि भी दी।

गम में डूबे पिता को दोनों ने ढांढस बंधाते हुए कहा कि दोनों बहने उन्हें बेटे की कमी कभी भी महसूस नहीं होने देंगी। रुचि ने बेटे की भांति मां का अंतिम संस्कार कर पूरे समाज के सामने नारी सशक्तिकरण की मिसाल पेश की।

खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00