मिशन 2022: शाह-योगी ने किया विश्वविद्यालय का शिलान्यास, सुरक्षा के रहे पुख्ता इंतजाम

अमर उजाला ब्यूरो, सहारनपुर Published by: कपिल kapil Updated Thu, 02 Dec 2021 01:10 AM IST

सार

मंत्री अमित शाह और सीएम योगी ने आज सहारनपुर में विश्वविद्यालय का शिलान्यास किया। इसके बाद दोनों बड़े नेताओं ने जनता को संबोधित किया। वहीं अमित शाह ने समाजवादी पार्टी पर जमकर निशाना साधा।
अमित शाह और सीएम योगी।
अमित शाह और सीएम योगी। - फोटो : amar ujala
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आज यानी गुरावार को सहारनपुर पहुंचे। इस दौरान शाह-योगी ने पुवांरका गांव में मां शाकंभरी देवी राजकीय विश्वविद्यालय का शिलान्यास किया। इनके साथ उप मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा भी मौजूद रहे। वहीं पुलिस-प्रशासन और भाजपा नेताओं ने बुधवार को कार्यक्रम को अंतिम रूप दे दिया था। इसके तहत सभी तैयारियां पूरी कर ली गई थी। एसएसपी ने रूट डायवर्जन प्लान लागू करने के निर्देश दिए थे।
विज्ञापन


पुवांरका में मां शाकंभरी देवी राजकीय विश्वविद्यालय शिलान्यास केंद्रीय गृह मंत्री अमित, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और उप मुख्यमंत्री ने किया। इसके बाद उन्होंने जनसभा को संबोधित किया। कार्यक्रम स्थल पर दस लाख स्कवायर फिट में एक लाख लोगों की क्षमता का पंडाल बनाया गया। इसी हिसाब से उनके बैठने की व्यवस्था की गई। केंद्रीय एडीजी मेरठ जोन राजीव सभरवाल, मंडलायुक्त लोकेश एम, जिलाधिकारी अखिलेश सिंह, एसएसपी आकाश तोमर, एडीएम (ई) डॉ. अर्चना द्विवेदी, एसपी सिटी राजेश कुमार व एसपी देहात अतुल शर्मा ने बुधवार को कार्यक्रम स्थल पर पहुंचकर तैयारियों को अंतिम रूप दिया। इसके साथ ही सभी खामियों को पूरा करने के निर्देश दिए। 


सुरक्षा समेत हेलीकॉप्टर उतारने का रिहर्सल
पुलिस ने सुरक्षा व हेलीकॉप्टर की लैंडिंग का रिहर्सल किया, लेकिन हेलीकॉप्टर को हेलीपैड पर नहीं उतरा। उसे 200 फिट की ऊंचाई तक हेलीपैड पर लाया गया। ऐसा हेलीपैड तैयार न होने की वजह से हुआ। एसएसपी आकाश तोमर ने बताया कि सुरक्षा को लेकर ड्रोन कैमरों से नजर रखी जाएगी। सुरक्षा में नौ एसपी, 20 सीओ, 65 निरीक्षक, 330 सब इंस्पेक्टर, 50 हेडकांस्टेबल, 1550 कांस्टेबल, 258 अंडर ट्रेनिंग कांस्टेबल, आठ कंपनी पीएसी तैनात रहेंगे। वहीं, यातायात व्यवस्था के लिए 15 उपनिरीक्षक 76 कांस्टेबल तैनात रहेंगे। 

तीन हेलीपैड बनाए
मंच से करीब 200 मीटर दूर तीन हेलीपैड बनाए गए हैं, इनमें करीब 2.70 ईंटें लगी हैं। सड़क से 500 मीटर की दूरी पर मंच बनाया गया है। इसके साथ सभा स्थल से 400 मीटर दूर पार्किंग स्थल बनाया है। 

मंत्रियों और भाजपा नेताओं ने देखी व्यवस्था 
भाजपा के प्रदेश मंत्री डॉ. चंद्रमोहन ने पुंवारका मंडल में बैठक की। उन्होंने कहा कि जिले के प्रत्येक परिवार को कार्यक्रम स्थल लेकर आएं। जिससे जनता को केंद्र और प्रदेश सरकार की उपलब्धियों की जानकारी मिल सके। पूर्व सांसद राघव लखनपाल शर्मा ने कार्यक्रम को सफल बनाने का आह्वान किया। इनके अतिरिक्त पंचायती राजमंत्री भूपेंद्र सिंह, जिला प्रभारी व कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही, गन्ना मंत्री सुरेश राणा, आयुष राज्यमंत्री डॉ. धर्म सिंह सैनी समेत कई मंत्रियों और शीर्ष नेताओं ने कार्यक्रम स्थल का दौरा किया। इसके साथ ही कृषि मंत्री सूर्यप्रताप शाही ने सर्किट हाउस में पत्रकार वार्ता कर केंद्र और प्रदेश सरकार की उपलब्धियों की जानकारी दी। इसके अतिरिक्त मंत्रियों और पदाधिकारियों की बैठकें चलती रहीं।

ये रहेगी यातायात व्यवस्था
- थाना प्रभारी गागलहेड़ी बाईपास कट से शहर प्रवेश मार्ग पर डायवर्जन प्लान लागू कराएंगे। कार्यक्रम में आने वाले वाहनों को छोड़कर अंबाला की तरफ जाने वाले वाहन बाईपास से जाएंगे। 
- थाना प्रभारी सरसावा बाईपास से कार्यक्रम में आने वाले वाहनों को छोड़कर देहरादून की ओर जाने वाले वाहनों को बाईपास से निकालेंगे।
- थाना प्रभारी रामपुर मनिहारान चुन्हेटी बाईपास सर्विस रोड पर कार्यक्रम में आने वाले वाहनों को छोड़, देहरादून व अंबाला की ओर जाने वाले वाहनों को बाईपास से निकलवाएंगे।
- थाना प्रभारी नागल लाखनौर बाईपास सर्विस रोड पर डायवर्जन का अनुपालन कराएं। देहरादून और अंबाला की तरफ जाने वाले वाहनों को बाईपास से निकालेंगे। 
- थाना प्रभारी जनकपुरी कार्यक्रम में शामिल होने वाले वाहनों को छोड़कर राकेश केमिकल की ओर से गांव बरौली की ओर जाने वाले वाहनों को नुमाइशकैंप भारत माता चौक, पुरानी चुंगी, बेहट रोड की तरफ से निकलवाएंगे। 
- थाना प्रभारी कोतवाली नगर पुरानी चुंगी, भारत माता चौक, बेहट अड्डे पर यातायात व्यवस्था सुचारु बनाए रखने में मदद करेंगे। 
- थाना प्रभारी बेहट बरौली चौक पर पर्याप्त पुलिस बल लगाकर पुवांरका व मुजफ्फराबाद की ओर जाने वाले वाहनों को कलसिया से निकलवाएंगे। 

मुख्यमंत्री से आस, मेडिकल कॉलेज को भी है सुविधाओं की दरकार 
गृह मंत्री अमित शाह और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आज राज्य विश्वविद्यालय का शिलान्यास करने सहारनपुर पहुंच रहे हैं। राजकीय विश्वविद्यालय बनने के बाद उच्च शिक्षा के लिए विद्यार्थियों को बाहर नहीं जाना होगा। वहीं शिक्षा के साथ ही चिकित्सा भी प्रत्येक व्यक्ति की ऐसी जरूरत है, जिसका खर्च उठा पाना सभी के लिए आसान नहीं होता है। जनपद में शेखुल हिंद मौलाना महमूद हसन राजकीय मेडिकल कॉलेज को शुरू हुए पूरे दस साल बीत चुके हैं, मगर मेडिकल कॉलेज में चिकित्सा सुविधाओं के नाम पर विशेष कुछ नहीं है। नतीजा यह है कि गंभीर मरीजों को इमरजेंसी वार्ड ही से रेफर कर दिया जाता है। प्रति वर्ष कई मरीज हायर सेंटर पहुंचने से पहले ही दम तोड़ देते हैं। ऐसे में जनपद के साथ ही आसपास के जिलों की जनता को भी आपसे मेडिकल कॉलेज को पीजीआई बनाने और विशेष सुविधाएं देने की उम्मीद है।

इन सुविधाओं का है अभाव 
रेडियोलॉजी विभाग में सीटीएमआरआई की सुविधा नहीं
न्यूरो की सुविधाएं जैसे न्यूरो फिजीशियन और न्यूरो सर्जन नहीं
दिल के मरीजों के लिए कैथ लैब और टीएमटी की सुविधा नहीं 
ट्रॉमा सेंटर भी नहीं
न्यू बोर्न केयर यूनिट विकसित नहीं 
सिटी स्कैन की सुविधा नहीं
प्रोफेसरों की 70 फीसदी कमी 
एसोसिएट प्रोफेसरों की 60 फीसदी कमी 
जेई सिविल, जेई बॉयो मेडिकल और जेई बिजली नहीं
संसाधनों की मरम्मत के लिए बजट का अभाव

भर्ती मरीजों की संख्या भी कम
राजकीय मेडिकल कॉलेज में 510 बिस्तर का अस्पताल भी है। एमसीआई (मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया) की शर्तों के अनुसार मेडिकल कॉलेज के अस्पताल में 70 फीसदी मरीज भर्ती रहने चाहिए, लेकिन ऐसा नहीं है। कॉलेज सूत्रों के अनुसार 510 बेड के अस्पताल में तीन नवंबर को कॉलेज में मात्र 32 मरीज भर्ती थे। 

पीजी शुरू हो तो बढ़ेंगी सुविधाएं 
राजकीय मेडिकल कॉलेज अभी यूजी (अंडर ग्रेजुएट) तक ही है। यहां से अभी तक एमबीबीएस का एक ही बैच निकला है। यदि कॉलेज को पीजीआई का दर्जा मिल जाए तो यहां स्वास्थ्य सुविधाएं अपने आप बढ़ जाएंगी। 

उठ चुकी है एम्स बनाने की मांग 
कैराना से भाजपा सांसद प्रदीप चौधरी मार्च 2021 में राजकीय मेडिकल कॉलेज, पिलखनी को एम्स (अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान) का दर्जा और सुविधाएं देने की मांग कर चुके हैं, अभी तक कुछ नहीं हुआ है। यदि यह मांग पूरी होती है तो इससे ना केवल उत्तर प्रदेश के कई जिलों को लाभ होगा, बल्कि हरियाणा की जनता भी इसका फायदा उठा सकेगी। इसके अलावा पिछड़ा वर्ग आयोग के अध्यक्ष जसवंत सैनी ने जून 2021 में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिलकर मेडिकल कॉलेज के लिए सुविधाएं मांगी थी। 

राजकीय मेडिकल कॉलेज में प्रोफेसरों की 70 फीसदी कमी है। इसके अलावा कईं विभाग और चिकित्सा सुविधाएं भी अभी तक नहीं मिल सकी हैं। यदि बिजली खराब हो जाए तो उसके लिए जेई तक हमारे पास नहीं है। फिर भी हम मौजूदा संसाधनों से जनता को बेहतर से बेहतर सुविधाएं देने का प्रयास कर रहे हैं। - डॉ. अरविंद त्रिवेदी, प्राचार्य, राजकीय मेडिकल कॉलेज, पिलखनी।
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00