Hindi News ›   World ›   Unlikely that people will move around with masks on forever says Dr Anthony Fauci on new normal COVID-19 Pandemic news and updates

US के सबसे बड़े विशेषज्ञ का दावा: लोगों को हमेशा के लिए नहीं पहनना पड़ेगा मास्क, पर महामारी के खात्मे का अंदाजा लगाना मुश्किल

वर्ल्ड डेस्क, अमर उजाला, वॉशिंगटन Published by: कीर्तिवर्धन मिश्र Updated Mon, 17 Jan 2022 08:09 PM IST

सार

WEF के सत्र के दौरान डॉक्टर फौची ने कहा कि अभी यह अंदाजा लगाना मुश्किल है कि सामान्य स्थिति क्या होगी। लेकिन यह तो तय है कि लोगों को हमेशा के लिए मास्क पहनकर नहीं निकलना होगा।
डॉक्टर एंथनी फौची।
डॉक्टर एंथनी फौची। - फोटो : Twitter
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

कोरोनावायरस महामारी को लेकर सोमवार को वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम (WEF) के दावोस एजेंडा समिट में वैश्विक स्वास्थ्य विशेषज्ञों का एक अहम सत्र आयोजित हुआ। इसमें वैज्ञानिकों ने कोरोनावायरस के आगामी वैरिएंट्स के खतरे को लेकर आगाह किया। साथ ही इस महामारी को खत्म माने जाने को लेकर चेतावनी भी जारी की। समिट में सबसे अहम बयान दुनिया के अमेरिका के महामारी विशेषज्ञ डॉक्टर एंथनी फौची की तरफ से आया, जिन्होंने उम्मीद जताई कि लोगों को हमेशा के लिए मास्क पहनकर नहीं जीना होगा। 


क्या बोले महामारी विशेषज्ञ?
WEF के सत्र के दौरान डॉक्टर फौची ने कहा कि अभी यह अंदाजा लगाना मुश्किल है कि सामान्य स्थिति क्या होगी। लेकिन यह तो तय है कि लोगों को हमेशा के लिए मास्क पहनकर नहीं निकलना होगा। ओमिक्रॉन वैरिएंट पर फौची ने कहा, "ये वैरिएंट बेहद संक्रामक है, लेकिन यह ज्यादा खतरनाक नहीं है। उम्मीद है कि अभी हालात ऐसे ही रहेंगे। आगे आने वाली स्थिति नए वैरिएंट्स के असर पर ज्यादा निर्भर करेगी।"


फौची ने कोरना को लेकर जारी गलत खबरों के बारे में भी बात की उन्होंने कहा कि इससे महामारी के खिलाफ किए जा रहे साझा प्रयासों को नुकसान होता है। कोरोना के भविष्य को लेकर महामारी विशेषज्ञ ने बताया कि हो सकता है कि आगे यह वायरस खत्म न हो, लेकिन इसकी मौजूदगी से कोई बड़ी परेशानी भी न हो। लेकिन ऐसी स्थिति आने का दावा अभी नहीं किया जा सकता। 

इसी समिट में डॉक्टर फौची के साथ मौजूद संक्रामक रोगों के विशेषज्ञ विल्डर स्मिथ ने कहा कि ओमिक्रॉन आखिरी वैरिएंट नहीं होगा और हम अभी महामारी से बाहर नहीं आ पाए हैं। 

अमेरिका के सबसे बड़े महामारी विशेषज्ञ हैं डॉक्टर फौची
गौरतलब है कि डॉक्टर फौची अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन के मुख्य चिकित्सा सलाहकार हैं। इसके अलावा वे अमेरिका के राष्ट्रीय संक्रामक रोग संस्थान के निदेशक का पद भी संभाल रहे हैं। कोरोना महामारी के दौरान फौची की सलाहों को पूरी दुनिया में अहमियत मिली है और वायरस से लड़ाई में वे वैक्सीन के इस्तेमाल को बढ़ावा देते देखे गए हैं। 
 

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get latest World News headlines in Hindi related political news, sports news, Business news all breaking news and live updates. Stay updated with us for all latest Hindi news.

विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00