लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   World ›   Indonesia Stampede: Weeds shadow as soon as dead bodies reached home 18 officers were held responsible

Indonesia Stampede: मारे गए लोगों के शव घर पहुंचते ही छाया मातम, 18 अधिकारियों को ठहराया गया जिम्मेदार

एजेंसी, जेम्बर। Published by: देव कश्यप Updated Tue, 04 Oct 2022 02:54 AM IST
सार

मैच के बाद हुए विवाद को शांत करने के लिए पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़े थे, जिसके चलते प्रशंसकों के बीच भगदड़ मच गई थी और ज्यादातर लोगों की मौत भीड़ से कुचले जाने के कारण हुई।

इंडोनेशिया में फुटबॉल मैच के दौरान मची भगदड़ का नजारा।
इंडोनेशिया में फुटबॉल मैच के दौरान मची भगदड़ का नजारा। - फोटो : सोशल मीडिया
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

इंडोनेशिया में शनिवार शाम एक फुटबॉल मैच के बाद मची भगदड़ में मारे गए 125 लोगों के शवों के सोमवार को उनके घर पहुंचते ही उनके परिवार और दोस्तों के बीच शोक की लहर दौड़ गई। मृतकों में 17 बच्चे भी शामिल हैं। पुलिस ने घटना के लिए 18 अधिकारियों को जिम्मेदार ठहराया है।



मैच के बाद हुए विवाद को शांत करने के लिए पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़े थे, जिसके चलते प्रशंसकों के बीच भगदड़ मच गई थी और ज्यादातर लोगों की मौत भीड़ से कुचले जाने के कारण हुई। आर्मेनियाई फैकोतुल हिकमाह (22) का शव कंजुरुहान स्टेडियम की एक इमारत से मिला पूर्वी जावा के जेम्बर में जैसे ही उसका शव लाया गया रिश्तेदारों का संयम टूट गया। 


उसके दोस्त अब्दुल मुकीद चार दोस्तों समेत ब्लैक में टिकट लेकर मैच देखने गए लेकिन हादसे में दो की मौत हो गई। उसने बताया हालात बेहद खतरनाक थे। मेरे एक अन्य मित्र नोवर पुत्रा औलिया (19) की भी मौत हो गई। पुलिस ने बताया कि हादसे में 323 लोग घायल हुए हैं और उनमें से कुछ की हालत गंभीर है।

अफसरों की जांच और पूछताछ जारी
राष्ट्रीय पुलिस प्रवक्ता डेडी प्रसेट्यो ने सोमवार को कहा कि पुलिस आंसू गैस के गोले छोड़ने के लिए जिम्मेदार 18 अधिकारियों व सुरक्षा प्रबंधकों से भी पूछताछ कर रही है। स्टेडियम में आंसू गैस नहीं छोड़ी जा सकती थी। उन्होंने बताया कि पुलिस अब भी चश्मदीदों से पूछताछ कर रही है।

कानून तोड़ने वालों का पता लगाएंगे
सुरक्षा मंत्री मोहम्मद महफूद ने बताया कि स्टेडियम में कानून तोड़ने वालों का पता लगाने के लिए उनके नेतृत्व में एक दल अलग से जांच करेगा। यह दल इस बात का भी फैसला करेगा की पीड़ितों को कितना मुआवजा दिया जाना चाहिए। दल अपनी जांच तीन सप्ताह में पूरी करेगा।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get latest World News headlines in Hindi related political news, sports news, Business news all breaking news and live updates. Stay updated with us for all latest Hindi news.

विज्ञापन
विज्ञापन
Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00